नेपाल की हार: चीन ने दिया झटका, इस धोखे से बैकफुट पर ओली सरकार

चीन ने नेपाल की सीमा में घुसकर निर्माण कराने की बात से इनकार करते हुए उसे अपनी जमीन बताया है। चीन का कहना है कि मीडिया में आई रिपोर्टों में कोई दम नहीं है।

China breaching Nepal border construct building claiming own land

चीन का नेपाल की जमीन पर कब्जा (file photo)

अंशुमान तिवारी

काठमांडू। नेपाल की सीमा में घुसकर इमारतों के निर्माण के मामले में चीन चोरी और सीनाजोरी पर उतर आया है। नेपाल की सीमा में घुसकर इन इमारतों के निर्माण के विरोध में देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों के बीच चीन ने नेपाल को बड़ा झटका दिया है।

चीन ने नेपाल की सीमा में घुसकर निर्माण कराने की बात से इनकार करते हुए उसे अपनी जमीन बताया है। चीन का कहना है कि इस बाबत मीडिया में आई रिपोर्टों में कोई दम नहीं है। चीन के इस दावे के बाद नेपाल की ओली सरकार बैकफुट पर दिख रही है।

कब्जे की घटना से चीन का इनकार

मीडिया में चीन की सीमा पर स्थित हुमला जिले में चीन की ओर से इमारतों का निर्माण कराए जाने की खबर आई थी। चीन के इस कदम के खिलाफ पूरे देश में गुस्सा भड़क गया है और लोग सड़कों पर उतर आए हैं। इन विरोध प्रदर्शनों के बीच चीन ने इन रिपोर्टों को बेबुनियाद बताते हुए कब्जे की घटना से पूरी तरह इनकार कर दिया है।

KP OLI

अपनी जमीन पर निर्माण का दावा

नेपाल में चीनी दूतावास का कहना है कि अतिक्रमण संबंधी रिपोर्टों में कोई दम नहीं है। चीनी दूतावास ने कहा कि इमारतों का निर्माण चीन की सीमा के भीतर कराया गया है और इसे लेकर गलतफहमी फैलाई जा रही है। दूतावास का यह भी कहना है कि चीन और नेपाल के बीच किसी भी प्रकार का कोई भौगोलिक विवाद नहीं है।

ये भी पढ़ेंः ब्लास्ट से दहला गुजरात: लगातार 3 धमाकों से हिली धरती, ONGC प्लांट मे बड़ा हादसा

विदेश मंत्रालय ने दी सफाई

लोगों के गुस्से को शांत करने के लिए नेपाल का विदेश मंत्रालय भी आगे आया है। विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि देश के सर्वेक्षण विभाग के आधिकारिक रिकार्ड के मुताबिक ये इमारतें नेपाली क्षेत्र में नहीं बनाई गईं हैं। नेपाल की मीडिया रिपोर्टों में तिब्बत से लगे हुमला जिले में नेपाली जमीन पर चीन की ओर से नौ इमारतों के निर्माण की बात कही गई थी। रिपोर्टों में हुमला जिले के लंपचा इलाके में इन इमारतों के बनाए जाने का दावा किया गया था।

OLI-JINPING

नेपाल के लोगों में भड़का गुस्सा

इन रिपोर्टों के प्रकाशन के बाद नेपाल के लोगों में चीन के प्रति काफी आक्रोश पैदा हो गया है। बुधवार को नेपाल के विभिन्न स्थानों पर चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन आयोजित किए गए।

ये भी पढ़ेंः तीन दिन होगी भारी बारिश: इन राज्यों में झमाझम बरसेंगे बादल, IMD का अलर्ट

सिविल सोसाइटी समूह की ओर से इन इमारतों के निर्माण के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। काठमांडू में भी चीनी दूतावास के बाहर विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया। प्रदर्शनकारी चीन से नेपाल की जमीन वापस लौटाने की मांग कर रहे थे।

सीमा तय करने वाला पिलर गायब

इस बीच एक और खबर ने लोगों की नाराजगी बढ़ा दी है। रिपोर्टों के मुताबिक नेपाल और चीन की सीमा का निर्धारण करने वाला पिलर नंबर-11 ही गायब हो गया है। इन खबरों के सामने आने के बाद नेपाल की ओली सरकार से लोगों की नाराजगी लगातार बढ़ती जा रही है और सरकार बैकफुट पर आ गई है।

इस बीच के सांसद चक्का बहादुर लामा का कहना है कि जब तक नदारद पिलर का पता नहीं लगा लिया जाता तब तक दोनों पक्षों के बीच विवाद जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि विवाद को खत्म करने के लिए पहले गायब पिलर का पता लगाना जरूरी है।

ये भी पढ़ेंः रिया का बड़ा खुलासा: सुशांत ने इन लोगों का किया इस्तेमाल, करता था ये काम

चीन ने नेपाली अफसरों को लौटाया

उधर नेपाल के एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक मंगलवार को नेपाल के एक मुख्य जिला अधिकारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल चीनी अधिकारियों से बात करने के लिए गया था मगर चीनी अधिकारियों ने इलाके पर अपना दावा दावा जताते हुए प्रतिनिधिमंडल को वापस लौटा दिया।

Nepal stuck in China's debt policy-4

चीन सरकार की ओर से इमारतों के अपनी जमीन पर बने होने का दावा किया गया है। देखने वाली बात यह होगी कि लोगों के बढ़ते गुस्से को नेपाल की ओली सरकार किस तरह संभालती है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App