अभी-अभी लॉकडाउन 5 का एलान, 30 जून तक घर में रहना होगा बंद

कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश में लॉकडाउन में जारी है जो 31 मई को खत्म होगा। इससे पहले ही केंद्र सरकार ने लॉकडाउन 5.0 का एलान कर दिया है। गृह मंत्रालय ने शनिवार को लॉकडाउन 5.0 को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दिया है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश में लॉकडाउन में जारी है जो 31 मई को खत्म होगा। इससे पहले ही केंद्र सरकार ने लॉकडाउन 5.0 का एलान कर दिया है। सरकार ने इसे अनलाॅक 1 नाम दिया है। गृह मंत्रालय ने शनिवार को इसको लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी है।

कंटेनमेंट जोन के बाहर सरकार ने चरणबद्ध तरीके से छूट दी है। ये गाइडलाइन्स 1 जून से 30 जून तक के लिए है।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन 5.0: जानें, इस बार कितनी पाबंदी, किन सेवाओं में मिली छूट

रात में जारी रहेगा कर्फ्यू

नए दिशानिर्देशों में बताया गया है कि रात में कर्फ्यू जारा रहेगा जो जरूरी चीजें हैं, उनके लिए कोई कर्फ्यू नहीं रहेगा। रात को 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा। अभी यह शाम 7 से सुबह 7 बजे तक था। स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोले जाने पर फैसला सरकार बाद में लेगी।

पहला चरण में 8 जून से धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट, शॉपिंग मॉल खोले जा सकते हैं, लेकिन ये सभी शर्तों के साथ ही खुलेंगे।

यह भी पढ़ें…सुधरेगी अर्थव्यवस्था: केरल के तट से टकराया मानसून, होगी झमाझम बारिश

तो वहीं दूसरे चरण में स्कूल कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोले जा सकते हैं। राज्य सरकारें स्कूलों और बच्चों के माता-पिता से बात कर के स्कूल-कॉलेज खोलने पर फैसला ले सकते हैं। अभी जुलाई महीने से स्कूलों को खोलने की कोशिश की जाएगी, जिस पर राज्य अपने विवेक पर फैसला ले सकते हैं। जुलाई में ये तय होगा कि स्कूल खोलने हैं या नहीं।

तीसरे चरण में अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल, जिम, स्वीमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार और ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल जैसी जगहें आदि को खोलने पर विचार किया जाएगा।

यह भी पढ़ें…आम आदमी को राहत: कोरोना से हुए नुकसान की कर सकेंगे भरपाई, जल्द होगा एलान

कहीं भी जाने की मिली इजाजत

एक से दूसरे राज्य में जाने का प्रतिबंध पूरी तरह से हटा दिया गया है। राज्य में भी एक जिले से दूसरे जिले में जा सकते हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। कहीं आने जाने से पहले किसी की कोई इजाजत लेने की जरूरत नहीं होगी।

अब केंद्र सरकार की तरफ से राज्य सरकारों को अधिक ताकत दी गई है। राज्य सरकारें ही तय करेंगी कि कैसे राज्यों में बसें और मेट्रो सेवाएं शुरू होंगी। केंद्र सरकार ने तो प्रतिबंध हटा लिया है, लेकिन राज्य सरकार अपने स्तर पर पाबंदियां लगा सकती हैं।