Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

खतरे में 1 अरब भारतीय: हो सकते हैं कोरोना संक्रमित, नीति आयोग की बड़ी चेतावनी

नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वी के पॉल ने कहा कि अगर लोगों ने सावधानियां नहीं बरतीं तो भारत की करीब 85 प्रतिशत आबादी यानी एक अरब के करीब आबादी कोरोना संक्रमित हो सकती है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 24 Sep 2020 5:39 AM GMT

खतरे में 1 अरब भारतीय: हो सकते हैं कोरोना संक्रमित, नीति आयोग की बड़ी चेतावनी
X
भारत में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अब नीति आयोग ने चेतावनी दी है कि भारत में एक अरब लोग कोरोना संक्रमित हो सकते हैं।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अब नीति आयोग ने चेतावनी दी है कि भारत में एक अरब लोग कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वी के पॉल ने कहा कि अगर लोगों ने सावधानियां नहीं बरतीं तो भारत की करीब 85 प्रतिशत आबादी यानी एक अरब के करीब आबादी कोरोना संक्रमित हो सकती है।

डॉक्टर पॉल का कहना है कि लोगों को अब मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। उन्होंने कहा कि देश में करीब 80-85 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो आसानी से कोरोना वायरस की चपेट में आ सकते हैं। देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं और वायरस तेजी से फैल रहा है।

पांच व्यक्तियों से पचास लोगों में फैल सकता है कोरोना संक्रमण

डॉक्टर पॉल ने कहा कि वायरस के पीछे का विज्ञान ऐसा है कि यह एक व्यक्ति से पांच व्यक्तियों में और पांच व्यक्तियों से पचास लोगों में फैल जाएगा। उन्होंने कहा कि तेजी से बढ़ रहे मामलों के बीच भी फिलहाल देश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है।

Covid-19

यह भी पढ़ें...सुशांत राजपूत ने खुद ही लगाई थी फांसी! सभी आरोपी होंगे बरी, पढ़ें CFSL की ये रिपोर्ट

डॉक्टर पॉल ने कहा कि कोई भी वायरस को रोक नहीं सकता है, हालांकि हम निश्चित रूप से कुछ नियमों का पालन कर इस पर नियंत्रण पा सकते हैं। उनका कहना है कि ऐसा अनुमान लगाया गया है कि मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग से इस महामारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

तो वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि 80-85 प्रतिशत भारतीय अतिसंवेदनशील श्रेणी में हैं और बाकी के 15 प्रतिशत लोग या तो पहले से ही कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं या फिर उनमें वायरस से लड़ने के लिए अच्छी इम्यूनिटी है।

Niti Aayog

यह भी पढ़ें...नेपाल की हार: चीन ने दिया झटका, इस धोखे से बैकफुट पर ओली सरकार

बता दें कि कुछ दिनों पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा था कि हर्ड इम्यूनिटी बनने में अभी कुछ समय लगेगा, इसलिए सरकार का ध्यान महामारी को रोकने के लिए अस्पतालों के प्रबंधन और कंटेनमेंट के लिए एक रणनीति बनाने पर है। सरकार के अनुसार, सेरो सर्वे में जानकारी सामने आई है कि ज्यादातर आबादी कोरोना वायरस के खतरे के दायरे में है।

यह भी पढ़ें...रिया का बड़ा खुलासा: सुशांत ने इन लोगों का किया इस्तेमाल, करता था ये काम

ICMR के राष्ट्रीय सेरोलॉजिकल सर्वे के नतीजों के मुताबि, अधिकांश आबादी संक्रमण के प्रति अतिसंवेदनशील है, इसलिए संक्रमण को रोकने के लिए भारत को आवश्यक रूप से एक सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीति तैयार करनी होगी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story