Top

इन शहरों में आसमान छू रहे प्याज के दाम, जानिए कब तक मिलेगी जनता को राहत

निर्यात पर रोक के बावजूद प्याज के दामों में लगातार बढ़ोतरी से सरकार भी अब परेशान हो गई है। प्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए खुद गृहमंत्री अमित शाह को आगे आना पड़ा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 24 Sep 2020 1:25 PM GMT

इन शहरों में आसमान छू रहे प्याज के दाम, जानिए कब तक मिलेगी जनता को राहत
X
प्याज की खुदरा कीमतें लगभग पूरे देश में सौ रुपये प्रति किलोग्राम को पार कर चुकी हैं। कुछ शहरों में इसका खुदरा भाव डेढ़ सौ रुपये किलो तक जा पहुंच है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: एकबार फिर से प्याज के दाम ने जनता की आंखों में आंसू ला दिए है। कई शहरों में प्याज के दाम 100 रुपए के पार पहुंच गये हैं।

निर्यात पर रोक के बावजूद प्याज के दामों में लगातार बढ़ोतरी से सरकार भी अब परेशान हो गई है। प्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए खुद गृहमंत्री अमित शाह को आगे आना पड़ा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्रीय मंत्रियों तथा शीर्ष अधिकारियों के साथ गुरुवार को अमित शाह ने बैठक की। उन्होंने कीमतों पर नियंत्रण लाने के लिए आयात के जरिये प्याज की घरेलू उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में हुई प्रगति की समीक्षा की। इस बैठक में रेल मंत्री पीयूष गोयल और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी मौजूद रहे।

Amit Shah अमित शाह की फोटो(सोशल मीडिया)

पासवान बैठक में मौजूद नहीं रहे

हालांकि खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान स्वास्थ्य कारणों से बैठक में भाग नहीं ले पाए। बैठक में मंत्रिमंडलीय सचिव राजीव गौबा, प्रधानमंत्री के सलाहकार पी.के.सिन्हा और उपभोक्ता मामलों के सचिव अविनाश श्रीवास्तव शामिल हुए।

शाह ने प्याज की उपलब्धता बढ़ाकर कीमतों पर काबू करने के लिये आयात तेज करने के संबंध में पिछली बैठक में लिये गये निर्णय पर अमल की प्रगति की समीक्षा की। श्रीवास्तव ने बैठक में प्याज की कीमतों की स्थिति प्रस्तुत की।

यह भी पढ़ें…कोरोना के खिलाफ जंग में हथियार बनेगा ‘गंगाजल’, बीएचयू के वैज्ञानिकों की बड़ी तैयारी

तीन महीने बाद मिलेगी राहत

श्रीवास्तव ने बताया कि MMTC ने मिस्र और तुर्की से 21 हजार टन प्याज मंगाने के लिए ठेके दिये हैं। इनकी खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने का उम्मीद है।

सूत्रों के अनुसार, सचिव ने कहा कि आयातित प्याज के जल्दी पहुंचने के लिये ठेके देने तथा ध्रुमीकरण संबंधी प्रावधानों को आसान किया गया है। एमएमटीसी को दो विशेष देशों के लिये तथा एक वैश्विक ठेके देने का निर्देश दिया गया है। ये तीनों ठेके पांच-पांच हजार टन के होंगे।

कई शहरों में दाम 100 के पार

यहां बता दें कि फिलहाल खुदरा तथा थोक विक्रेताओं के लिये भंडारण की सीमा को और घटाकर पांच टन व 25 टन कर दिया गया है। इसके साथ ही प्याज का निर्यात रोक दिया गया है और सुरक्षित भंडारों के जरिये उपलब्धता बेहतर की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि प्याज की खुदरा कीमतें लगभग पूरे देश में सौ रुपये प्रति किलोग्राम को पार कर चुकी हैं। कुछ शहरों में इसका खुदरा भाव डेढ़ सौ रुपये किलो तक जा पहुंच है।

यह भी पढ़ें…भारत-चीन के बीच समझौता! LAC पर सैनिकों की तैनाती पर रोक, सुधरेंगे हालात

बारिश के कारण बढ़े प्याज के दाम

गौरतलब है कि सरकार ने प्याज के निर्यात पर रोक लगा रखी है। प्रतिबंध लगाने के बाद भी प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी जारी है। निर्यात पर प्रतिबंध लगने के बाद से प्याज की कीमतों में 20% से 30% की वृद्धि हुई है।

प्याज की कीमतों में दिसंबर तक वृद्धि जारी रहने की उम्मीद है। इसकी वजह यह है कि ज्यादा बारिश से प्याज की फसल को नुकसान हुआ है।

इसके अलावा प्रमुख राज्यों में खरीफ की फसल में देरी भी हुई है। सरकार ने कीमतों पर लगाम लगाने के लिए 14 सितंबर को प्याज के निर्यात पर प्रतिबन्ध लगा दी थी।

Onion प्याज की फोटो(सोशल मीडिया)

इन शहरों में आसमान छू रहे प्याज के दाम

  • शहर - आलू - प्याज - टमाटर

    तुरा - 50 - 40 - 120

    इम्फाल - 50 - 50 - 100

    ईटानगर - 50 - 50 - 80

    श्रीनगर. - 50 - 40 - 70

    लखनऊ. - 35 - 50 - 70

    गुवाहाटी - 35 - 38 - 70

    पटना - 36 - 35 - 63

    दिल्ली - 37 - 43 - 62

    गोरखपुर - 40 - 38 - 60

    मुंबई - 42 - 49 - 56

यह भी पढ़ें…भारत ने नेपाल की अक्ल लगाई ठिकाने, गलती करने के बाद अब पछतावे का कर रहा दिखावा

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story