CAB: पूर्वोत्तर से निकाले गए 2400 यात्री, CM सोनोवाल करेंगे पीएम से मुलाकात

नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन किए गए। हालांकि असम, त्रिपुरा, नगालैंड समेत पूर्वोत्तर के राज्यों में कोई हिंसक वारदात नहीं हुई। वहीं पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुए।

नई दिल्ली: नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन किए गए। हालांकि असम, त्रिपुरा, नगालैंड समेत पूर्वोत्तर के राज्यों में कोई हिंसक वारदात नहीं हुई। वहीं पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुए। इस दौरान करीब पांच ट्रेनों एवं तीन रेलवे स्टेशनों को आग के हवाले कर दिया गया और कम से कम 25 बसें भी फूंक दी गई तथा संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया। इसके खिलाफ असम समेत पूर्वोत्तर में फंसे लोगों को निकालने के लिए रेलवे ने गुवाहाटी से विशेष ट्रेनें चलाई हैं।यहां से अब तक 2400 यात्री निकाले जा चुके हैं, जबकि 800 को निकाला जाना बाकी है। ये 800 लोग गुवाहाटी में फंसे हैं। एक ट्रेन दीमापुर के लिए चलाई गई। असम के गोलाघाट जिले में मुख्य जंक्शन फुरकेतिंग और डिब्रूगढ़ के लिए ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है।

यह पढ़ें……….बड़ी खबर! डाकघर में है खाता, तो आपको लिए है ये खबर

 

पीएम से मुलाकात करेंगे सर्बानंद सोनोवाल

*डिब्रूगढ़ के उपायुक्त ने कहा कि डिब्रूगढ़ (असम) में कर्फ्यू में आज रविवार को सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक ढील दी गई है।
*नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में असम में चल रहे प्रदर्शनों पर मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से जल्द मुलाकात करेगा। इसके साथ ही आज की बैठक में नागरिकों से राज्य में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की गई। मुख्यमंत्री सोनोवाल ने  एक ट्वीट कर बैठक की जानकारी दी।

*असम में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा फैलाने के आरोप में 85 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हंगामे के दौरान पत्थरबाजी, आगजनी की वीडियोग्राफी कराई गई थी। इसके आधार पर इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।
*नागरिकता विधेयक में संशोधन के विरोध में असम कांग्रेस के नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी है। पार्टी प्रवक्ता ने शनिवार को यह जानकारी दी।
मेघालय की राजधानी शिलांग में कर्फ्यू में सुबह 10 से शाम सात बजे तक की ढील दी गई है। सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए पूरे असम में इंटरनेट सेवाएं सोमवार तक बंद रखी गई हैं।

 

पूरे देश की स्थिति जानें…….

*नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में शनिवार को भी पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में लोगों ने प्रदर्शन किए। उत्तरी और दक्षिणी बंगाल को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 34 को मुर्शिदाबाद में ब्लॉक कर दिया गया।
*यहां कई दूसरी सड़कों पर भी चक्काजाम कर दिया गया। हावड़ा जिले के दोमजुर इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग 6 को प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाकर ब्लॉक किया और कई वाहनों को आग लगा दी।

*नागालैंड में स्कूल, कॉलेज और बाजार बंद कर दिए गए हैं। सड़कों के किनारे वाहन खड़े नजर आ रहे हैं। दरअसल, नागरिकता कानून के विरोध में नगा स्टूडेंट्स फेडरेशन (एनएसएफ) ने छह घंटे बंद आह्वान किया था। हालांकि, यहां पर किसी हिंसक घटना की खबरें नहीं हैं।
*महाराष्ट्र में नागरिकता कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। लालू प्रसाद यादव की राजद ने कानून के विरोध में 21 दिसंबर को बंद बुलाया है। लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने शुक्रवार देर रात ही इसका ऐलान किया था। उन्होंने बताया कि पहले यह 22 दिसंबर को रविवार को होना था, मगर पुलिस भर्ती परीक्षाओं को देखते हुए इसे एक दिन पहले करने का फैसला किया गया।

*मणिपुर की राजधानी इंफाल में लोगों ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में कैंडल मार्च निकाला। यह मार्च कांगला के पश्चिमी गेट पर आयोजित की गई।
*राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, अगर भाजपा को लोकतंत्र में यकीन है तो उसे नागरिकता संशोधन कानून वापस लेना चाहिए।

*केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को कांग्रेस समेत विपक्षी दलों की निंदा करते हुए कहा, विपक्ष राष्ट्रहित को नुकसान पहुंचाने में लगा हुआ है। विपक्ष हमेशा लोगों के हितों को नजरअंदाज करता रहा है और देशभर में भ्रांति फैला रहा है।
*एयरलाइंस कंपनी गोएयर ने ऐलान किया है कि वह यात्रियों से अपने टिकटों को रद्द करने या फिर यात्राओं की तिथियों में बदलाव करने पर कोई भी अतिरिक्त शुल्क नहीं लेगी।

यह पढ़ें……….आनंदीबेन ने छेड़ी नई मुहिम, छह हजार से अधिक टीबी पीड़ित बच्चे लिए गए गोद

 

दक्षिण पूर्वी जोन में कई स्टेशनों पर आठ एक्सप्रेस समेत 20 ट्रेनें रोक दी गईं। वहीं कई ट्रेनें रद्द कर दी गईं। जो ट्रेनें रद्द की गई हैं, उनमें हावड़ा-दीघा एसी एक्सप्रेस, हावड़ा-पुणे दुरंतो एक्सप्रेस, हावड़ा-तिरुपति हमसफर एक्सप्रेस, हावड़ा-सीएसएमटी गीतांजलि एक्सप्रेस, हावड़ा-एर्णाकुलम अंत्योदय एक्सप्रेस और हावड़ा-दीघा-हावड़ा कंदारी एक्सप्रेस, कोरोमंडल एक्सप्रेस, हावड़ा-यशवंतपुर दुरंतो एक्सप्रेस, हावड़ा-हैदराबाद ईस्टकोस्ट एक्सप्रेस हैं। इसके अलावा, पुरी-दीघा एक्सप्रेस, पुरी संतरागाछी पैसेंजर को 15 दिसंबर को रद्द रहेगी।
हावड़ा-खड़गपुर सेक्शन में कम से कम 40 लोकल ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं। उग्र भीड़ ने मुर्शिदाबाद जिले में नेशनल हाइवे पर बने एक टोल प्लाजा में भी आग लगा दी। उसी जिले में भाजपा के एक कार्यालय में भी आग लगा दी गई।

नागरिकता कानून के विरोध में छात्रों और पुलिस की झड़प के बाद दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय ने शनिवार को 5 जनवरी तक छुट्टी करने का ऐलान किया है। विश्वविद्यालय अब छह जनवरी को खुलेगा। वहीं, तनाव को देखते हुए परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं।

पश्चिम बंगाल में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में होने वाली हिंसा और आगजनी पर अब सियासत भी शुरू हो गई है। भाजपा ने इस हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस और उसकी प्रमुख ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराया है।

माकपा नेता मोहम्मद सलीम ने भी लोगों से शांति बहाल करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हिंसा और अशांति से आम लोगों को नुकसान पहुंचा कर विरोध जताने का तरीका सही नहीं है।

यह पढ़ें……….IRCTC का यात्रियों को तोहफा! न हो पैसा फिर भी करें यात्रा, और भी है बहुत कुछ