भदोही: पुलिस ने 11 बंग्लादेशियों को पकड़ा, समाजसेवियों ने बांटा भोजन

देश में चल रहे लॉकडाउन का असर जनपद में भी देखने को मिला। एक ओर जहां पुलिस ने जिले में दक्षिण भारत व बाहर से आए लोगों को पकड़ा।

भदोही:  देश में चल रहे लॉकडाउन का असर जनपद में भी देखने को मिला। एक ओर जहां पुलिस ने जिले में दक्षिण भारत व बाहर से आए लोगों को पकड़ा। तो वहीं दूसरी ओर लॉकडाउन के चलते जनपद के अलग-अलग क्षेत्रों में समाजसेवियों द्वारा लोगों को भोजन व राशन बांट कर मानवता की मिसाल पेश की।

पुलिस ने पकड़े 11 बंगलादेशी और 3 दक्षिण भारतीय

शहर कोतवाली क्षेत्र मोहल्ला काजीपुर के मरकजी मस्जिद के गेस्टहाउस से मंगलवार को 11 बंगलादेशी सहित तीन दक्षिण भारतीय नागरिकों को भदोही पुलिस पकड़ कर छानबीन कर रही है। लाकडाउन किये जाने के सातवें दिन भदोही कोतवाली क्षेत्र कस्बा चौकी प्रभारी संतोष कुमार राय को खुफिया विभाग के माध्यम से मस्जिद के गेस्टहाउस में कुछ विदेशी व गैर प्रान्तों के लोगों की छिपकर रहने की सूचना मिली।

ये भी पढ़ें-  कोरोना के डर से मां-बाप ने बच्चों को घर में किया कैद, आग में जलकर मासूमों की मौत

सूचना मिलने पर चौकी इंचार्ज संतोष कुमार राय ने दल बल के साथ छापा मारकर ग्यारह बंगलादेशी व तीन दक्षिण भारतीय नागरिकों को पकड़ लिया। पूछताछ में पकड़े गए नागरिकों ने बताया कि फरवरी माह में धर्म के प्रचार प्रसार हेतु भदोही आये थे, तभी लाकडाउन होने की वजह से वापस नही जा पाए।

पुलिस ने पेश की मानवता

सरकार के द्वारा कोरोना का चक्रव्यूह तोड़ने के लिये लाये गए लाकडाउन का समर्थन अब जनता भी करते हुए पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग करने लगी है। सड़को पर वही लोग नज़र आये जिन्हे बैंक, मेडिकल स्टोर या डाक्टर के यहां जाना है। ऐसे में अब पुलिस का मानवीय चेहरा ही सामने आ रहा है जो गरीबों का मसीहा बनकर उनके साथ खड़ी है।

ये भी पढ़ें-  कोरोना: मदद को आगे आए राज्यसभा सचिवालय के कर्मचारी, 33 लाख करेंगे दान

बताते चले की आज लगातर 7वे दिन भी पाली चौकी प्रभारि गुरु ज्ञान चन्द्र पटेल ने महजूदा , प्रतापसिंह पट्टी, भोरी ग्राम सभा के बनवासी बस्ती में ग्राम प्रधान जयप्रकाश यादव के साथ खाद्य सामग्री राशन चावल,दाल,सब्जी, फल साबुन और मास्क का वितरण किया गया । और चौकी इंचार्ज के इस सराहनीय कार्य को देख लोग पुलिस की जमकर तारीफ कर रहे हैं।

कुछ लोग उड़ा रहे लॉकडाउन की धज्जियाँ

शहर के कुछ इलाकों में लोग धड़ल्ले से लॉकडाउन का उल्लंघन कर रहे हैं। लोग बैठकर गप्पे मार रहे है। दुकानों पर भी मनमानी भीड़ देखने को मिल जाती है। देखा जा रहा है कि न तो दुकानदार और धन ही ग्राहक सामाजिक दूरी का पालन कर रहे है। पुलिस भी इन पर अपनी कृपा बरसाकर छोड दे रही है। कुछ जगह देखा जाता है कि जब पुलिस को देखते है तो दूर हो जाते है बाद में फिर भीड लग जा रही है। सरकार ने पान गुटखा पर रोक लगा दी है इसके बावजूद भी लोग दुकानों से गुटखा खरीद रहे है और दुकानदार भी धडल्ले से बेच रहे है। कुछ गांवों में ग्राम प्रधान भी इस तरह के परदेसियों पर रहम कर रहे हैं कि वह व्यक्ति खास है।

ये भी पढ़ें-  शाम 7 बजे CM योगी मेरठ, सहारनपुर मंडलों के वरिष्ठ प्रशासनिक एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से करेंगे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

यदि ग्राम प्रधान बाहर से आने वाले सभी परदेसी की जानकारी प्रशासन को नही देंगे तो यह एक निदंनीय कार्य है। सरकार के तरफ से जारी निर्देश को मानना सभी का कर्तव्य है लेकिन कुछ गद्दार किस्म के लोग मानने को तैयार नही हैं। और नियमों की धज्जियां उडाने से बाज नहीं आ रहे हैं। शासन प्रशासन को इस तरह के लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जरूरत है। तब ही देश को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने में सफलता प्राप्त हो सकती है।

