Good News: अब आसानी से मिलेगा तत्काल टिकट, RPF ने की ये बड़ी कार्रवाई

तत्काल टिकट दो मिनट में ही बुक हो जाता था और इमरजेंसी में यात्रा करने वाले यात्रियों को मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा था। अब आरपीएफ ने इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। अब दो मिनट में तत्काल टिकट खत्म नहीं होंगे

नई दिल्ली: तत्काल टिकट दो मिनट में ही बुक हो जाता था और इमरजेंसी में यात्रा करने वाले यात्रियों को मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा था। अब आरपीएफ ने इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। अब दो मिनट में तत्काल टिकट खत्म नहीं होंगे और यात्री आसानी से टिकट बुक कर सकते हैं।

रेलवे ने अवैध सॉफ्टवेयरों का सफाया किया है। इसके साथ ही उन 60 एजेंटों को गिरफ्तार किया है जो ऐसे तरीकों से टिकटों की बुकिंग कर लेते थे। रेलवे के इस कदम से अब यात्रियों के लिए अधिक संख्या में तत्काल टिकट उपलब्ध होंगे। इस कार्रवाई के बाद यात्रियों के लिए अब तत्काल टिकट घंटों तक उपलब्ध होंगे, जबकि पहले बुकिंग खुलने के बाद एक या दो मिनट में तत्काल टिकट खत्म हो जाते थे।

गिरफ्तार एजेंटों में कोलकाता का एक व्यक्ति भी है और संदेह है कि उसका संपर्क बांग्लादेश स्थित आतंकवादी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश से है। जनवरी में महानिदेशक ने कहा था कि एक ई-टिकट गिरोह का पर्दाफाश किया गया है जिसके तार आतंकवाद के वित्तपोषण और धनशोधन से जुड़े हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें…योगी कैबिनेट ने दी 5 लाख 12 हजार करोड़ के बजट को मंजूरी, जानें क्या है ख़ास

अधिकारियों ने साफ किया है कि एएनएमएस, मैक और जगुआर जैसे अवैध सॉफ्टवेयर आईआरसीटीसी के लॉगिन कैप्चा, बुकिंग कैप्चा और बैंक ओटीपी की बाइपास करते हैं। वास्तविक ग्राहकों को इन सभी प्रक्रियाओं से गुजरना होगा।

उन्होंने बताया कि एक सामान्य ग्राहक के लिए बुकिंग प्रक्रिया में आमतौर पर लगभग 2.55 मिनट लगते हैं, लेकिन ऐसे सॉफ्टवेयरों का उपयोग करने वाले इसे लगभग 1.48 मिनट में पूरी कर लेते।

यह भी पढ़ें…अखिलेश यादव का योगी सरकार पर जोरदार हमला, बजट को लेकर कही ये बड़ी बात

रेलवे एजेंटों को तत्काल टिकट बुक करने की अनुमति नहीं देता और पिछले दो महीनों में आरपीएफ ने लगभग 60 अवैध एजेंटों को पकड़ा जो इन सॉफ्टवेयरों के जरिए टिकट बुक कर रहे थे। ऐसे में अन्य लोगों के लिए तत्काल टिकट प्राप्त करना वस्तुत: असंभव हो गया।

यह भी पढ़ें…हवाला मामले में आया इस बड़े नेता का नाम, सोनिया तक पहुंच सकती है जांच की आंच

अधिकारी ने कहा कि आज मैं कह सकता हूं कि अवैध सॉफ्टवेयरों के जरिए एक भी टिकट नहीं बुक किया जा रहा है। हमने आईआरसीटीसी से जुड़े सभी मुद्दों को हल कर लिया है तथा उन लोगों को भी पकड़ लिया जो सॉफ्टवेयर के प्रमुख ऑपरेटर थे। इन गिरफ्तारियों के साथ ही अधिकतर अवैध सॉफ्टवेयरों को ब्लॉक कर दिया गया है।