अब भारत देगा दूसरे देशों को, चीन से आने वाली इस चीज को खुद बनाया

कोरोना वायरस संकट में भारत अब किसी और देश पर निर्भर होने की बजाए अब खुद से उन उत्पादों का निर्माण कर रहा है। इस बीच अब भारत ने पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) किट की सप्लाई के लिए हरी झंड़ी दे दी है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस संकट में भारत अब किसी और देश पर निर्भर होने की बजाए अब खुद से उन उत्पादों का निर्माण कर रहा है। इस बीच अब भारत ने पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) किट की सप्लाई के लिए हरी झंड़ी दे दी है। कभी भारत PPE किट्स के लिए चीन समेत अन्य देशों पर निर्भर था, लेकिन अब भारत खुद दुनियाभर में इसके सप्लाई करेगा। जिसके लिए सरकार ने भी हरी झंड़ी दिखा दी है।

यह भी पढ़ें: इनके आगे फेल है चीनी मार्शल आर्ट, गुरिल्ला लड़ाके देंगे अब माकूल जवाब

PM मोदी के आह्वान के बाद तमाम कंपनियों ने किया निर्माण

बता दें कि भारत में मार्च से पहले क्लास-3 लेवल पीपीई किट नहीं बनती थीं। लेकिन PM नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को सबसे पहले इस इंडस्ट्री ने साकार कर दिया है। PM मोदी के आह्वान के बाद देश की तमाम कंपनियों द्वारा पीपीई किट बनाने का काम शुरु कर दिया गया। इसी का नतीजा रहा है दो महीने से भी कम समय में ही पीपीई किट बनाने में भारत ने दूसरा स्थान पा लिया। अब भारत WHO स्टैंडर्ड की पीपीई किट एक्सपोर्ट करने को तैयार है।

यह भी पढ़ें: एक ऐसा एसडीएम जिसे आता है पैसा बनाना, सपा नेताओं की डीएम से गुहार

सरकार ने पीपीई किट एक्सपोर्ट करने को दी मंजूरी

बता दें कि अब तक सरकार ने पीपीई किट एक्सपोर्ट करने पर रोक लगाई हुई थी, लेकिन अब अधिक उत्पादन के मद्देनजर सरकार ने पीपीई किट के निर्यात की मंजूरी दे दी है। सरकार ने हर महीने 50 लाख पीपीई किट के निर्यात की हरी झंडी दिखा दी है। यानी अब भारत हर महीने 50 लाख पीपीई किट की सप्लाई दूसरे देशों में कर सकेगा।

यह भी पढ़ें: शिवराज पर सिंधिया पड़ जाएंगे भारी, कल होगा मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल विस्तार

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर दी जानकारी

इस बारे में रेल एवं वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मेक इन इंडिया निर्यात को बढ़ावा देने के लिए, COVID-19 से बचाव के लिए पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) किट के 50 लाख यूनिट हर महीने निर्यात करने की अनुमति दी गई है।

यह भी पढ़ें: अभिलेखों में दर्ज ही नहीं हुआ पांच दशक पुराना आदेश, मामले में आ गया नया मोड़

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।