पलायन कर रहे मजदूरों को पुलिस ने पकड़ा

मंगलवार को दिल्ली से ट्रेन के रास्ते पटरी पर पैदल यात्रा कर बिहार जा रहे 3 दर्जन से अधिक मजदूरों को भदोही मोढ पुलिस ने मोढ़ क्षेत्र से पकड़ लिया। रेल पटरी पर दर्जनों लोगों की पैदल यात्रा की सूचना मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में उपजिलाधिकारी भदोही आशीष कुमार मिश्र , सीओ भूषण वर्मा, कोतवाल श्रीकांत राय, चौकी प्रभारी मोढ़, सुनील यादव ने सक्रियता दिखाते हुए सभी लोगों को पकड़ लिया। पकड़े गए सभी मजदूर दिल्ली मे राजगीर का काम करते थे। पकड़े गए सभी मजदूरों को प्रशासन द्वारा स्नान व भोजन कराया गया।

ये भी पढ़ें-  आपूर्ति अधिकारी ने कर्मचारियों को मास्क, सैनिटाइजर किया वितरित

एसडीएम आशीष कुमार मिश्र ने बताया कि लॉकडाउन में किसी को भी कही आने जाने का आदेश नहीं है। इसके बावजूद लोग क़ानून का पालन नहीं कर रहे हैं। बताते चलें कि मोढ़ से पकड़े गये सभी मजदूरों को इंद्र बहादुर सिंह नेशनल इंटर कालेज में बने शेल्टर होम में भेज दिया गया है। वहीं ऐसे लोगों के लिए रहने खाने की व्यवस्था की गयी है।

समाजसेवियों ने बांटा भोजन व राशन

जंगीगंज क्षेत्र के बडागांव में भाजपा नेता डा अजय कुमार शुक्ला ने अपने आवास पर मंगलवार को गरीब जनता को मदद के रुप में भोजन सामग्री वितरित की। इस मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष अशोक मौर्या ने भी भाजपा कार्यकर्ताओं से यथाशक्ति सहयोग करने का आह्वान किया। इसके अलावा हंडिया थाना क्षेत्र के भीटी राष्ट्रीय राजमार्ग पर युवाओं ने दिल्ली से लौट रहे यूपी और बिहार वाले जो इस कड़ी धूप में सफर कर रहे थे। प्यासे थे उनको मीठा और पानी पिला कर भोजन का व्यवस्था कराया।

ये भी पढ़ें-  रम्मीसर्कल : ऑनलाइन गेमिंग अब महज खेल नहीं

 

साथ ही गोपीगंज में मंगलवार को नगर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल गोपीगंज के एवं पुलिस प्रशासन के सहयोग से 175 पैकेट भोजन के गरीब एवं जरूरतमंदों में बांटे। इस मौके पर कोतवाल कृष्णानंद राय चौकी प्रभारी दयाशंकर ओझा एसआई श्याम जी एवं नगर अध्यक्ष श्रीकांत जायसवाल मौजूद रहे। इसी क्रम में गोपीगंज क्षेत्र के छतमी में भी समाजसेवियों द्वारा गरीब और असहायों की सहायता करने और भोजन की व्यवस्था करने का बीडा उठाया गया है।

ये भी पढ़ें-  कोरोना से जंग: आरएसएस ने खोला दत्तोपंत ठेंगड़ी अंत्योदय आईसोलेशन सेंटर

गोपीगंज में मंगलवार को उपजिलाधिकारी ज्ञानपुर के नेतृत्व में गोपीगंज नगर के तीन आटा मिलरों ने पांच सौ जरूरतमंदों को जहां भोजन कराया। वहीं बड़े शिव मंदिर पर तमिलनाडु समेत अन्य स्थानों के लाक डाउन में फंसे दर्जन भर साधू संतो के लिए एक महीने की खाद्य सामग्री मुहैया करवाई।

एक कोरोना संदिग्ध व्यक्ति आया सामने

उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद में महाराजा बलवंत सिंह राजकीय चिकित्सालय में मंगलवार को गोपीगंज क्षेत्र के खड़हटी मोहल गांव से स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को लाया गया। जहां पर चिकित्सकों द्वारा उसकी जांच की जा रही थी। उसे अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया गया। बताते चलें की गोपीगंज क्षेत्र के खड़हटी मोहल गांव के निवासी विनायक मोदन वाल पुत्र अनिल कुमार मोदन वाल उम्र (21 ) वर्ष को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।

ये भी पढ़ें-  चीन की खुली पोल: बेबस होकर किया आंकड़ों का खुलासा, सामने आया सच

बताते चलें कि विनायक मोदे वाल पश्चिम बंगाल (कोलकाता) में रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा है कुछ दिन पहले 18 तारिख को वह पश्चिम बंगाल से अपने घर गोपीगंज को आया आया है । ऐसे में जब कल रात को उसकी सांस फूलने की शिकायत हुई तो परिवार सहित आस-पास के लोग उनको कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज समझकर उसे गोपीगंज अस्पताल में इलाज के लिए लेकर गए। जहां पर डॉक्टरों ने उसे महाराजा बलवंत सिंह राजकीय चिकित्सालय में भेज दिया।

ये भी पढ़ें-  जियोफोन उपभोक्ताओं को मिलेगा 10 गुना लाभ

इलाज के दौरान डा. वीके मौर्य ने बताया कि जिस प्रकार से सांस फूल रही है। उससे तो फिलहाल कोरोना वायरस से संक्रमित लग रहा है। फिलहाल जांच की गई है और मरीज को अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया है। लेकिन जांच रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि विनायक मोदनवाल कोरोना वायरस से संक्रमित हैं या नहीं।