आलीशान होटल गरीबों का नया ठिकाना, इस सरकार ने लिया बड़ा फैसला

अब गरीब सड़क पर सोने वाले पांच सितारा होटल में ऐश फरमाएंगे।सरकार उन्हें होटल में रखेगी। बता दें कि इन होटलों का किराया करीब 20 हजार रुपये प्रतिदिन का है। सरकार ने ये फैसला कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए लिया है।

नई दिल्ली: अब गरीब सड़क पर सोने वाले पांच सितारा होटल में ऐश फरमाएंगे।सरकार उन्हें होटल में रखेगी। बता दें कि इन होटलों का किराया करीब 20 हजार रुपये प्रतिदिन का है। सरकार ने ये फैसला कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए लिया है।

सड़क पर सोने वालों को 5 स्टार होटल में किया जाएगा शिफ्ट

कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकने के लिए दुनिया के कई देश अपने अपने स्तर पर काम कर रहे है, लेकिन अब एक देश, जो करने जा रहा है, वो एक बड़ी कोशिश भी है और सराहनीय पहल भी। दरअसल, सरकार ने फैसला लिया है कि सड़क पर सोने वालो या यूँ कहें कि बेघरों को 5 स्टार होटल में रखा जाएगा।

ये भी पढ़ेंः चीन की खुली पोल: बेबस होकर किया आंकड़ों का खुलासा, सामने आया सच

20,000 रुपये प्रति रात होटल का किराया

खबर ऑस्ट्रेलिया के पर्थ की है, जहां कि सरकार ने गरीब बेघरों के रहने का इंतज़ाम आलिशान और महंगे होटल में किये है। इन लोगों को करीब 20,000 रुपये प्रति रात के किराए वाले होटल में शिफ्ट किया जाएगा। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने इस प्लान को क्रियान्वित करने की तैयारी भी शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ेंः जियोफोन उपभोक्ताओं को मिलेगा 10 गुना लाभ

इस प्रोजेक्ट की अवधि फिलहाल अभी करीब एक महीने की होगी। यानी लगभग एक महीने बेघरों को ऐशों-आराम वाले होटल में रहने को मिल सकेगा। ऑस्ट्रेलियन सरकार इसकी शुरुआत 20 सड़क पर सोने वालों से करेगी, जिन्हे पैन पैसिफिक होटल में शिफ्ट किया जाएगा।

ऑस्ट्रेलिया का ‘Hotels With Heart’ प्रोजेक्ट

ऑस्ट्रेलिया में इस प्रोजेक्ट को ‘Hotels With Heart’ नाम दिया गया है। अगर ये प्रोजेक्ट सफल होता है तो होटल के 120 कमरे इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः यहां लाशों से खेती: दहलाने वाला सच, उत्तर कोरिया बना जल्लाद

कैसे हुआ इनका चयन :

इस प्रोजेक्ट के लिए सरकार उन लोगों का चुनाव कर रही है, जो खुद को आइसोलेट करने में नाकाम रहे हैं। हालाँकि कहा जा रहा है कि सरकार का प्लान ये भी है कि इस प्रोजेक्ट में बाद में घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं और मानसिक तनाव से जूझ रहे लोगों को भी शामिल किया जाएगा।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।