DL 1PC 0149! जानिए उस बस के बारे में जिसमें निर्भया के साथ हुई थी दरिंदगी

सात साल पहले निर्भया के साथ जिस बस में बर्बरतापूर्वक दुष्कर्म हुआ था, यह बस किसी दिनेश यादव नाम के शख्स की थी। वह बस दिनेश को कभी वापस तो नहीं मिली, लेकिन उस रात के बाद बस भी कभी नहीं चली। आज सात साल बाद उस बस को देखने पर ऐसा लगता है मानो वह खुद निर्भया के साथ हुए हादसे की कहानी को चीख-चीख कर दुनिया को बता रही हो।

Published by Harsh Pandey Published: December 16, 2019 | 10:00 am
Modified: December 16, 2019 | 10:06 am

नयी दिल्ली: यही वो बस है जिसको देखकर सात साल पहले हुई दरिंदगी की कहानी अपने आप आपके कानों में गूंजने लगेगी। यह बस 16 दिसंबर 2012 की रात राजधानी दिल्ली की सड़कों घूमती रही और दरिंदगी की गवाह बनी थीं।

इस घटना से पूरा देश दहल गया था। बच्चे, बूढ़े, देश के हर नागरिक की आंखों में अंगारे भड़क रहे थे और सबलोग न्याय की लड़ाई के लिए सड़क पर उतर आए थे। साल 2012 की वह रात बाकी रातों के मुताबिक ज्यादा अंधेरी थी। इतनी कि उसका कालापन अबतक खत्म नहीं हुआ।

ये भी देखें : मौसम ने बदली करवट: इन जगहों पर ठंड के साथ होगी तेज बारिश

DL 1PC 0149 नंबर की बस- कर चुकी थी  2,26,784 किलोमीटर तक की यात्रा

DL 1PC 0149 नंबर की बस राजधानी की चौड़ी सड़कों पर दौड़ती रही और उस रात हैवानियत की सारी हदें पार होती रहीं। किसी को पता भी नहीं चला। ये बस जो निर्भया की जिंदगी का काल बन गई आज ऐसी अवस्था में है कि उसे देखकर कोई भी कांप जाए।

सात साल पहले निर्भया के साथ जिस बस में बर्बरतापूर्वक दुष्कर्म हुआ था, यह बस किसी दिनेश यादव नाम के शख्स की थी। वह बस दिनेश को कभी वापस तो नहीं मिली, लेकिन उस रात के बाद बस भी कभी नहीं चली। आज सात साल बाद उस बस को देखने पर ऐसा लगता है मानो वह खुद निर्भया के साथ हुए हादसे की कहानी को चीख-चीख कर दुनिया को बता रही हो।

किसी कूड़े करकट की तरह पड़ी बस के अंदर लगे ओडोमीटर में 2,26,784 किलोमीटर तक की यात्रा दर्ज है। इसके आखिरी अंक उसी दौरान के हैं जब बस लगातार चल रही होगी, ओडोमीटर के अंक बढ़ रहे होंगे और उसके अंदर बिलखती, छटपटाती निर्भया किसी तरह उसे रोकने के लिए दरिंदों से लड़ रही होगी।

ये भी देखें : नागरिकता कानून: करीबी प्रशांत किशोर का नीतीश कुमार पर हमला, कह दी ये बड़ी बात

 इसी बस में एक तरफ दोस्त को पीट रहे थे, दूसरी तरफ दरिंदे उसे नोच रहे थे

निर्भया के बयान के मुताबिक जिन सीटों पर उसके साथ इतने विभत्स वारदात को अंजाम दिया गया उन्हें देखकर तो किसी की भी आह निकल जाए। पीछे से दूसरी नंबर सीट आज भी आधे बिस्तर वाली स्थिति में पड़ी हुई है। यह सीट निर्भया के उस बयान की पुष्टि करती है जिसमें उसने पुलिस को बताया था कि एक ओर उसके दोस्त को पीटा जा रहा था, वहीं उसे बस की पीछे वाली सीट पर ले जाकर दरिंदे उसे नोच रहे थे।

बस के पीले पर्दे जिसने उन दरिंदों को छिपा लिया था जब वह निर्भया के साथ हैवानियत कर रहे थे, वो आज बदरंग हो चुके हैं। ज्यादातर जगह से फट भी चुके हैं। सीट पर लगे गद्दे या तो हटा लिए गए हैं या उन्हें कीड़े खा गए हैं। अब बस की किसी खिड़की में शीशा भी नहीं है।

इस बस को पुलिस ने वारदात के अगले दिन यानी 17 दिसंबर, 2012 को दिल्ली के संत रविदास कैंप से बरामद किया था, जहां इस केस के 6 में से 4 दोषी रहते थे। इस बस से केस की जांच के दौरान पर्याप्त फॉरेंसिक सबूत जुटाए जाने थे। लगभग डेढ़ साल पहले तक इसे साकेत कोर्ट परिसर में पार्क कर सुरक्षित रखा गया था।

ये भी देखें : रेलवे नहीं कंपनियां दौड़ाएंगी ट्रेन: काम शुरू, अगले महीने से लगेगी बोली

पुलिस ने दिखाई थी समझदारी, गुपचुप तरीके से बस को रखा सुरक्षित

इस घटना को लेकर लोगों के अन्दर उस वक्त इतना गुस्सा था कि यदि यह बस लोगों के हाथ लग जाती तो शायद आज इसके पुर्जे भी न मिलते। लोगों के गुस्से से इसे बचाया जा सके और सारे सबूत पाए जा सकें इसके लिए पुलिस ने इसे बड़े ही गुपचुप तरीके से सुरक्षित रखने की योजना बनाई। पुलिस ने बेहद ही गुप्त तरीके से इस बस को त्यागराज स्टेडियम के बाहर खड़ी बहुत सी बसों के बीच ले जाकर खड़ा कर दिया था ताकि किसी को भी शक न हो।

इस बस में कोई प्रवेश न कर सके, यहां से सामान न चुरा सके और इसे तोड़-फोड़ या जला न सके, इसके लिए पुलिस ने सादे कपड़ों में सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए थे। यह वही जगह थी जहां सड़क के किनारे स्टेडियम के पास खड़ी इस बस की जांच फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने की और बाद में इन्हीं सबूतों से 6 लोग दोषी सिद्ध हुए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App