भारत-ऑस्ट्रेलिया मैच के बीच CAA का विरोध, प्रदर्शनकारियों ने PM से की ये बड़ी मांग

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में मंगलवार को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एकदिवसीय मैच खेला जा रहा है। इस दौरान ही कुछ दर्शकों ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया।

नई दिल्ली: महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में मंगलवार को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एकदिवसीय मैच खेला जा रहा है। इस दौरान ही कुछ दर्शकों ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया। इन लोगों ने मुंबई के प्रसिद्ध वानखेड़े स्टेडियम के मैदान में सीएए और एनपीआर के विरोध में टीशर्ट पहनकर सरकार के फैसला का विरोध जताया।

इस विरोध की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी शेयर की गईं। यह प्रदर्शन उस समय हुआ, जब वानखेड़े स्टेडियम में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के साथ एकदिवसीय मैच खेल रही है।

विरोध करने वाले दर्शकों ने कहा कि हमें सिर्फ इस बात का अफसोस है कि कई दिनों से हो रहे प्रदर्शनों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार भी छात्रों से बातचीत नहीं की। हम अपने प्रधानमंत्री से बात नहीं कर पा रहे। हम इसलिए ही विरोध करने गए कि पीएम नरेंद्र मोदी हमसे बात करें। पीएम नरेंद्र मोदी बड़े लोगों को बुलाते हैं तो उनकी छात्रों से क्या नाराजगी है?

यह भी पढ़ें…जम्मू-कश्मीर में बर्फीले तूफान का कहर, जवानों समेत 10 की मौत, कई जवान फंसे

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि पीएम मोदी ने नोटबंदी से लेकर अब तक कई बयान दिए हैं, लेकिन काम नहीं किया। पीएम अब 2014 के प्रधानमंत्री नहीं हैं और अब काम करने का समय है।

उन्होंने कहा कि पीएम अगर चाहें तो वह अपने आवास पर छात्रों की एक बैठक कर हमसे बात करें, जिसमें हम उन्हें बता सकें कि यह कानून हमारे देश को कैसे कमजोर कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…अब PoK होगा हमारा! सेना प्रमुख के बयान का सरकार ने किया समर्थन

तो वहीं दिल्ली के शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ महिलाओं के चल रहे प्रदर्शन के साथ ही खुरेजी में भी महिलाओं ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें…मोदी-शाह-डोभाल की जान को खतरा, साध्वी पज्ञा के घर आई चिट्ठी में हुआ बड़ा खुलासा

गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से नागरिकता कानून और एनआरसी का विरोध हो रहा है। बीते कुछ दिनों में विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के कई छात्र इन मुद्दों पर सड़क पर उतरे हैं। वहीं दिल्ली समेत तमाम हिस्सों में हुए हिंसक प्रदर्शनों के कारण कई लोगों की जान भी जा चुकी है।