कोरोना वायरस पर बड़ा दावा: इंसानों के इमोशन होंगे खत्म, बदलेगी ये आदत

कोरोना वायरस के कारण जैसे हालात बने हुए हैं, उससे लोगों पर बुरा असर पड़ने की संभावना है। एक स्टडी के दौरान कहा गया कि अगर ऐसे ही माहौल बना रहा तो लोगों में भावनाएं खत्म हो जाएंगी और इंसानों की आदतें भी बदल जायेगी। इस तरह के दावे करने वाले वैज्ञानिकों ने चेताया कि लोग आने वाले समय में एक दूसरे से गले लगने और हाथ मिलाना आदि छोड़ देगा।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के कारण जैसे हालात बने हुए हैं, उससे लोगों पर बुरा असर पड़ने की संभावना है। एक स्टडी के दौरान कहा गया कि अगर ऐसे ही माहौल बना रहा तो लोगों में भावनाएं खत्म हो जाएंगी और इंसानों की आदतें भी बदल जायेगी। इस तरह के दावे करने वाले वैज्ञानिकों ने चेताया कि लोग आने वाले समय में एक दूसरे से गले लगने और हाथ मिलाना आदि छोड़ देगा।

कोरोना वायरस से बने हालातों का इंसान के व्यवहार पर होगा असर

दरअसल, दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस का कहर जारी है। इस बाबत देशों में लॉकडाउन कर दिया गया। सोशल डिस्टेंसिंग को बढ़ावा दिया गया। ऐसे में एक विषय पर हुए एक रिसर्च में कहा गया कि इन हालातों का असर लोगों पर पड़ने लगेगा। ये दावा नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी में सामाजिक विज्ञान के प्रोफेसर रॉबर्ट डिंगवाल ने किया।

ये भी पढेंःनिजामुद्दीन मरकज पर बड़ा खुलासा: कोरोना संक्रमित थे 160 मौलवी, फिर हुए शामिल

एक रिसर्च में वैज्ञानिकों ने किया दावा

प्रोफेसर रॉबर्ट डिंगवाल ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग धीरे धीरे हमारी आदत बन जायेगी। लोग एक दूसरे से मिलने से बचेंगे और अन्य विकल्पों की तलाश करेंगे। ऐसे में भविष्य में इंसान के व्यवहार में भी परिवर्तन आना लाजमी है।

ये भी पढेंःएक दिन में 950 मौत: रिकार्ड टूटा इस देश का, मेडिकल का कुछ पता नहीं

Lockdown- वर्क फ्रॉम हॉम ने बढ़ाई महिलाओं की समस्या, रोज हो रहे ये अत्याचार

इमोशनलेस हो जाएंगे लोग

पूर्व अमेरिकन सोशलॉजिकल एसोसिएशन के प्रेसीडिंट जो फ्येगिन के दावे प्रोफेसर डिंगवाल के जैसे ही हैं। उन्होंने भी कहा कि भले ही लोग अपने परिचितों से ज्यादा दूरी नहीं बना सकते लेकिन पहले ही तरह उनसे गले लगना और करीब जाना नहीं हो सकेगा।

ये भी पढेंःइटली में चमत्कारी गांव: 14 हजार मौतों के बाद भी कोरोना नहीं रख पाया कदम

बढ़ेगी सैनिटाइजर की मांग, स्वच्छता पर ख़ास ध्यान

वैज्ञानिकों की माने तो भविष्य में बड़ी बड़ी बिजनेस मीटिंग में लोग हाथ मिलाने से बचेंगे। आसपास सफाई का ख़ास ध्यान दिया जाएगा। सम्भावना जताई गयी कि लोगों के बीच सैनिटाइज का इस्तेमाल बढ़ जाएगा। ऐसे में बाजारों में सैनिटजर की मांग भी बढ़ेगी और बिक्री भी।

ये भी पढेंःलॉकडाउन तोड़े तो मार दो गोली, इस देश के राष्ट्रपति ने दिया बड़ा आदेश

आइसोलेशन की आदत होगी घातक

लोगों को अकेलेपन की आदत पड़ने से स्थिति भयावर हो सकती है क्योंकि अकेलेपन से लोग डिप्रेस्शन के भी शिकार हो सकते हैं। एक मनोचिकित्सक ने अकेले पन को 15 सिगरेट से होने वाली समस्याओं के ज्यादा घातक बताया।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।