Live दिल्ली हिंसा: दिल्ली पुलिस ने ताहिर के घर को किया सील, सरकार ने एसआईटी टीम का भी किया गठन

राष्ट्रीय राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा में अब तक 34 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं।

Published by Shreya Published: February 27, 2020 | 9:06 am
Modified: February 27, 2020 | 7:13 pm

नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है। दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा है। इस पर हाई कोर्ट ने 13 अप्रैल तक का समय दे दिया है। तब तक केंद्र सरकार को भड़काऊ भाषण पर रिपोर्ट सौंपनी होगी।

दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन के घर को सिल  कर दिया है,वहीं दूसरी ओर सरकार ने दिल्ली हिंसा की जांच के लिए एसआईटी टीम का भी गठन कर दिया है।

ये भी पढ़ें-सरकार का ये खास प्लान: अब नहीं बढ़ेंगे इनके दाम, उठाया ये कदम

अब मामले की अगली सुनवाई 13 अप्रैल को होगी। इसके साथ ही हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार यानी गृह मंत्रालय को दिल्ली हिंसा मामले में पक्षकार बनाए जाने की दलील को मंजूरी दी।

राष्ट्रीय राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा में अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 150 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में पिछले दो दिनों में उपद्रवियों ने जमकर हिंसा की। हालांकि राहत की बात ये रही कि बुधवार को ऐसी कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। दिल्ली पुलिस भी ये दावा कर रही है कि हालात काबू में है।

आज दिल्ली पुलिस हाई कोर्ट में देगी जवाब

वहीं उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ( (National Security Advisor- NSA) अजित डोभाल भी एक्शन में हैं। उन्होंने बुधवार को भी हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया और कहा है कि सब शांत है। वहीं दिल्ली पुलिस के लिए गुरुवार का दिन बेहद महत्वपूर्ण होने वाला वहै।दिल्ली पुलिस के कमिश्नर अमूल्य पटनायक नेताओं के भड़काऊ भाषण वाले वीडियो देखने के बाद गुरुवार दोपहर सवा दो (2.15) बजे दिल्ली हाई कोर्ट में जवाब देना है।

LIVE UPDATE…

सोनिया ने फिर मांगा अमित शाह का इस्तीफा

दिल्ली हिंसा के मसले पर कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर है और खुद सोनिया गांधी इसकी अगुवाई कर रही हैं। बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद आज फिर सोनिया ने मीडिया से बात की। सोनिया ने केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार पर निशाना साधा और कहा कि हिंसा के दौरान दोनों सरकारें मूकदर्शक बनी रहीं।

सोनिया गांधी ने भी कहा कि हमने राष्ट्रपति से अपील की है कि कानून की रक्षा की जिम्मेदारी आपकी है, ऐसे में आप केंद्र सरकार को राजधर्म याद दिलाएं।


गौरतलब है कि कांग्रेस की ओर से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा आनंद शर्मा, मल्लिकार्जुन खड़गे, पी. चिदंबरम शामिल रहे।

राष्ट्रपति से मिला कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल

सोनिया गांधी ने भी कहा कि हमने राष्ट्रपति से अपील की है कि कानून की रक्षा की जिम्मेदारी आपकी है, ऐसे में आप केंद्र सरकार को राजधर्म याद दिलाएं। गौरतलब है कि कांग्रेस की ओर से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा आनंद शर्मा, मल्लिकार्जुन खड़गे, पी. चिदंबरम शामिल रहे।

01.25 PM: राजधानी दिल्ली में हिंसा थमी, अब शांति
अबतक 35 की मौत, 150 से अधिक घायल
अजित डोभाल ने सड़कों पर लोगों से की बात
पीएम नरेंद्र मोदी ने शांति की अपील की

01.00 PM: दिल्ली हिंसा में कई इलाकों में भारी नुकसान हुआ हैं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक की और पुनर्वास की योजना पर आगे बढ़ने को कहा। इस दौरान चीफ सेक्रेटरी भी बैठक में शामिल हुए।

12.25 PM: दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर एसएन. श्रीवास्तव का कहना है कि अभी दिल्ली में हालात पूरी तरह से नॉर्मल हैं। पुलिस की ओर से लगातार केस दर्ज किए जा रहे हैं, जल्द ही कई गिरफ्तारियां भी की जाएंगी।

यह भी पढ़ें: काम की जगह जब होने लगे इनसे प्यार तो खुद को कैसे संभालेंगे आप, जानिए ये TIPS

हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को जारी किया था निर्देश

दरअसल, कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फरमान जारी किया है। हाई कोर्ट ने पुलिस को भड़काऊ वीडियो देख एक्शन लेने का निर्देश दिया है।दिल्ली पुलिस को गुरुवार 27 फरवरी तक जवाब देने का निर्देश जारी किया है। हाई कोर्ट के निर्देश के बाद दिल्ली पुलिस को नेताओं के भड़काऊ भाषण देखने के बाद गुरुवार को जवाब देना है।

अब तक 106 लोगों को किया गया गिरफ्तार

वहीं दिल्ली हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस के पीआरओ MS रंधावा ने कल बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स की थी। उन्होंने कहा कि दिल्ली हिंसा मामले में उपद्रव करने और हिंसा फैलाने के आरोप में अब तक 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इस मामले में 18 एफआईआर दर्ज की गई है।

सीसीटीवी के आधार पर कार्रवाई जारी

MS रंधावा ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के जरिए कार्रवाई जारी है। हिंसाग्रस्त इलाकों में भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है। इलाकों पर ड्रोन कैमरे से निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि जिनके छतों पर पत्थर देखे जाएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने बताया कि अब हालात काबू में हैं।

यह भी पढ़ें: खुलासा: इस भारतीय लड़की के प्यार में ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल, जल्द करेंगे शादी

एऩएसए अजित डोभाल ने हिंसाग्रस्त इलाकों का किया दौरा

वहीं एऩएसए अजित डोभाल ने मंगलवार के बाद बुधवार को भी हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा करने पहुंचे थे। उन्होंने मौजपुर, जाफराबाद और घोंडा का दौरा किया। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है, साथ ही ये भरोसा दिलाया है कि उनकी सुरक्षा में दिल्ली पुलिस हमेशा मुस्तैद है। उन्होंने कहा कि जो भी हिंसा के दोषी है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

उन्होंने हिंसा प्रभावित नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली का दौरा किया और लोगों से बातचीत की हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद अजीत डोभाल नॉर्थ ब्लॉक पहुंचे और गृह मंत्री अमित शाह को हालात की जानकारी दी।

मारे गए लोगों के परिजनों को मिलेगा 2-2 लाख रुपये मुआवजा

वहीं दिल्ली सरकार शहीद हेड कॉन्सटेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ रुपये और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा में इसकी घोषणा की है। इसके अलावा दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये मुआवजा देने का एलान किया गया है। साथ ही घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की गई है।

यह भी पढ़ें: 27 फरवरी राशिफल: पैसों की लेन-देन से दूर रहें ये 3 राशियां, जानिए बाकी का भाग्य