मरकज़ में आए 200 विदेशी अभी भी कई मस्जिदों में हैं मौजूद, जांच में जुटी स्पेशल टीम

देश की राजधानी के हजरत निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज़ के कार्यक्रम में शामिल होने वाले वाले 200 अन्य विदेशियों के अलग-अलग मस्जिदों में होने की जानकारी पुलिस की स्पेशल सेल ने….

नई दिल्ली: देश की राजधानी के हजरत निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज़ के कार्यक्रम में शामिल होने वाले वाले 200 अन्य विदेशियों के अलग-अलग मस्जिदों में होने की जानकारी पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली सरकार को दी है। इनमें से लगभग 100 लोगों की पहचान के साथ ही यह भी पता कर लिया गया है कि ये सभी‌ देश की किन मस्जिदों में रुके हुए हैं।

ये भी पढ़ें: इस फार्मा कंपनी के 10 लोग कोरोना पॉजिटिव: बंद प्लांट, क्वॉरंटीन में हजारों कर्मचारी

बता दें कि सात अन्य इंडोनेशियाई नागरिक जो मरकज़ के आयोजन में हिस्सा लेकर मंगोलपुरी इलाके में स्थित एक मस्जिद में रुके हुए थे, उन सभी को आइसोलेशन सेंटर में भेज दिया गया है। इस मामले देशभर में कोरोना के संक्रमण के चलते किए गए लॉकडाउन के उल्लंघन के तौर पर देखा जा रहा है और इस संबंध में दिल्ली पुलिस ने एक एफआईआर भी दर्ज की है।

सूत्रों के मुताबिक जिन 200 लोगों के दिल्ली की अलग-अलग मस्जिदों में रुके होने की रिपोर्ट स्पेशल सेल ने सरकार को दी है, उनमें आठ देशों के नागरिक हैं। ये लोग इंडोनेशिया, बेल्जियम, अल्जीरिया, मलेशिया, इटली, ट्यूनीशिया, बांग्लादेश और किर्गिस्तान से मरकज़ में हिस्सा लेने के लिए भारत पहुंचे थे। पुलिस को आशंका है कि ये लोग कोरोना के संक्रमण की चपेट में हो सकते हैं और इनके चलते अन्य लोगों में भी संक्रमण का खतरा है।

ये भी पढ़ें: तबलीगी जमात के मुद्दे पर छिड़ी सियासी जंग, सोशल मीडिया बना बड़ा अखाड़ा

बता दें कि इस मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी। गौरतलब है कि मंगलवार सुबह सीएम अरविंद केजरीवाल और सोमवार रात दिल्ली के हैल्थ मिनिस्टर सतेन्द्र जैन ने एलजी को एक खत लिखा था। खत में मरकज की इंतजामियां के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की सिफारिश की गई थी।

ये भी पढ़ें: यूपी सरकार का दावा :तबलीगी जमात में शामिल 95 फीसदी की हुई पहचान