चीनी राष्ट्रपति की सुरक्षा व्यवस्था है खास, उनकी कार के बारे में जान उड़ जायेंगे ​होश

जब शी जिनपिंग भारत में आएंगे तो उनकी ये सुरक्षा और कारों का काफिला यहां भी आएगा। माना जा रहा है कि राष्ट्रपति चीन के आईटीसी चोला होटल में ठहरेंगे।

नई दिल्ली: 11 अक्टूबर को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आ रहे हैं। इस दौरान वह भारत में शिखर वार्ता में शामिल होंगे। यहां सुरक्षा शी जिनपिंग की सुरक्षा की व्यवस्था 3 लेयर में होगी। चीनी राष्ट्रपति अपने साथ बड़ा सुरक्षा काफिला लेकर चलते हैं और जिस कार में बैठते हैं तो और भी खास है। तो आइए जानते हैं शी जिनपिंग के सुरक्षा और उनके कार के बारे में…

आइए जानते हैं शी जिनपिंग के सुरक्षा के बारे में…

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सुरक्षा का जिम्मा चीन की सेंट्रल सेक्योरिटी ब्यूरो पर है। लेकिन विदेशी दौरों में जिनपिंग की सुरक्षा काफी हद तक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह होती है। चीन के सेंट्रल सेक्योरिटी ब्यूरो के प्रमुख वांग शाओजुन उनके साथ साये की तरह होते हैं।

जानें चीन के सेंट्रल सेक्योरिटी के बारे में

बता दें कि चीन के सेंट्रल सेक्योरिटी ब्यूरो का गठन 1949 में चीन राष्ट्रप्रमुख माओत्से तुंग को सुरक्षा देने के लिए हुआ था। उसके बाद से वो चीन के सभी राष्ट्रपतियों और कम्युनिस्ट पार्टी के शीर्ष नेताओं को सुरक्षा देते आ रहे हैं। लेकिन माना जाता है कि शी की सुरक्षा जिस तरह मजबूत किले की चाकचौबंद है, वैसी किसी चीनी राष्ट्रपति की नहीं रही है।

सिक्योरिटी ब्यूरो में करीब 8000 जवान हैं

ये भी पढ़ें—जल्द मिलेगा 5G Network: हो जायें तैयार, सरकार ने दी मंजूरी

सिक्योरिटी ब्यूरो में करीब 8000 जवान हैं। ये सेक्यूरिटी रेजीमेंट सात ग्रुप और 36 रेजीमेंट्स में बंटी हुई है। जिनपिंग की सुरक्षा करने वाले कमांडो चीन में निर्मित 05 मशीनगन और ब्राजीली पिस्टल पीटी 709 से लैस होते हैं।

ऐसी रहती है फ्लीट

शी के फ्लीट में सबसे आगे पायलट वाहन चलते हैं। इसके पीछे चार मोटर साइकल सवार पायलट गार्ड्स। इसके पीछे चार से छह कारें, जिसमें सुरक्षा के जवान और अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है। फिर शुरू होता है शी जिनपिंग की असली सिक्योरिटी। जिसमें कई बाइक सवार कमांडो उनके अंदरूनी कार काफिले के आगे चल रहे होते हैं।

अंदरूनी कार काफिले में दस से 12 वाहन होते हैं। ये सब अलग अलग काम कर रहे होते हैं। इसी काफिले में शी की खास बख्तरबंद लिमोजिन कार होंकी एन 501 होती है।

कैसी है ‘जिनपिंग’ कार जिस पर करते हैं वह सफर

कार में हैं चार दरवाजे

ये लंबी और काले रंग की लेबोजिन है। इसकी खिड़की और दरवाजे भारी और हथियारयुक्त होते हैं। चार दरवाजों वाली इस कार में कम्युनिकेशन के पुख्ता इंतजाम होते हैं। बताया जाता है कि इसमें कई और खास सिक्योरिटी के इंतजाम हैं। जिसका अभी तक खुलासा नहीं किया गया है।

ये भी पढ़ें— नापाक पाकिस्तान: एक बार फिर से अल्पसंख्यकों के साथ अन्याय, नहीं पास किया बिल

ये है चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की नई लिमोजिन होंकी एन 501 कार, जिसे खास तरीके से ऐसा बनाया गया है कि इसे दुनिया की सबसे सुरक्षित कारों में गिना जाता है।

ये है कार की खासियत

ये कार चीन की सबसे बड़ी आटोमोबाइल कंपनी ने खासतौर पर उनके लिए बनाई है। बाजार में इसकी कीमत वैसे तो साढ़े पांच करोड़ है। इस कार की फ्रंट ग्रिल लंबी है। ये 402 हार्स पॉवर की है। सिंगल गैस टैंक फुल होने पर 500 मील तक दौड़ सकती है। 18 फीट की ये सेडान एक लग्जरी कार है। टर्बो चार्ज्ड इंजन इसे गजब की ताकत देता है।

ये भी पढ़ें— खतरनाक साजिश! ​कश्मीर में हाफिज सईद की रैली, जानें क्या है मकसद

भारत भी आएगा ये ‘शी’ के सुरक्षा का काफिला

जब शी जिनपिंग भारत में आएंगे तो उनकी ये सुरक्षा और कारों का काफिला यहां भी आएगा। माना जा रहा है कि राष्ट्रपति चीन के आईटीसी चोला होटल में ठहरेंगे।