पकड़ा गया असम का ‘लादेन’, मचा रहा था तबाही, खौफ में जी रही थी जनता

असम के गोलापारा के जंगली इलाकों में तबाही मचाए रखने वाले हाथी लादेन सोमवार को आखिरकार पकड़ लिया गया है। हाथी लादेन की वजह से 5 लोगों की मौत भी हो चुकी है।

पकड़ा गया असम का 'लादेन', मचा रहा था तबाही, खौफ में जी रही थी जनता

पकड़ा गया असम का 'लादेन', मचा रहा था तबाही, खौफ में जी रही थी जनता

गुवाहाटी: असम के गोलापारा के जंगली इलाकों में तबाही मचाए रखने वाले हाथी लादेन सोमवार को आखिरकार पकड़ लिया गया है। हाथी लादेन की वजह से 5 लोगों की मौत भी हो चुकी है। अब ये हाथी पकड़ लिया गया है और इसको पकड़ने में बीजेपी विधायक पदम हजारिका का बड़ा हाथ है। दरअसल, लादेन को बेहोश करने के लिए पदम हजारिका ने अपनी बंदूक से एक डार्ट फायर किया था।

यह भी पढ़ें: फिर कांपी उत्तराखंड की धरती, महसूस किए गए भूकंप के झटके, लोगों में दहशत

पदम हजारिका ने की मदद

सुतिया से विधायक पदम हजारिका इस ऑपरेशन में शामिल हुए, इसके लिए उन्होंने अपने प्रशिक्षित हाथियों में से एक हाथी का सहारा लिया और उसकी पीठ पर बैठकर इस ऑपरेशन में शामिल हुए। न केवल वो इस ऑपरेशन में शामिल हुए बल्कि उन्होंने लादेन को खोजने में वन विभाग की टीम की मदद भी की। पदम हजारिका के इस योगदान की बहुत लोगों ने सराहना की है। इस पर पदम हजारिका ने कहा कि, जनता के आशीर्वाद और वन विभाग के सहयोग की वजह से हम जंगली हाथी लादेन को पकड़ने में कामयाब रहे।

रेड्डी ने हजारिका से की थी मदद के लिए अनुरोध

बता दें कि, पिछले हफ्ते चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन टीवी रेड्डी ने मदद के लिए हजारिका से अनुरोध किया था। अपने पत्र में रेड्डी ने लिखा था कि, जंगली हाथियों से निबटने के विधायक महोदय के बहुमूल्य अनुभव की मदद से दूसरे हाथियों और इंसानों की जान को बिना खतरे में डाले हुए इस अभियान को पूरा किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: बहुत कम श्रद्धालु दर्शन के लिए जा रहे करतारपुर, ये है बड़ी वजह

इस अभियान को लेकर चीफ फॉरेस्ट कंजर्वेटर आकाशदीप बरुआ ने कहा कि, हमने सोमवार सुबह ही हाथी लादेन को पकड़ने का अभियान शुरु कर दिया था और दोपहर 12:30 तक उसे पूरा कर लिया। पकड़ा गया हाथा हमारी देखरेख में है और ठीक है। मंगलवार की सुबह हम उसे दूसरी जहद पहुंचाने की कोशिश करेंगे।

लादेन को गोलापारा से 350 किलोमीटर दूर लुमडिंग रिजर्व फॉरेस्ट में भेजने की तैयारी है। हजारिका को इस योगदान के लिए बधाई देते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि, लंबे समय से डर में रह रहे लोगों की मदद के लिए आए सुतिया के विधायक सच्चे मायनों में सच्चे जनप्रतिनिधि साबित हुए हैं।

यह भी पढ़ें: सूरजकुंड मेले की थीम बन कर तैयार, जान लेंगे तो नहीं कर पाएंगे फरवरी का इंतजार