जिस दवा के लिए ट्रंप हैं इतने परेशान, उसे गलती से भी न लगाएं हाथ, नहीं तो…

अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा भारत से हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा की मांग किए जाने के बाद दुनियाभर में इसे लेकर चर्चा तेज हो गई है कि आखिर यह कौन सी दवा है।

जिस दवा के लिए ट्रंप हैं इतने परेशान, उसे गलती से भी न लगाएं हाथ, नहीं तो...

जिस दवा के लिए ट्रंप हैं इतने परेशान, उसे गलती से भी न लगाएं हाथ, नहीं तो...

नई दिल्ली: पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वारयस की चपेट में हैं। वहीं दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश कह जाने वाला अमेरिका भी इससे अछूता नहीं है। अमेरिका बुरी तरह से कोरोना से जूझ रहा है। बीते दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी से मलेरिया ड्रग हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन (Hydroxy chloroquine) मदद की गुहार लगाई थी।

कोरोना के इलाज में किया जा रहा इस दवा का उपयोग

बता दें कि अमेरिका में एंटी मलेरिया दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन (Hydroxy chloroquine) का इस्तेमाल कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में किया जा रहा है। अमरेकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पत्रकारों से कहा था कि इस दवा के कोरोना के मरीजों के इलाज में अच्छे परिणाम सामने आए हैं।

यह भी पढ़ें: हनुमान जयंती पर PM मोदी समेत इन दिग्गजों ने दी शुभकामनाएं

दुनियाभर में इस दवा पर चर्चा हुई तेज

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा भारत से इस दवा की मांग किए जाने से दुनियाभर में इसे लेकर चर्चा तेज हो गई है कि आखिर यह कौन सी दवा है। सवाल ये भी खड़े किए जा रहे हैं कि क्या सच में एंटी मलेरिया दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन कोरोना वायरस का तोड़ बन सकती है।

भारत में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन का इस्तेमाल करेंगे स्वास्थ्यकर्मी

बता दें कि बीते दिनों भारत सरकार द्वारा यह स्पष्ट किया गया है कि हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा को कोरोना के मरीजों का इलाज करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों और उनके संपर्क में आने वाले लोगों दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: जिस दवा के लिए तड़प रहे हैं राष्ट्रपति ट्रंप, कभी उस कंपनी के मालिक थे अमिताभ

सरकार की ओर से यह भी स्पष्ट किया गया है कि इस दवा का असर कम है, इस आधार पर इसका उपयोग केवल स्वास्थ्य कर्मी ही कर सकते हैं। वहीं भारतीय दवा उद्योग द्वारा कहा गया है कि देश में एंटी मलेरिया दवा हाईड्रॉक्सी क्लोरोक्विन का पर्याप्त स्टॉक मौजूद है।

इस दवा के खाने से हो सकती हैं ये समस्याएं

हालांकि इस मलेरिया ड्रग के इस्तेमाल से आपके सेहत पर काफी बुरा असर पड़ सकता है। इस दवा के खाने के बाद कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जिनमें मुख्य रुप से नाक बहना, पेट में दर्द और बार-बार शौच जाना शामिल है। इसके अलावा इस दवा के इस्तेमाल से असहनीय दर्द, पाचनतंत्र खराब होने और सिर में दर्द बने रहने की आशंका है।

यह भी पढ़ें: कोरोना फैलाने के लिए जमाती कर रहे ऐसे घिनौने काम, पुलिस ने दर्ज किया केस

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन टेबलेट कैसे करता है काम?

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन, एक टेबलेट है, जिस इस्तेमाल ऑटोइम्यून रोगों के उपचार में किया जाता है। लेकिन इस दवा का कोरोना के इलाज में भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इस टेबलेट का असर सार्स-सीओवी-2 पर पड़ता है। बता दें कि सार्स-सीओवी-2 ही वो वायरस है जो कोविड-2 का कारण बनता है। और यहीं वजह है कि कोरोना के इलाज में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन के टेबलेट्स का यूज किया जा रहा है।

अमेरिका में कोरोना के मरीजों को दी जा रही ये दवा

यहीं दवा अमेरिका में कोरोना के मरीजों को दी जा रही है और कहा जा रहा है कि यह दवा बीमारी से लड़ने में मददगार भी साबित हो रही है। इसी वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति में पीएम मोदी से इस दवा को मुहैया कराने की मदद मांगी है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से जंग: सरकार ने कोविड-19 को हराने के लिए बनाई ये मजबूत रणनीति

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App