Top

महिला पायलटों का कमाल: भरी सबसे लंबी उड़ान, बताया कैसी रही यात्रा

आम तौर पर एयरलाइन कंपनियां यूरोप या जापान होते हुए सैन फ्रैंसिस्को से भारत पहुंचती हैं, लेकिन इन महिला पायलटों ने उत्तरी ध्रुव के रास्ते अटलांटिक वायु मार्ग से उड़ान भर नया कीर्तिमान स्थापित किया है। 

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 11 Jan 2021 11:55 AM GMT

महिला पायलटों का कमाल: भरी सबसे लंबी उड़ान, बताया कैसी रही यात्रा
X
महिला पायलटों का कमाल: भरी सबसे लंबी उड़ान, बताया कैसी रही यात्रा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आज की इस 21st सेंचुरी में महिलाएं हर फील्ड में अपना ना केवल हाथ आजमा रही हैं, बल्कि सभी क्षेत्रों में अपना डंका भी बजा रही हैं। इस बीच चार महिला पायलटों ने एक ऐसा कमाल करके दिखा दिया, जिसके बाद देश से लेकर विदेश में उनकी चर्चाएं हो रही हैं। हम बात कर रहे हैं एयर इंडिया (Air India) की महिला पायलटों की, जिन्होंने ने दुनिया की सबसे लंबे हवाई मार्ग उत्तरी ध्रुव (North Pole) पर उड़ान भर इतिहास रच दिया है।

महिलाओं ने स्थापित किया नया कीर्तिमान

आपको बता दें कि ये महिलाएं अमेरिका के सैन फ्रैंसिस्को (San Francisco) से बेंगलुरु पहुंची हैं। इस रूट के बीच की दूरी करीब 16 हजार किलोमीटर की है। महिलाओं के इस जज्बे को खुद विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सलाम किया है। बताते चलें कि आम तौर पर एयरलाइन कंपनियां यूरोप या जापान होते हुए सैन फ्रैंसिस्को से भारत पहुंचती हैं, लेकिन इन महिला पायलटों ने उत्तरी ध्रुव के रास्ते अटलांटिक वायु मार्ग से उड़ान भर नया कीर्तिमान स्थापित किया है।

यह भी पढ़ें: असम में बोले नड्डा-बोडो संकट 50 दशकों से लटका हुआ था, मोदी सरकार ने हल किया

जोया ने बताया कैसा रहा सफर

इस फ्लाइट में केवल महिला क्रू मेंबर्स ही थीं। इन्होंने रविवार यानी दस जनवरी को सैन फ्रैंसिस्को से उड़ान भरी थी और 17 घंटे का लंबा सफर कर भारत के बेंगलुरु पहुंची हैं। महिला पायलटों की इस टीम को पायलट कैप्टन जोया अग्रवाल (Capt Zoya Agarwal) ने लीड किया है। उन्होंने कहा कि आज हमने ना केवल उत्तरी ध्रुव के ऊपर से बल्कि सभी महिला पायलटों के साथ उड़ान भरकर विश्व इतिहास रचा है। उन्होंने कहा कि इस रूट से यात्रा कर हमने दस टन ईंधन की बचत की है।

यह भी पढ़ें: खाई से निकाला ट्रक: गांव वालों को सलाम कर रहा देश, खींचकर किया बाहर

बता दें कि जोया अग्रवाल के अलावा इस क्रू में कैप्टन पापागरी तनमई, कैप्टन शिवानी मन्हास और कैप्टन आकांक्षा सोनवरे शामिल रहीं। कैप्टन शिवानी मन्हास ने कहा कि अभूतपूर्व अनुभूति है। इस सफर में हमे करीब 17 घंटे का समय लगा।

एयर इंडिया ने किया वेलकम

वहीं एयर इंडिया ने इस बारे में ट्वीट करते हुए लिखा कि वेलकम होम। कैप्टन कैप्टन जोया कैप्टन पापागरी तनमई, कैप्टन शिवानी और कैप्टन आकांक्षा सोनवरे की ये जर्नी लैंडमार्चक साबित होगी। एयर इंडिया को गौरवान्वित करने के लिए बधाई। हम AI176 के पैसेंजर्स को भी बधाई देते हैं, जो इस ऐतिहासिक सफर का हिस्सा बने।



यह भी पढ़ें: महिला पायलटों ने रचा इतिहास, नॉर्थ पोल पार कर भारत पहुंचा एयर इंडिया का विमान

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story