भारत ने दिया WHO को करारा झटका, कोरोना वायरस पर उठाया ये कड़ा कदम

कई देशों ने कोरोना वायरस की जंग में WHO की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं। अब भारत ने भी कोरोना वायरस की इस लड़ाई में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एक बार फिर भारत ने WHO को झटका दिया है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के खिलाफ कई आरोप लगे हैं। कई देशों ने कोरोना वायरस की जंग में WHO की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं। अब भारत ने भी कोरोना वायरस की इस लड़ाई में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एक बार फिर भारत ने WHO को झटका दिया है।

भारत को WHO के सुझाव की जरूरत नहीं

भारत ने अपने नए निर्देश और शोध से WHO को संकेत दिया है कि कोरोना वायरस के इस जंग में अब देश अकेले ही चलेगा। देश हित में जो शोध और इलाज आवश्यक होगा वही करेगा। साथ ही भारतीय वैज्ञानिकों से साफ कर दिया गया है कि उन्हें विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाव की कोई जरूरत नहीं है।

यह भी पढ़ें: दुनियाभर में मशहूर है उत्तराखंड की ये मिठाई, यहां की शोभा बढ़ाते हैं मंदिर

WHO ने हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन का ट्रायल बंद करने का दिया था निर्देश

बता दें कि हाल ही में WHO ने सदस्य देशों को निर्देश जारी किया था कि कोरोना वायरस के इलाज में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा खतरनाक साबित हो सकती है। इसलिए दवा के ट्रायल बंद कर दें। लेकिन भारतीय वैज्ञानिकों ने इस दवा पर शोध तो किया ही, साथ ही डॉक्टरों से कहा कि कोरोना के इलाज में इस दवा से बचाव संभव हो सकता है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने अपने ताजा शोध में कहा कि हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा के सेवन से कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे में कमी देखी गई है।

यह भी पढ़ें: जल उठा नोएडा: 9 घंटे बाद भी आग पर काबू नहीं, फायर ब्रिगेड की 16 गाड़ियां मौजूद

इसलिए पश्चिमी देशों की कंपनियां बंद करना चाहती हैं ट्रायल

वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि भारत के बेहद सस्ती दवाओं के उपचार को लेकर ज्यादातर पश्चिमी देशों के वैज्ञानिक और दवा कंपनियां हमेशा नीचा दिखाने की कोशिश में लगी रहती हैं। हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा से कोरोना वायरस का इलाज संभव है।

अगर कोरोना वायरस से बचाव के लिए इस सस्ती दवा (हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन) का उपयोग बढ़ जाए तो पश्चिमी देशों की दवा कंपनियों को करोड़ो रुपयों के का घाटा है। इसलिए इनकी लॉबी WHO पर दबाव बनाकर हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन के सभी ट्रायल को बंद करना चाहती है। जिसका भारत की तरफ से विरोध किया गया है।

यह भी पढ़ें: इस कवि की रचनाएं देशभक्ति से भरी हैं, ठुकरा दिया था नेपाल के इस सम्मान को

WHO पर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप

गौरतलब है कि कोरोना वायरस को फैलाने को लेकर WHO पर आरोप लगाए जाते रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कोरोना वायरस की जंग में WHO की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। साथ ही WHO को जाने वाली अपने फंडिंग पर भी रोक लगा दी है।

डोनाल्ड ट्रंप वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन पर चीन का पक्ष लेने का भी आरोप लगा चुके हैं। ट्रंप ने WHO को चीन की हाथों की कठपुतली करार दिया था। अमेरिका समेत कई देशों ने कोरोना वायरस की जंग में WHO की भूमिका की जांच की मांग की है।

यह भी पढ़ें: अभिषेक बच्चन ने खोला बड़ा राज, फिल्मों में आने से पहले करते थे ऐसा काम

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App