सावधान दिल्ली वालों! हेल्थ इमरजेंसी घोषित, अब नहीं सुधरे तो भुगतोगे

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-NCR में लगातार बढ़ रहे प्रदुषण के मद्देनजर बड़ा आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा करते हुए 5 नवंबर तक निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-NCR में लगातार बढ़ रहे प्रदुषण के मद्देनजर बड़ा आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा करते हुए 5 नवंबर तक निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

इसके साथ ही साथ छठ पर पटाखा फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

यह भी पढ़ें.  250 ग्राम का परमाणु बम! पाकिस्तान का ये दावा, सच्चा या झूठा

हवा की गुणवत्ता लगातार हो रही खराब…

बताते चलें कि दिपावली के बाद से ही दिल्ली-एनसीआर में घना स्माग छाया हुआ है। दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता गुरुवार रात और खराब हो गई, खबर है कि वर्तमान में हवा की गुणवत्ता और गंभीर हो गई है।

ईपीसीए ने लिखा पत्र…

आपको बता दें कि दिल्ली में बढ़ रहे पर्यावरण प्रदूषण के मद्देनजर, पर्यावरण प्रदूषण प्राधिकरण (ईपीसीए) के चेयरपर्सन भूरे लाल ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली के मुख्य सचिवों को पत्र भी लिखा है।

यह भी पढ़ें.  मोदी का मिशन Apple! अब दुनिया चखेगी कश्मीरी सेब का स्वाद

यह भी पढ़ें.  चोरी हो गया दिल्ली का ये फुटओवर ब्रिज, है गजब कहानी

पत्र में कहा ये…

उन्होंने पत्र के माध्यम से कहा कि हमें इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल के रूप में लेना होगा क्योंकि वायु प्रदूषण का सभी पर, विशेष रूप से हमारे बच्चों पर प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव पड़ेगा।

‘ज्यादा गंभीर’ स्थिती में दिल्ली…

दिपावली के बाद से लगातार दिल्ली में हवा की गुणवत्ता लगातार खराब हो रही है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर ‘ज्यादा गंभीर’ श्रेणी में प्रवेश कर गया है।

यह भी पढ़ें.  AK-47 से जवाहर पंडित की हुई थी हत्या! करवरिया बन्धुवों पर आया बड़ा फैसला

यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने पर्यावरण प्रदूषण प्राधिकरण(रोकथाम और नियंत्रण) ने सर्दियों के मौसम में पटाखे फोड़ने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

पराली जलाए जाने से वायु गुणवत्ता ‘अति गंभीर’…

पंजाब और हरियाणा में प्रतिबंध के बावजूद लगातार पराली जलाए जाने के कारण दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) की वायु गुणवत्ता बहुत ज्यादा बिगड़ गई है।

बता दें कि अधिकारियों ने यह जानकारी दी है, सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) इंडिया के अनुसार, दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 412 पर पहुंच गया है जो ‘अति गंभीर’ श्रेणी में आता है।

यह भी पढ़ें.  10 करोड़ की होगी मौत! भारत-पाकिस्तान में अगर हुआ ऐसा, बहुत घातक होंगे अंजाम

यह कहते है आंकड़ें…

आंकड़ों की मानें तो पराली जलाए जाने से दिल्ली-एनसीआर में बुधवार को धुंध और वायु प्रदूषण 35 प्रतिशत रहा, गुरुवार को इसके 24 प्रतिशत रहने का अनुमान था और शुक्रवार को इसके 25 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) इंडिया के अनुसार, दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 412 पर पहुंच गया है जो ‘अति गंभीर’ श्रेणी में आता है।