हुआ बड़ा खुलासा! इन लोगों ने रची थी दिल्ली में हिंसा की साजिश, ये सच्चाई आई सामने

गृह मंत्रालय दिल्ली में हुई हिंसा पर सख्त हो गया है। दिल्ली पुलिस ने उपद्रवियों के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है। योगेंद्र यादव और राकेश टिकैट समेत एनओसी पर साइन करने वाले सभी किसान नेताओं के खिलाफ एफाईआर दर्ज की गई है।

Published by Dharmendra kumar Published: January 27, 2021 | 4:19 pm
Delhi Voilence

हुआ बड़ा खुलासा! इन लोगों ने रची थी दिल्ली में हिंसा की साजिश, ये सच्चाई आई सामने (फोटो: सोशल मीडिया)

नई दिल्‍ली: कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने गणतंत्र दिवस के दिन टैक्टर परेड निकाली थी। इस परेड के बहाने किसानों ने दिल्ली में जमकर उपद्रव मचाया।  गृह मंत्रालय दिल्ली में हुई हिंसा पर सख्त हो गया है।

दिल्ली पुलिस ने उपद्रवियों के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है। योगेंद्र यादव और राकेश टिकैट समेत एनओसी पर साइन करने वाले सभी किसान नेताओं के खिलाफ एफाईआर दर्ज की गई है।

तो वहीं किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान हुए बवाल और हिंसा को लेकर किसानों ने अहम बैठक की। इस बैठक में किसान नेताओं ने कहा कि किसान संगठनों ने 26 जनवरी को किसान परेड का कार्यक्रम घोषित किया था, लेकिन दीप सिद्धू और उनके जैसे अन्य असामाजिक तत्वों और किसान संगठन ने किसान आंदोलन को शांत करने को कोशिश की थी।

ये भी पढ़ें…संसद की कैंटीन में खाना हुआ महंगा, देखें नए रेट की पूरी लिस्ट

Delhi

साजिश के तहत शुरू किया पहले मार्च

प्रमुख किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल, जगजीत सिंह डल्लेवाल और डॉ. दर्शन पाल का कहना है कि साजिश के तहत किसान मजदूर संघर्ष समिति और अन्य व्यक्तियों ने ऐलान किया कि वह रिंग रोड पर मार्च करेंगे और लाल किले पर झंडा फहराएंगे।

इन तीनों नेताओं ने कहा कि षडयंत्र के तहत किसान मजदूर संघर्ष समिति ने संघर्षरत संगठनों के निर्धारित मार्च से दो घंटे पहले रिंग रोड पर मार्च शुरू कर दिया। यह शांतिपूर्ण और मजबूत किसान संघर्ष को नाकाम करने की एक गहरी साजिश थी।

ये भी पढ़ें…लाल किले में उपद्रवियों का बवाल: पुलिसकर्मियों को गड्ढे में ढकेला, सामने आया वीडियो

किसान नेताओं ने की निंदा

संयुक्त किसान मोर्चा के सभी घटक दलों ने दिल्ली में हिंसा की निंदा की। उन्होंने कहा कि संघर्षरत किसानों से अपील की कि वे धरना स्थलों पर रहें और शांतिपूर्ण विरोध करें। इस बैठक में किसान संगठनों ने इस आंदोलन को जारी रखने की बात कही। इन्होंने उक्‍त किसान संगठन और आंदोलन की छवि खराब करने वाले दीप सिद्धू एवं अन्‍य की कड़ी आलोचना की।

ये भी पढ़ें…ट्रैक्टर परेड हिंसा पर पुलिस का एक्शन: हिरासत में 200 उपद्रवी, क्राइम ब्रांच करेगी जांच

संयुक्‍त किसान मोर्चा की बैठक जारी

किसान संगठनों ने भविष्य के कार्यक्रम को चाक-चौबंद करने के लिए भी बैछक बुलाई है। इस बैठक में 32 संगठनों के नेता शामिल हैं। अभी संयुक्‍त किसान मोर्चा की बैठक जारी है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App