लाॅकडाउन में इस सेक्टर को लगा तगड़ा झटका, उत्पादन में आई भारी गिरावट

शुक्रवार को देश के आठ कोर सेक्टर के आंकड़े जारी किये गए हैं। इन आंकड़ों के अनुसार अप्रैल 2020 में सभी कोर सेक्टर्स के रिकॉर्ड निचले स्तर पर फिसल चुके हैं।

नई दिल्ली: शुक्रवार को देश के आठ कोर सेक्टर के आंकड़े जारी किये गए हैं। इन आंकड़ों के अनुसार अप्रैल 2020 में सभी कोर सेक्टर्स के रिकॉर्ड निचले स्तर पर फिसल चुके हैं। कोरोना वायरस के प्रकोप चलते देश में जारी लॉकडाउन की वजह से इनके उत्पादन में भारी गिरावट आई है।

ये भी पढ़ें: तिलमिलाया अमेरिका: चीन ने ठुकरा दिया ये प्रस्ताव, खुद ही हल करेगा मसला

38.1 प्रतिशत की आयी गिरावट

बता दें कि इससे पहले मार्च में 8 कोर सेक्टर की ग्रोथ -6.5 प्रतिशत थी। लॉकडाउन दौरान जिस सेक्टर पर सबसे बुरा असर पड़ा वो है सीमेंट इंडस्ट्री। इसकी ग्रोथ -86 प्रतिशत घटी है। जबकि मार्च में इसकी ग्रोथ -25.1 फीसदी थी। वहीँ स्टील सेक्टर की ग्रोथ पर भी कोरोना महामारी की तगड़ी मार पड़ी है। अप्रैल में इसकी ग्रोथ -83.9 प्रतिशत रही जबकि इसकी भी ग्रोथ मार्च में -24.1 प्रतिशत थी।

ये भी पढ़ें: बंदरों ने ब्लड सैंपल छीने: इनके आतंक से दहला मेरठ, सामने आया वीडियो

गौरतलब है कि कोर सेक्टर के इंडस्ट्रीज में सीमेंट, स्टील, नेचुरल गैस, कोयला, रिफाइनरी, बिजली, उर्वरक और क्रूड ऑयल को शामिल किया जाता है। देश के कुल औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में कोर सेक्टर का वेटेज करीब 40.27 प्रतिशत होता है। लेकिन कोरोना महामारी के दैरान इन सेक्टरों में भारी गिरावट आयी है।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी बड़ा ऐलान: इस दिन से खुलेंगें सभी मंदिर-मस्जिद, साथ ही ये इंडस्ट्री भी

वहीं पिछली तीन तिमाहियों के आंकड़े को देखें तो वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में GDP ग्रोथ 5 फीसदी था। वहीं वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही GDP ग्रोथ महज 4.5 फीसदी थी। जबकि तीसरी यानी दिसंबर 2002 तिमाही में GDP ग्रोथ मामूली बढ़त के साथ 4.7 फीसदी रही।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी बड़ा ऐलान: इस दिन से खुलेंगें सभी मंदिर-मस्जिद, साथ ही ये इंडस्ट्री भी

ममता बनर्जी ने किया बड़ा एलान- बंगाल में 8 जून से सभी कर्मचारी काम पर लौटेंगे

मसीहा बना ये इंसान: मजदूरों के लिये कर दिया ये काम, खूब हो रही तारीफ