×

राज्य में फैली दहशत: इस खतरनाक बीमारी ने दी दस्तक, अचानक गिरकर मर रहे पक्षी

स्थानीय प्रशासन ने पौंग डैम में मृच मिले पक्षियों के सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा था। इन पक्षियों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। वन विभाग ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में पक्षियों की मौत के बाद प्रशासन ने उनके सैंपल जांच के लिए भेजे थे।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 4 Jan 2021 5:07 PM GMT

राज्य में फैली दहशत: इस खतरनाक बीमारी ने दी दस्तक, अचानक गिरकर मर रहे पक्षी
X
हिमाचल प्रदेश में बर्ड फ्लू वायरस के मामले मिले हैं। इस बीमारी के कारण कांगड़ा के पौंग झील में 1700 प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच देश में बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। हिमाचल प्रदेश में बर्ड फ्लू वायरस के मामले मिले हैं। इस बीमारी के कारण कांगड़ा के पौंग झील में 1700 प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है। इन पक्षियों में H5N1 वायरस( बर्ड फ्लू) पाया गया है।

स्थानीय प्रशासन ने पौंग डैम में मृच मिले पक्षियों के सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा था। इन पक्षियों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। वन विभाग ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में पक्षियों की मौत के बाद प्रशासन ने उनके सैंपल जांच के लिए भेजे थे। रिपोर्ट में सभी पक्षियों में H5N1 एवियन इनफ्लुंजा के वायरस पाए गए हैं।

पौंग जलाशय में है पक्षियों की सेंक्चुरी

प्रदेश की राजधानी शिमला से लगभग 300 किलोमीटर दूर कांगड़ा में पौंग जलाशय स्थित हैं। यहां पर प्रवासी पक्षियों की सेंक्चुरी बनाई गई है। यहां हर साल साइबेरिया और मध्य एशिया के ठंडे इलाकों से सर्दियों में लाखों पक्षी आते हैं और फरवरी-मार्च तक रहते हैं। इसके बाद यह पक्षी वापस चले जाते हैं।

ये भी पढ़ें...सरकारी कर्मचारियों को नए साल का तोहफा: हुआ ये बड़ा ऐलान, लोगों में खुशी की लहर

Bird Flu in himachal pradesh

इस साल अबतक सिर्फ कुछ दिनों में ही 1700 पक्षियों की मौत हो गई है। इसके बाद जिला प्रशासन ने इस जलाशय के आसपास चिकन, अंडे समेत पोल्ट्री उत्पादों की बिक्री पर बैन लगा दिया है। पौंग झील के एक किलोमीटर के दायरे में आने वाले क्षेत्र को अलर्ट जोन घोषित कर दिया गया है। प्रशासन ने पर्यटकों को भी इन क्षेत्रों में न जाने की सलाह दी है।

ये भी पढ़ें...लोकसभा अध्यक्ष की होनहार बेटी: सिविल सर्विसेज में सेलेक्शन, गदगद हुए ओम बिरला

मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि

हिमाचल प्रदेश से पहले मध्य प्रदेश में मृत पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई थी। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों वाले मरीजों का पता करने के लिए अभियान शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश के इंदौर में हाल ही में कौए मृत पाए गए थे। अभी मृत पक्षियों की खोज की जा रही है।

ये भी पढ़ें...स्वदेशी वैक्सीन पर बड़ी खबर: भारत बायोटेक के MD ने दी ये जानकारी, जान लें देश

तो वहीं राजस्थान के झालावाड़ जिले में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। प्रदेश के कोटा और पाली में भी कौवों की मौत हुई है। राजस्थान के पांच जिलों में यह फैल चुका है। शनिवार को बारां में 19, झालावाड़ में 15 और कोटा के रामगंजमंडी में 22 और कौए मृत पाए गए। इन तीन जिलों में अब तक 177 कौवों की जान जा चुकी है। मध्यप्रदेश के इंदौर में भी करीब 70 कौओं की मौत हो चुकी है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story