Top

बिक रहे ये 4 बैंक: सरकार प्राइवेटाइजेशन की तैयारी में, जल्द से जल्द होंगी प्राइवेट

केंद्र सरकार ने बैंकों को लेकर अपनी तैयारियों शुरू कर दी हैं। सरकार अब 4 सार्वजनिक बैंकों में अपनी पार्टनरशिप बेचने की तैयारी में लगी हुई है। बस कुछ ही दिनों में ये प्रोसेस तेजी पकड़ लेगा।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 19 Aug 2020 12:29 PM GMT

बिक रहे ये 4 बैंक: सरकार प्राइवेटाइजेशन की तैयारी में, जल्द से जल्द होंगी प्राइवेट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने बैंकों को लेकर अपनी तैयारियों शुरू कर दी हैं। सरकार अब 4 सार्वजनिक बैंकों में अपनी पार्टनरशिप बेचने की तैयारी में लगी हुई है। बस कुछ ही दिनों में ये प्रोसेस तेजी पकड़ लेगा। ऐसे में इन सार्वजनिक बैंकोंं के निजीकरण की सारी रूकावटों को खत्म कर दिया गया है। जिन बैंकों को निजी हाथों में सौंपना है, उनके नाम ये- पंजाब एंड सिंध बैंक, यूको बैंक, आईडीबीआई बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इन बैंकों को चालू वित्त वर्ष के दौरान ही निजी कंपनियों को बेचने की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

ये भी पढ़ें... लालू को तगड़ा झटका: पार्टी में मची अफरा-तफरी, दिग्गज नेता ने छोड़ा साथ

सरकार अपनी पार्टनरशिप बेच देगी

ताजा मिली खबरों के अनुसार, पीएमओ ने सीनियर अधिकारियों से कहा है कि इन चारों बैंकों को निजी हाथों में बेचने से संबंधित सारी प्रक्रियाएं जल्द से जल्द पूरी की जाएं। पीएमओ की तरफ से इस दिशा में तेज फैसले लेने को कहा गया है।

4 bank become private

साथ ही सरकारी सूत्रों के अनुसार, इन चारों बैंकों में सरकार अपनी पार्टनरशिप बेच देगी। देश में कोरोना वायरस की वजह से टैक्स कलेक्शन में आई कमी को देखते हुए सरकार का रेवेन्यू बढ़ाना मुश्किल हो रहा है।

प्राइवेटाइजेशन पर जोर

जिसके चलते सरकार इन बैंकों को निजी हाथों में बेच कर पैसा जुटाना चाहती है। और यही वजह है कि इनके प्राइवेटाइजेशन पर जोर दिया जा रहा है।

ये भी पढ़ें...सिर्फ 8 रुपये में खाना: सरकार का बड़ा उपहार, ‘कोई भी भूखा नहीं सोये’ है संकल्प

केंद्र सरकार देश में महज चार बड़े बैंक चाहती है। ऐसे में बैंकों का एनपीए लगातार बढ़ता जा रहा है। जिसको ध्यान में रखते हुए बैंकिंग सेक्टर में सुधार के लिए ज्यादा बैंक सरकार की इस दिशा में उठाए जा रहे कदम में बाधा बन सकते हैं इसलिए सरकार अपने अधिकतर बैंकों को प्राइवेट सेक्टर को सौंपना चाहती है।

ये भी पढ़ें...अमीर देशी छोरियाँ: इस छोटे बिजनेस से मिला बड़ा फायदा, बन गई लखपति

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story