जम्मू-कश्मीर में बर्फीले तूफान का कहर, जवानों समेत 10 की मौत, कई जवान फंसे

जम्मू-कश्मीर में बर्फीले तूफान ने तबाही मचाई है। कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में हिमस्खलन की वजह से 4 जवान शहीद हो गए हैं, वहीं एक जवान को सुरक्षित निकाल लिया गया है। इसके अलावा नौगाम सेक्टर हुए एक हिमस्खलन के चपेट में आने की वजह से एक बीएसफ का जवान शहीद हो गया है।

Published by Dharmendra kumar Published: January 14, 2020 | 5:31 pm

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में बर्फीले तूफान ने तबाही मचाई है। कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में हिमस्खलन की वजह से 4 जवान शहीद हो गए हैं, वहीं एक जवान को सुरक्षित निकाल लिया गया है। इसके अलावा नौगाम सेक्टर हुए एक हिमस्खलन के चपेट में आने की वजह से एक बीएसफ का जवान शहीद हो गया है।

माछिल सेक्टर में सेना की कई चौकियां की बर्फीले के तूफान की चपेट में आई है। मीडिया रिपोर्ट में सेना के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि ऐसी ही एक चौकी में सेना के 5 जवान फंसे हुए हैं। घाटी में हिमस्खलन की चपेट में आने से 5 लोगों की भी मौत हो गई है। रामपुर और गुरेज सेक्टर में हिमस्खलन की कई घटनाएं सामने आई हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 48 घंटों में हुई भारी बर्फबारी की वजह से उत्तरी कश्मीर में कई जगह हिमस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं। इनमें 3 सैनिकों ने अपनी जान गंवाई है जबकि एक अभी भी लापता है। हिमस्खलन में फंसे कई जवानों को बचाया भी गया है।

सांकेतिक तस्वीर

यह भी पढ़ें…निर्भया के दोषियों की क्यूरेटिव पिटीशन खारिज, 22 जनवरी को ही फांसी

तो वहीं मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले में सोनमर्ग के गग्गेनेर क्षेत्र के पास कुलान गांव में हिमस्खलन की चपेट में आने से 5 लोगों की मौत हो गई और कई घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। सेना ने इस इलाके में भी अपना बचाव अभियान शुरू किया। यह इलाका श्रीनगर से सड़क से कटा हुआ है, यही कारण है कि बचाव दल को यहां पैदल ही पहुंचना पड़ा है।

यह भी पढ़ें…तबाही का तूफान: सेना पर आई आफत से कई जवान शहीद, अभी भी नहीं टला खतरा

कुछ दिनों पहले ही जम्मू और कश्मीर में एलओसी के पास पुंछ जिले में हिमस्खलन हुआ था, जिसमें सेना के एक पोर्टर की मौत हुई थी। वहीं तीन अन्य पोर्टर घायल हो गए थे। पुंछ जिले में 7 जनवरी की रात बर्फीला तूफान आया था और इस दौरान पोस्ट पर तैनात पोर्टर इसकी चपेट में आ गए थे।

सांकेतिक तस्वीर

यह भी पढ़ें…मोदी-शाह-डोभाल की जान को खतरा, साध्वी पज्ञा के घर आई चिट्ठी में हुआ बड़ा खुलासा

3 दिसंबर 2019 को उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास हिमस्खलन की दो अलग-अलग घटनाओं में सेना के चार जवान शहीद हो गए थे। कश्मीर के तंगधार सेक्टर में सेना की एक चौकी मंगलवार को हिमस्खलन की चपेट में आई थी, जिसमें तीन सैनिक शहीद हो गए थे। इससे पहले गुरेज सेक्टर में एक गश्ती दल बर्फीले तूफान में फंस गया था और सेना का एक जवान शहीद हो गया था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App