Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अहम बैठक, बैंकों को दिया ये बड़ा निर्देश, हुआ ये एलान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को बैंको और एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों) के प्रमुखों के साथ बैठक की। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई। उन्होंने सभी बैंकों से कहा कि वो जल्द से जल्द रिजॉल्युशन प्लान लागू करें।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 3 Sep 2020 2:15 PM GMT

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अहम बैठक, बैंकों को दिया ये बड़ा निर्देश, हुआ ये एलान
X
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैंको और एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों) के प्रमुखों के साथ बैठक की।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को बैंको और एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों) के प्रमुखों के साथ बैठक की। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई। उन्होंने सभी बैंकों से कहा कि वो जल्द से जल्द रिजॉल्युशन प्लान लागू करें। कोविड-19 संकट के बीच बिजनेस को रिवाइव करने के लिए इस स्कीम को लागू किया जा रहा है।

वित्त मंत्री ने बैंकों को निर्देश दिया कि वो रिजॉल्युशन प्लान को 15 सितंबर तक रोल आउट कर दें। वित्त मंत्री ने बैंकों से यह भी कहा कि लोन रिपेमेंट पर मोरेटोरियम खत्म हो जाता है तो भी जरूरत पड़ने पर उधार लेने वालों को सपोर्ट करें। उन्होंने बताया कि महामारी के बीच इससे बैंकों के क्रेडिट एसेसमेंट पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

वित्त मंत्रालय की तरफ बयान जारी किया गया है। बयान में कहा गया है कि बैंकर्स से बातचीत के दौरान वित्त मंत्री ने रिजॉल्युशन के लिए बोर्ड अप्रुवल पॉलिसी पर विशेष ध्यान दिया। वित्त मंत्री ने योग्य बॉरोवर्स की पहचान कर उनकी सहायत करने पर जोर दिया। मौजूदा​ स्थिति में बिजनेस के लिए जल्द से जल्द रिजॉल्युशन प्लान को लागू करना बेहतर होगा।

यह भी पढ़ें...खुल रहे पब-बार: 9 सितंबर से होटलों, क्लब में मचेगी धूम, सरकार ने दी इजाजत

RBI ने दी रिस्ट्रक्चरिंग की इजाजत

वित्त मंत्री ने प्रमुख बैंकों और गैर-बैंकिंग संस्थानों (NBFC) से वन-टाइम रिस्ट्रक्चरिंग को लागू करने को लेकर चर्चा की। भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) ने बीते महीने ही कॉरपोरेट और रिटेल लोन पर बैंकों को वन-टाइम लोन रिस्ट्रक्चरिंग की इजाजत दी थी। आरबीआई ने कहा था कि इन लोन को बैंक गैर​-निष्पादित अस्तियों (NPA) के तौर पर वर्गीकृत न करें।

Finance Minister Nirmala Sitharaman Meeting With Banks And NBFC वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैंको और एनबीएफसी के साथ बैठक (फोटो: ट्विटर)

यह भी पढ़ें...घट गया सोने का दाम: चांदी हुई सस्ती, जानें अभी खरीद पर कितना फायदा…

रिजॉल्युशन प्लान तैयार करें बैंक

वित्त मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि बैंकों ने आश्वासन दिया है कि वो ​रिजॉल्युशन प्लान को लागू करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने योग्य बारोवर्स की पहचान करने और उनके संपर्क करने की प्रक्रिया की शुरुआत कर दी है। बैंकों की तरफ से यह भी कहा गया कि आरबीआई द्वारा निर्धारित समय सीमा का अनुपालन करेंगे।

यह भी पढ़ें...वित्त मंत्री का एलान: अगस्त में टूटा रिकॉर्ड, आया 600 करोड़ रुपये से ज्यादा का राजस्व

आत्मनिर्भर भारत पैकेज की समीक्षा की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आत्मनिर्भर भारत के तहत घोषित योजनाओं की समीक्षा की। आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना के तहत 42 लाख एमएसएमई को फायदा पहुंचा है। इस योजना के तहत 1 लाख 58 करोड़ रुपए मंजूर किए गए थे जिसमें 31 अगस्त तक 24 लाख अकाउंट में 1 लाख 11 करोड़ रुपए बैंको द्वारा डाले जा चुके हैं।

आंशिक ऋण गारंटी योजना (पीसीजीएस) 2.0 के तहत गैर-बैंक उधारदाताओं को तरलता सहायता प्रदान करने की घोषणा की गई और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 25,055 करोड़ रुपये के बांड और वाणिज्यिक ऋण पत्रों की खरीद को मंजूरी दे दी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story