रोज बढ़ रहे 500 मरीज: सामने आए 591 नए केस, अब ऐसे निपटेगी सरकार

एक अप्रैल से देश में कोरोना संक्रमण के रोज 500 मरीज बढ़ रहे हैं। जिसके चलते देश में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर अब 5865 पहुंच गई है।

पूरा देश इस समय कोरोरना वायरस जैसी वैश्विक महामारी से जूझ रहा है। देश में आए दिन कोरोना के मरीजों की संख्या निरंतर बढती जा रही है। एक अप्रैल से देश में कोरोना संक्रमण के रोज 500 मरीज बढ़ रहे हैं। देश में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर अब 5865 पहुंच गई है।

देश में जारी कोरोना का कहर

ये भी पढ़ें-  कोरोना से खिलाफ डीएम का जबर्दस्त ऐप: जानें, ‘कोविड-19 कंटेनमेंट’ की खासियत

देश में कोरोना का कहर लगातार जारी है। लेकिन इस बीच अच्छी खबर यह है कि करीब 400 जिले ऐसे हैं, जहां एक भी संक्रमित नहीं है। सिर्फ 62 जिलों में 80 फीसदी संक्रमित हैं। मौत का आंकड़ा भी सिर्फ 6 राज्यों में ही ज्यादा है। इस बीच एक दिन में, 591 नए मरीज पाए गए। जबकि 20 मौतें दर्ज की गईं। देश में बृहस्पतिवार शाम तक संक्रमितों की गिनती 5865 तक पहुंच गई। जबकि इस वायरस से अभी तक 169 ने अपनी जान गंवाई है। वहीं, देश में 477 लोग इस जानलेवा वायरस से ठीक भी हो चुके हैं। वहीं झारखंड में कोरोना से पहली मौत हुई है।

सरकार का सारा ध्यान हॉटस्पॉट पर

अब सरकार का पूरा ध्यान उन जिलों पर है, जहां कोरोना के ज्यादा मामले हैं। उत्तर प्रदेश, दिल्ली व गुरुग्राम के हॉटस्पॉट पर सख्ती बढ़ाने के बाद बृहस्पतिवार को मध्य प्रदेश, हिमाचल और हैदराबाद में भी हॉटस्पॉट में सील कर दिए गए। इसके अलावा देश में सबसे ज्यादा कोरोना की मार झेल रही मुंबई में 21 हॉटस्पॉट पर कर्फ्यू लगा दिया गया है। कोरोना को हराने का चर्चित भीलवाड़ा मॉडल यही है, जहां क्लस्टर से बाहर संक्रमण नहीं आने दिया गया।

ये भी पढ़ें-  योगी सरकार का बड़ा कदम, 15 लाख लोगों के खाते में ट्रांसफर किये गए इतने रुपए

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि नौ राज्यों राजस्थान, बिहार, गुजरात, कर्नाटक, एमपी, महाराष्ट्र, यूपी, तमिलनाडु व तेलंगाना के हॉटस्पॉट वाले इलाकों में मदद के लिए दस उच्चस्तरीय टीमें भेजी जा रही हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान शोध परिषद के अनुसार अब तक 1.30 लाख नमूनों की जांच हुई है। पिछले डेढ़ महीने में 3-5 फीसदी ही संक्रमित पाए गए।

कोरोना से जंग में मदद को आगे आया रेलवे

सरकार द्वारा दिल्ली, गुरुग्राम और यूपी के हॉटस्पॉट सील कर देने के बाद वहां कर्फ्यू जैसे हालात रहे। इन क्षेत्रों में कोई भी दुकान नहीं खुली। लोगों की आवाजाही पूरी तरह बंद होने से सड़कों पर सन्नाटा रहा। इसके अलावा देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते रेलवे ने 80 हजार आइसोलेशन बिस्तर तैयार करने की योजना बनाई है। जिसके तहत 5 हजार रेलवे कोच तैयार किए जा रहे हैं। इसके अलावा रेलवे ने कोरोना से जंग में 2,500 से अधिक डॉक्टरों और 35,000 पैरामेडिकल स्टाफ लगाया है।

ये भी पढ़ें-  कांग्रेस ने Lockdown पर खड़े किए सवाल, कहा कि इसके चलते गई कई लोगों की जान

इसके साथ निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई), मास्क और वेंटिलेटर की आपूर्ति शुरू हो गई है। 20 घरेलू निर्माता भी पीपीई बनाएंगे। 1.7 करोड़ पीपीई व 49 हजार वेंटिलेटर के ऑर्डर दिए हैं। सरकार ने वेंटिलेटर, सभी तरह के मास्क, पीपीई व कोविड-19 टेस्ट किट से सीमा शुल्क और स्वास्थ्य उपकर को हटा लिया है। छूट इन उत्पादों के इनपुट पर भी मिलेगी, जो 30 सितंबर तक जारी रहेगी।

केंद्र ने राज्यों को दिए 15 हजार करोड़

ये भी पढ़ें- जमातियों पर बड़ा खुलासा: एक और राज आया सामने, डर रहे हैं प्रशासन के लोग

केंद्र ने राज्यों में आपातकालीन सुविधाओं के लिए 15 हजार करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। इसमें से 7,774 करोड़ रुपये आपाताकलीन सुविधाओं पर खर्च होंगे। अभी तक राज्य व केंद्र शासित राज्यों को 4,113 करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं। वहीं हरियाणा सरकार कोरोना संक्रमितों के इलाज में जुटे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, एम्बुलेंस कर्मियों समेत अन्य कर्मचारियों को दोगुना वेतन देगी। सीएम मनोहर लाल ने बताया कि अगले आदेश तक दोगुना वेतन मिलता रहेगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App