पाकिस्तान की तबाही शुरू, भारत से पंगा लेना पड़ गया भारी

मोदी सरकार के जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान ने भारत के साथ दोनों देशों के व्यापार को सस्पेंड कर दिया है। पाकिस्तान द्वारा लिए गए फैसले का असर उनके ही व्यापारियों पर पड़ रहा है।

पाकिस्तान की तबाही शुरू, भारत से पंगा लेना पड़ गया भारी

पाकिस्तान की तबाही शुरू, भारत से पंगा लेना पड़ गया भारी

नई दिल्ली : मोदी सरकार के जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान ने भारत के साथ दोनों देशों के व्यापार को सस्पेंड कर दिया है। पाकिस्तान द्वारा लिए गए फैसले का असर उनके ही व्यापारियों पर पड़ रहा है।  भारत के साथ दोनो देशों के व्यापार को रद्द करने से पाक अधिकृत कश्मीर में पाक के ही बहुत से ट्रकों को भारत में प्रवेश नही मिल पा रहा है। जिसके कारण लाहौर, कराची और रावलपिंडी के ये ट्रक फंसे हुए हैं।

यह भी देखें… आर्टिकल 370 हटते ही इस पर बीजेपी की नजर, पूरा करेगी ये मिशन

अनुच्छेद 370 के विरोध में पाकिस्तान ने भारत के साथ दोनों देशों के बीच व्यापार रद्द करने का निर्णय लिया। भारत ने इससे पहले भी हुए पुलवामा हमलें में पाकिस्तान को मुह तोड़ जवाब दिया था। और अब इसका असर भी खुद पाकिस्तान के व्यापारियों को ही उठाना पड़ा था।

पाक ने फिर अपने ही पैरों पर मारी कुल्हाड़ी

भारत से आयात किए जाने वाले सामानों पर पूरी तरह रोक लगाए जाने के बाद पाकिस्तान के बाजारों में रोजमर्रा के सामानों के दामों में आग लगी हुई है।बढ़ती महंगाई से रोज की जरूरतों का बजट बिगड़ गया है। सब्जियों के दाम भी बढ़ गए है। टमाटर के मूल्य 300 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। इस तरह से सब्जियों के दामों में हुई वृध्दि से पाक के लोगों डरे हुए हैं। सब्जियों के साथ दूध की कीमत 100 रुपए लीटर के पार पहले ही जा चुकी है। कराची डेयरी फार्म्स एसोसिएशन ने कुछ दिन पहले ही दूध के दाम बढ़ा दिए थे।

पाकिस्तान का भारत के साथ व्यापार निलंबित करने से पाकिस्तान को अभी और नुकसान उठाना पड़ेगा क्योंकि दोनों देशों के बीच व्यापार में 80%  माल भारत से पाकिस्तान जाता है, जबकि पाकिस्तान से महज 20 फीसदी माल भारत आता है।

यह भी देखें… सावधान दिल्ली वालों: अब सरेआम बीच सड़क पर लूट जाएंगे आप

आजादी के 18 साल पहले काफी अच्छा था व्यापार

दोनो देशों के बीच के व्यापार को अगर इतिहास पन्नों में देखें तो आजादी के 18 सालों बाद तक दोनों देशों के बीच व्यापार अच्छा था। क्योंकि दोनों ही देश एक-दूसरे पर सीमा शुल्क नहीं लगाते थे। लेकिन 1965 के युद्ध के बाद स्थितियां बदल गईं और भारत ने पाकिस्तान पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए, जिसके जवाब में पाकिस्तान ने भी भारतीय वस्तुओं पर सीमा शुल्क लगा दिया।

यह भी देखें… मोदी का वज्रासन: पत्थर पर ऐसे बैठने के पीछे छिपा है ये बड़ा राज