निजामुद्दीन केस के बाद इन राज्यों की अटकीं सांसें, हर ओर मचा है हड़कंंप

निजामुद्दीन की मरकज में हिस्सा लेने वाले 8 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई है। इससे देश के ऐसे राज्यों में हड़कंप मच गया है, जहां से लोग इसमें शामिल हुए थे।

नई दिल्ली: निजामुद्दीन की मरकज में हिस्सा लेने वाले 8 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई है। इससे देश के ऐसे राज्यों में हड़कंप मच गया है, जहां से लोग जमात के लिए दिल्ली पहुंचे थे। जमात में हिस्सा लेने वालों में अब तक 2100 से ज्यादा लोगों की पहचान की जा चुकी है। तेलंगाना सरकार का अनुमान है कि प्रदेश के करीब 1000 लोग इसमें शामिल हुए थे। इसी तरह हिमाचल प्रदेश सरकार ने भी 17 लोगों को चिह्नित किया है। वहीं, यूपी के 19 से ज्यादा जिलों के लोग मरकज जमात में हिस्सा लेने पहुंचे थे।

ये पढ़ें- तबलीगी जमात से जौनपुर आए 50 लोग और 14 बांग्लादेशी क्वॉरेंटाइन में रखे गए

गृह मंत्रालय ने दिया हिसाब

गृह मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि 21 मार्च तक निजामुद्दीन मरकज में कुल 1746 लोग थे। उनमें 216 विदेशी भी शामिल थे। गृह मंत्रालय ने एक जानकारी और दी है कि निजामुद्दीन मरकज के अलावा तबलीगी जमात के लिए देश के दूसरे मरकजों में कुल 824 विदेशी थे।

ये पढ़ें- मुख्तार अब्बास नकवी का बड़ा बयान:कहा- तबलीगी जमात का ‘तालिबानी जुर्म..

इन-इन देशों के लोग हुए थे शामिल

मंत्रालय के मुताबिक, इस साल करीब 2100 विदेशी लोग तबलीगी जमात में हिस्सा लेने के लिए भारत आए हैं। इनमें इंडोनेशिया, बांग्लादेश, श्रीलंका, किर्गिस्तान, मलेशिया, थाइलैंड, नेपाल, म्यांमार आदि देशों के लोग शामिल हैं। तबलीगी गतिविधियों में हिस्सा लेने के लिए भारत आने वाले विदेशी सबसे पहले दिल्ली के निजामुद्दीन में बंगलेवाली मस्जिद स्थित तबलीगी मरकज को रिपोर्ट करते हैं। इसके बाद ही वे किसी दिगर मरकज का रुख करते हैं।

ये पढ़ें- कोरोना के खिलाफ जंग में पीएम मोदी की मां भी हुईं शामिल, केयर्स फंड में दिए इतने रुपये

हिस्सा लेने वाले 2,137 लोगों की हुई पहचान

गृह मंत्रालय ने बताया कि 28 मार्च को ही केंद्र ने सभी राज्यों की पुलिस से कहा है, ‘वे तबलीगी जमात में हिस्सा लेने वाले लोगों की पहचान करें और उनकी मेडिकल जांच कर जरूरत पड़ने पर क्वारंटीन करे। मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि अब तक देशभर में ऐसे 2,137 लोगों की पहचान की जा चुकी है। इन लोगों की मेडिकल जांच की जा रही है और इन्हें क्वारंटीन में रखा गया है। गृह मंत्रालय के अनुसार, ऐसे और भी लोगों की पहचान की जा रही है।

ये पढ़ें- मरकज मामले की जांच करेगी क्राइम ब्रांच, आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज

तेलंगाना के 6 लोगों की हो चुकी है मौत

निजामुद्दीन मरकज में हुए जलसे में शामिल होने वाले तेलंगाना के 6 लोगों की मौत के बाद राज्य सरकार भयंकर डर में है। तेलंगाना सरकार ने अपने प्रदेश के शामिल होने वाले लोगों की पहचान तेज कर दी है। एक अधिकारी ने बताया कि संबंधित जिलाधिकारी और पुलिस ऐसे लोगों को भी ट्रेस करने का काम कर रहे हैं। मरने वालों के परिजनों को क्वारंटीन किया गया है।

ये पढ़ें- नेपाल में चीनी नागरिकों और नेपाली लोगों में झड़प, लगे जमकर नारे

शिवराज सिंह चौहान भी अलर्ट

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को अधिकारियों को दिल्ली के जमात में हिस्सा लेने वाले राज्य के 100 से ज्यादा लोगों को क्वारंटीन करने का आदेश दिया। मुख्यमंत्री ने एक उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि राज्य के 100 से ज्यादा लोग निजामुद्दीन मरकज गए थे। उन्हें क्वारंटीन किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों और एसपी से कहा है कि लॉकडाउन के दौरान धार्मिक स्थलों पर जाने वाले लोगों पर सख्ती की जाए।

ये पढ़ें- मुफ्त राशन के लिए भीड़ हुई बेकाबू: मची छीना-झपटी, बाल-बाल बचे एसडीएम

हिमाचल की सांसें अटकीं

हिमाचल प्रदेश पुलिस के प्रवक्ता ने मंगलवार को बताया कि सूबे के 17 लोगों ने करजत में हिस्सा लिया था। इनमें से 14 लोग चंबा जिले से हैं। 2 व्यक्ति सिरमौर से और एक कुल्लू जिले से है। पुलिस ने बताया कि फिलहाल सूचना के मुताबिक इनमें से कोई भी दिल्ली से हिमाचल नहीं लौटा है।

ये पढ़ें- कोरोना की चपेट में आई ये सिंगर, ट्विटर पर शेयर किया इमोशन कहा- कभी नहीं…

पुदुचेरी में सबकी जांचें हो रही हैं

पुदुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायण सामी ने मंगलवार को बताया कि सूबे से कुल 6 लोग निजामुद्दीन मरकज गए थे। उन्होंने बताया कि इनमें से 5 को आइसोलेशन में रखा गया है और उनकी निगरानी की जा रही है। सीएम ने बताया कि जरूरी जांच कराई जा रही हैं।

ये भी पढ़ें- भदोही: पुलिस ने 11 बंग्लादेशियों को पकड़ा, समाजसेवियों ने बांटा भोजन

जियोफोन उपभोक्ताओं को मिलेगा 10 गुना लाभ

कोरोना से जंग: आरएसएस ने खोला दत्तोपंत ठेंगड़ी अंत्योदय आईसोलेशन सेंटर

चीन की खुली पोल: बेबस होकर किया आंकड़ों का खुलासा, सामने आया सच