Top

नौकरीवालों खुशखबरी: नहीं करना होगा अब 5 साल का इंतजार, सरकार ने दिया तोहफा

ज्यादातर यही होता देखा गया है कि प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले नौकरीपेशा लोग केवल ग्रेच्यूटी के इंतजार में ही लगातार 5 साल तक एक ही कंपनी में रह जाते हैं। अगर किसी वजह से उन्हें अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी या छूट गई तो उन्हें ग्रेच्युटी का फायदा नहीं मिल पाता है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 24 Sep 2020 6:54 AM GMT

नौकरीवालों खुशखबरी: नहीं करना होगा अब 5 साल का इंतजार, सरकार ने दिया तोहफा
X
ज्यादातर यही होता देखा गया है कि प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले नौकरीपेशा लोग केवल ग्रेच्यूटी के इंतजार में ही लगातार 5 साल तक एक ही कंपनी में रह जाते हैं।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। ज्यादातर यही होता देखा गया है कि प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले नौकरीपेशा लोग केवल ग्रेच्यूटी के इंतजार में ही लगातार 5 साल तक एक ही कंपनी में रह जाते हैं। अगर किसी वजह से उन्हें अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी या छूट गई तो उन्हें ग्रेच्युटी का फायदा नहीं मिल पाता है। अब ऐसा करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि इसके केंद्र सरकार ने नए श्रम विधेयक को इजाजत दे दी गई है।

ये भी पढ़ें... पीटने वाली नेत्री का नया मामला: घर बुलाकर की डंडों-थप्पड़ों से पिटाई, तानी पिस्तौल

श्रम विधेयक को सदन की मंजूरी

इसी सिलसिले में केंद्र सरकार के नए श्रम विधेयक को सदन की मंजूरी मिल गई है। इस मंजूरी के बाद अब ग्रेच्युटी लेने के लिए 5 साल की समय सीमा समाप्त हो गई है।

चलिए अब इसे आसान शब्दों में समझते हैं। आपको कंपनी हर साल ग्रेच्युटी देगी। अभी तक जो नियम था उसके हिसाब से कर्मचारी को किसी एक कंपनी में लगातार 5 साल कार्यरत रहना जरूरी था।

ऐसे में अब नए प्रावधानों में बताया गया है कि जिन लोगों को फिक्सड टर्म बेसिस पर नौकरी मिलेगी। उन्हें उतने दिन के आधार पर ग्रेच्युटी पाने का भी हक होगा। यानी ये कि कॉन्ट्रैक्ट पर नौकरी करने वाले कर्मचारी भी ग्रेच्युटी का फायदा ले सकेंगे, फिर चाहे कॉन्ट्रैक्ट कितने भी दिन का हो।

employees फोटो-सोशल मीडिया

ये भी पढ़ें...50 बॉलीवुड सेलेब्स रडार पर: नशे में फंसे ये एक्टर्स, NCB कभी भी ले सकती है एक्शन

ऐसे कैलकुलेट होती है रकम

कुल ग्रेच्युटी की रकम = (अंतिम सैलरी) x (15/26) x (कंपनी में कितने साल काम किया)

इस हिसाब से ग्रेच्युटी कंपनी की तरफ से अपने कर्मचारियों को दी जाती है। यह एक तरह से कर्मचारी की तरफ से कंपनी को दी गई सेवा के बदले देकर उसका साभार जताया जाता है। इसकी अधिकतम सीमा 20 लाख रुपये होती है। हालांकि मृत्यु या अक्षम हो जाने पर ग्रेच्युटी अमाउंट दिए जाने के लिए नौकरी के 5 साल पूरे होना जरूरी नहीं है।

ये भी पढ़ें...खतरे में 1 अरब भारतीय: हो सकते हैं कोरोना संक्रमित, नीति आयोग की बड़ी चेतावनी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story