भारत में कोरोना पर ICMR का बड़ा बयान, लोगों में दौड़ी खुशी की लहर

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव का कहना है कि भारत में कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर नहीं है। हमारे यहां कोरोना से अधिक मौतें नहीं हुई हैं।

Published by Shreya Published: September 16, 2020 | 11:18 am
corona virus

भारत में कोरोना पर ICMR का बड़ा बयान, लोगों में दौड़ी खुशी की लहर (फोटो- सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ा ही जा रहा है। देश में कोविड-19 संक्रमितों की संख्या 50 लाख के पार पहुंच चुकी है। इस बीच ICMR का बड़ा बयान सामने आया है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव का कहना है कि भारत में कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर नहीं है। हमारे यहां कोरोना से अधिक मौतें नहीं हुई हैं।

यह भी पढ़ें: भारत-चीन में फायरिंग: ताबड़तोड़ चली दोनों तरफ से गोलियाँ, वर्षों बाद हुआ ऐसा

संक्रमण का बढ़ना चिंता का विषय नहीं

महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव के मुताबिक, भारत में कोविड संक्रमण की स्थिति गंभीर नहीं है, संक्रमण का बढ़ना चिंता का विषय नहीं है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और यूरोपीय देशों में भी संक्रमण चरम पर था, उसके बाद वहां धीरे-धीरे संक्रमण में कमी आने लगी। अब वहां पर कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर चल रही है। भार्गव ने कहा कि हमने इससे सीख लेकर ऐसा प्रबंधन किया, जिससे हमारे यहां ज्यादा मौतें नहीं हुईं।

यह भी पढ़ें: अपराधियों के हौसले बुलंद: लाखों रुपए लूटकर फरार, व्यापारियों में आक्रोश

ICMR

बीमारी की प्रगति को रोकने में प्लाज्मा थेरेपी मददगार नहीं

ICMR के महानिदेशक ने कहा कि कई जगहों पर किए गए नियंत्रित परीक्षण से यह पता चला है कि मौत के मामलों को नियंत्रित करने या मध्यम से गंभीर बीमारी की प्रगति को रोकने में प्लाज्मा थेरेपी मददगार नहीं है। इस परीक्षण में 14 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के 25 जिलों के 39 अस्पतालों में 464 मरीज शामिल हुए थे।

यह भी पढ़ें: मनजिंदर सिंह ने करण जौहर पर लगाया सनसनीखेज आरोप, दर्ज हुई शिकायत

सौ सालों से किया जा रहा प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल

उन्होंने कहा कि सौ सालों से भी ज्यादा समय से किसी ना किसी तरह वायरस इंफेक्शन के लिए प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता रहा है। इबोला वायरस के दौरान भी प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल किया गया था और अब कोरोना वायरस महामारी के बीच भी इसका उपयोग किया गया। इससे फायदा होता है या नहीं इसको जानने के लिए स्टडी की जा रही है।

यह भी पढ़ें: UP में फिर चली तबादला एक्सप्रेस, इनकी हुई छुट्टी, देखें किसे कहां मिली तैनाती

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App