कर्मचारियों को तगड़ा झटका: इन राज्य सरकारों ने लिया ये बड़ा फैसला

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन में आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत की कई राज्य सरकारों ने बड़ा फैसला लिया है। महाराष्ट्र और तेलंगाना के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायकों की 100 फीसदी सैलरी कटेगी।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन में आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत की कई राज्य सरकारों ने बड़ा फैसला लिया है। महाराष्ट्र और तेलंगाना के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायकों की 100 फीसदी सैलरी कटेगी। वहीं राजस्थान में भी सीएम से लेकर मंत्रियों, अधिकारियों और कर्मचारियों के मार्च माह के वेतन (Salary) का बड़ा हिस्सा रोकने का फैसला किया गया है।

इन राज्यों में सैलरी कटौती

महाराष्ट्र, तेलंगाना के बाढ़ राजस्थान और आंध्र की सरकारों ने सीएम से लेकर सभी प्रशासनिक अधिकारियों के वेतन काटने के आदेश जारी हुए हैं। हालंकि इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों का वेतन मिलता रहेगा।

ये भी पढ़ेंःकोरोना ने दुनियाभर में मचाई तबाही, अब रूस के राष्ट्रपति पुतिन पर आई बड़ी खबर

आंध्र में 100 फीसदी वेतन कटौती

आंध्र प्रदेश में फैसला लिया गया कि मुख्यमंत्री समेत सभी मन्त्रियों, विधायकों की 100 फीसदी तक सैलरी में कटौती है। ये फैसला कोरोना प्रभावित लोगों, क़रीबों और मजदूरों की आर्थिक मदद के लिए किया गया।

राजस्थान में रोका गई सैलेरी

वहीं राजस्थन में कोरोना के संकट पर मंगलवार को पहली बार हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में सीएम से लेकर मंत्रियों, अधिकारियों और कर्मचारियों के मार्च माह के वेतन का बड़ा हिस्सा रोकने का फैसला किया गया है। बैठक में बताया गया कि लॉकडाउन के कारण प्रदेश को 17 हजार करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ है. इसके कारण मार्च माह का वेतन रोकने का फैसला किया गया है।

ये भी पढ़ेंःभारत को बड़ा झटका: कोरोना से कारोबार ठप, 2.5 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

इसके अलावा सभी आईएएस, पीसीएस, आईएफएस अधिकारियों का भी मार्च माह का 60 प्रतिशत वेतन रोकने का फैसला किया गया है, जबकि राज्य सेवाओं के अधिकारियों और कर्मचारियों का 50 फीसदी वेतन रोका जाएगा। हालाँकि स्वास्थ्य सेवाओं के डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ सहित सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को पूरा वेतन मिलेगा।

ये भी पढ़ेंःनिजामुद्दीन केस के बाद इन राज्यों की अटकीं सांसें, हर ओर मचा है हड़कंंप

महाराष्ट्र में वेतन कटौती पर उद्धव सरकार का फैसला

उद्धव सरकार के फैसले के मुताबिक, मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायकों की तन्ख्वाह में 60 फीसदी तक की कटौती होगी। ए और बी श्रेणी के कर्मचारियों की सैलरी में 50 फीसदी, सी श्रेणी के कर्मचारियों की सैलरी में 25 फीसदी की कटौती की जाएगी। हालांकि, सरकार ने इस फैसले से डी क्लास के कर्मचारियों को अलग रखा है और उन्हें पूरी तन्ख्वाह मिलेगी।

ये भी पढ़ेंःआलीशान होटल गरीबों का नया ठिकाना, इस सरकार ने लिया बड़ा फैसला

तेलंगाना ने भी लिया ये बड़ा फैसला

महाराष्ट्र से इतर तेलंगाना में भी कोरोना वायरस के महासंकट को देखते हुए सैलरी में कटौती करने का फैसला किया गया। यहां मंत्रिमंडल, विधायक, एमएलसी, निगम अध्यक्ष समेत अन्य सभी पदों पर 75 फीसदी तक सैलरी कटौती का प्रस्ताव पास किया गया है।

ये भी देखें: BJP कार्यकर्ता कोरोना के खिलाफ जंग में आये आगे, दान में देंगे इतने रुपये

 

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के कारण देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू है और इस बीच सबकुछ ठप पड़ा है। ऐसे में प्राइवेट सेक्टर से लेकर सरकारी सेक्टर और आम आदमी तक कारोबार को लेकर संकट हो गया है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।