इस भारतीय कंपनी का दावा, बना ली कोरोना की वैक्सीन, जानवरों पर हो रही है टेस्टिंग

कोरोन वायरस चीन के बाद दुनियाभर में तांडव मचा रहा है। इस वायरस से दुनियाभर में 70 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है, तो वहीं 13 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं। इस जानलेवा वायरस की अभी तक कोई दवा नहीं है।

नई दिल्ली: कोरोन वायरस चीन के बाद दुनियाभर में तांडव मचा रहा है। इस वायरस से दुनियाभर में 70 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है, तो वहीं 13 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं। इस जानलेवा वायरस की अभी तक कोई दवा नहीं है। दुनियाभर के वैज्ञानिक इसकी दवा बनाने में लगे हैं। कई देशों के वैज्ञानिकों और दवा कंपनियों ने दावा किया है कि उन्होंने इसकी वैक्सीन बना ली है जिसका ट्रायल चल रहा है।

अब इस बीच भारत की दवा बनाने वाली बड़ी कंपनी कैडिला हेल्थकेयर ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने का दावा किया है। कंपनी के चेयरमैन पंकज पटेल ने कहा कि अभी इसका टेस्ट जानवरों पर हो रहा है। इसके बाद उन्होंने दावा किया कि इसे क्लीनिकल टेस्ट के लिए अगली तिमाही में लॉन्च किया जाएगा। उन्होंनेउम्मीद जताई कि इसमें जरूर सफलता मिलेगी।

यह भी पढ़ें…नाराज वकील ने जज को दिया श्राप, कहा- ‘जा तुझे कोरोना वायरस लग जाए’

बता दें कि कैडिला ग्रुप मलेरिया की भी बड़े पैमाने पर दवा बनाती है। चीन के बाद जब से पूरी दुनिया में इस महामारी ने पैर पसारना शुरू किया तो उन्होंने इस पर रिसर्च करना शुरू कर दिया था। पंकज पटेल ने एक न्यूज चैनल पर बातचीत यह दावा किया है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिकों ने वैक्सीन बना लिया है।

यह भी पढ़ें…कोरोना संकट में भी सियासी तंज के तीर, आखिर क्या है सोनिया की चिट्ठी का मतलब

पंकज पटेल ने बताया कि हमारी वैक्सीन पर जो डेवलपमेंट चल रही है उसमें हमने वैक्सीन का शुरुआती लॉट बनाया है। उन्होंने बातचीत में कहा कि उसको अभी हमलोगों ने एनिमल टेस्टिंग में डाला हुआ है। अगले महीने तक हमलोगों को एनिमल टेस्टिंग के रिजल्ट मिलेंगे। अगर रिजल्ट भरोसा देने वाला आता है तो हम क्लीनिकल ट्रायल में जाएंगे। हमें उम्मीद है कि अगले क्वार्टर में लॉन्च किया जाएगा।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन : संकट मोचन मंदिर में डिजिटल ‘संगीतांजलि’ देंगे संगीत जगत के दिग्गज

गौरतलब है कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है। इलाज के दौरान फिलहाल मरीजों को अलग-अलग दवाएं दी जा रही हैं. अलग-अलग तरीके से कोरोना वायरस के मरीजों को ठीक किया जा रहा है।