तय समय पर ही होगा हरिद्वार कुंभ, अखाड़ा परिषद की सहमति के बिना कोई फैसला नहीं

देश में कोरोना वायरस के हमले के बीच हरिद्वार में अगले साल मार्च में होने वाले कुंभ को लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। कोरोनावायरस को देखते हुए हरिद्वार के कुछ संतो ने महाकुंभ का आयोजन एक साल आगे यानी 2022 में करने का आग्रह किया है।

अंशुमान तिवारी

हरिद्वार: देश में कोरोना वायरस के हमले के बीच हरिद्वार में अगले साल मार्च में होने वाले कुंभ को लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। कोरोनावायरस को देखते हुए हरिद्वार के कुछ संतो ने महाकुंभ का आयोजन एक साल आगे यानी 2022 में करने का आग्रह किया है। दूसरी ओर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्पष्ट किया है कि कुंभ मेले का आयोजन आगे नहीं बढ़ाया जा सकता क्योंकि यह सनातन परंपरा का मामला है।

कोरोना संकट के कारण घोषित लॉकडाउन के दौरान प्रदेश सरकार ने कुंभ से जुड़े कुछ कामों पर भी रोक लगा दी थी। मेला प्रशासन की ओर से स्पष्ट किया गया है कि अखाड़ा परिषद की सहमति के बिना मेले के संबंध में कोई फैसला नहीं लिया जाएगा। इससे मेले का आयोजन तय समय पर ही होने का संकेत मिला है।

ये भी पढ़ें: यूरोपीय यूनियन की ट्रंप से अपील: WHO की फंडिंग रोकने के फैसले पर फिर से सोचें

श्रद्धालुओं की संख्या में आ सकती है कमी

हरिद्वार महाकुंभ के आयोजन में अभी करीब नौ महीने का समय बचा है। इसलिए सरकार के पास इस आयोजन के संबंध में कोई फैसला लेने का थोड़ा वक्त है। इस आयोजन को सफल बनाने के लिए उत्तराखंड सरकार की ओर से काफी प्रयास किए जा रहे हैं।

महाकुंभ के आयोजन को विश्वस्तरीय स्वरूप देने के लिए अभी तक 400 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। इस आयोजन में करीब पांच करोड़ लोगों के हिस्सा लेने का अनुमान लगाया गया था, लेकिन जानकारों का कहना है कि कोरोना संकट के कारण कुंभ के भव्य स्वरूप पर कुछ असर पड़ सकता है। मेले में आने वालों की संख्या में भी कमी की आशंका जताई जा रही है। लॉकडाउन का भी कुंभ मेले की तैयारियों पर काफी असर पड़ा है और कई काम प्रभावित हुए हैं।

कुछ संतो ने की मेले को आगे बढ़ाने की मांग

इस बीच कोरोना संकट को देखते हुए कुछ संतो ने कुंभ को एक साल आगे बढ़ाने की मांग की है। स्वामी विश्वात्मानंद पुरी का कहना है कि विशेष परिस्थितियों को देखते हुए कुंभ मेले के आयोजन को एक साल आगे बढ़ा देना चाहिए। ऐसा करने में कोई हर्ज नहीं है। कुछ अन्य संतों ने भी यह मांग की है। दूसरी ओर मेला प्रशासन की ओर से स्पष्ट किया गया है कि मेले के आयोजन को आगे बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं है और इस बाबत कोई भी फैसला अखाड़ा परिषद की सहमति के बगैर नहीं लिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: G-7 सम्मेलन इतने दिन टाला: समिट में भारत हो सकता है शामिल, ट्रंप ने जताई इच्छा

अखाड़ा परिषद इस पर राजी नहीं

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी का कहना है कि यह सनातन परंपरा का मामला है और हरिद्वार कुंभ मेले का आयोजन को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता। उनका कहना है कि कुंभ मेले के आयोजन में अभी काफी वक्त बचा है और तब तक स्थितियों में काफी सुधार भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार की ओर से ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं आया है और हरिद्वार में काफी तेज गति से काम चल रहा है। इसलिए कुंभ मेले का आयोजन तय समय पर ही होगा।

मेले को भव्य बनाने की कोशिशें

उत्तराखंड सरकार कुंभ मेले को भव्य रूप देने की कोशिश में जुटी हुई है। सरकार ने मौजूदा वित्तीय वर्ष के बजट में कुंभ मेले के लिए 12 सौ करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। राज्य सरकार की ओर से 400 करोड़ रुपए की रकम खर्च की जा चुकी है। इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से भी 365 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की गई है। सरकार की ओर से हरिद्वार में काफी काम कराए जा रहे हैं ताकि आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।

ये भी पढ़ें: यूपी में तबाही: मौसम ने ली 28 लोगों की जान, CM योगी ने किया मुआवजे का एलान

केंद्र की गाइडलाइन का होगा पालन

माना जा रहा है कि कोरोना संकट के कारण इस बार श्रद्धालुओं की संख्या पर असर पड़ सकता है। ‌ विदेश से आने वाले पर्यटकों की संख्या भी कम हो सकती है। जानकारों का कहना है की स्थानीय पर्यटकों की संख्या भी सीमित करने पर विचार संभव है। राज्य सरकार की ओर से स्पष्ट किया गया है कि इस बाबत केंद्र सरकार की गाइडलाइन के हिसाब से ही काम किया जाएगा। केंद्र सरकार की गाइड लाइन का पूरी तरह पालन किया जाएगा।

ये भी पढ़ें: राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा-SpaceX ड्रैगन कैप्सूल पृथ्वी की कक्षा में पहुंचा, हमारे यात्री सुरक्षित

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App