साबीआई की बड़ी रेड! विदेशी फंडिंग में गड़बड़ी का आरोप

सीबीआई ने एक बार फिर अपना सख्त तेवर दिखाया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार के लिए काम करने वाली संस्था एमनेस्टी के बेंगलुरु स्थित दफ्तर पर ने सीबीआई ने छापेमारी की है। बताया जा रहा है कि एमनेस्टी इंटरनैशनल ग्रुप पर नियमों का उल्लंघन करते हुए विदेशी फंडिंग हासिल करने का आरोप है।

बेंगलुरु: सीबीआई ने एक बार फिर अपना सख्त तेवर दिखाया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार के लिए काम करने वाली संस्था एमनेस्टी के बेंगलुरु स्थित दफ्तर पर ने सीबीआई ने छापेमारी की है।

बताया जा रहा है कि एमनेस्टी इंटरनैशनल ग्रुप पर नियमों का उल्लंघन करते हुए विदेशी फंडिंग हासिल करने का आरोप है। रोचक है कि अभी तक एमनेस्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।

यह भी पढ़ें. रामलला कमाते हैं दिन के ₹1000, सरकार बढ़ा सकती है सैलरी

एमनेस्टी इंटरनैशनल ने जारी किया बयान…

इस मसले पर एमनेस्टी इंटरनैशनल ने बयान जारी किया है, बयान में उन्होंने कहा है कि वह भारतीय और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पूरी तरह पालन करती है।

इसके साथ ही उसने यह भी आरोप लगाया है कि यह कार्रवाई उसे परेशान करने के लिए की गई है।

यह भी पढ़ें.  10 करोड़ की होगी मौत! भारत-पाकिस्तान में अगर हुआ ऐसा, बहुत घातक होंगे अंजाम

सीबीआई ने यहां मारा छापा…

बता दें कि सीबीआई ने शुक्रवार को एमनेस्टी इंटरनैशनल इंडिया के बेंगलुरु और दिल्ली स्थित दफ्तरों पर छापा मारा है।

एननेस्टी इंटरनैशनल इंडिया ने कहा…

एननेस्टी इंटरनैशनल इंडिया के एक अधिकारी ने कहा कि संस्था के बेंगलुरु स्थित ऑफिस में सीबीआई की करीब 6 लोगों की टीम सुबह साढ़े 8 बजे पहुंची और यह छापेमारी शाम 5 बजे तक जारी रही।

यह भी पढ़ें.  भूखा मरेगा पाकिस्तान! इन देशों के सामने झोली फैलाने को तैयार

एमनेस्टी ने जारी किया बयान…

एमनेस्टी ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि पिछले कुछ सालों से जब भी एमनेस्टी इंडिया भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ बोलती है तो उसे परेशान किया जाता है। संस्था ने अपने बयान में कहा है कि वह भारतीय और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पूरी तरह पालन करती है।

यह भी पढ़ें. एटम बम मतलब “परमाणु बम”, तो ऐसे दुनिया हो जायेगी खाक!

प्रवर्तन निदेशालय भी कर चुकी हैं जांच…

बता दें कि बीते साल एमनेस्टी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने भी जांच की थी। मानवाधिकार संगठन पर विदेशी चंदा नियमन के उल्लंघन के आरोपों को लेकर ही ईडी ने भी संस्था के खिलाफ जांच की थी।

यह भी पढ़ें.  तो इमरान देंगे इस्तीफा! मौलाना का प्लान-B हुआ तैयार, पाक PM की टेंशन टाइट