×

जम्मू-कश्मीर पर बौखलाए इमरान, बोले कर दूं भारत पर हमला

जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 के हटाएं जाने के बाद अब उसे केंद्रशासित प्रदेश घोषित कर दिया है। मोदी सरकार के जम्मू-कश्मीर के लिए उठाए इस कदम से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अब भारत से युध्द का डर लग रहा है। 

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 7 Aug 2019 8:49 AM GMT

जम्मू-कश्मीर पर बौखलाए इमरान, बोले कर दूं भारत पर हमला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 के हटाएं जाने के बाद अब उसे केंद्रशासित प्रदेश घोषित कर दिया है। मोदी सरकार के जम्मू-कश्मीर के लिए उठाए इस कदम से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अब भारत से युध्द का डर लग रहा है। इमरान खान अपने ही देश पाकिस्तान में बुरी तरह से घिर गए।

इमरान के चेहरें पर आए ऐसे भाव

जम्मू-कश्मीर पर आए फैसले को लेकर पाक की संसद में मंगलवार को संयुक्त सत्र बुलाया गया था। लेकिन संसद में जब पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर के मुद्दों पर सवालों के जवाब दे रहे थे तो खुद इमरान के ही चेहरे पर चिड़न सी नजर आ रही थी।

यह भी देखें... जम्मू-कश्मीर से बड़ी खबर: अब इस फिराक में बौखलाया पाकिस्तान

संसद में संयुक्त बैठक के दौरान इमरान खान विपक्ष नेता शाहबाज शरीफ के सवालों का जवाब देते हुए अपना आपा खो बैठे। उन्होंने विपक्ष से सलाह मांगते हुए कहा- कि आप ही बताएं कि कश्मीर में भारतीय कार्रवाई के जवाब में उनकी सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए।

पाक पीएम इमरान ने कहा, आखिर मैंने कौन सा कदम नहीं उठाया है, हमारा विदेश मंत्रालय तमाम देशों के राजदूतों के साथ बैठक कर रहा है। मैं दूसरे देशों के साथ भी संपर्क कर रहा हूं। अंतरराष्ट्रीय मंच से भी मदद मांग रहे हैं। शरीफ बताएं कि अब मुझे और क्या करना चाहिए?

बोले- क्या हिंदुस्तान पर हमला कर दें?

पीएम इमरान ने कहा, हम संयुक्त राष्ट्र में सालों से गुहार लगा रहे हैं, हमने इस्लामिक सहयोग संगठन से भी कल बात की। कौन सी चीज है जो मैंने नहीं की, जो विपक्ष हमें ललकार रहा है, हम क्या हिंदुस्तान पर हमला कर दें?

पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार ऐसे तमाम पड़ोसी देशों के साथ अच्छे ताल्लुकात चाहती थी इसीलिए उन्होंने अफगानिस्तान, ईरान और भारत से रिश्ते संवारने की कोशिश की।

यह भी देखें... सुषमा और स्वराज की प्रेम कहानी, सिर्फ दिल की सुनी और बनाया इन्हें हमसफर

इमरान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने हमारी बात समझने के बजाय चुनाव में फायदा उठाने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ बयान दिए।

आगे इमरान ने कहा, अगर पारंपरिक युद्ध होता है तो दो नतीजे हो सकते हैं। युद्ध हमारे खिलाफ जा सकता है या हमारे हक में हो सकता है। अगर युद्ध हमारे खिलाफ जाता है तो एक रास्ता होगा कि हम हाथ खड़े कर हार मान लें और दूसरा रास्ता होगा- टीपू सुल्तान की तरह आखिरी कतरे तक लड़ाई लड़ें।

अगर हम आखिरी कतरे तक लड़ते हैं तो फिर इस जंग को कोई नहीं जीत पाएगा। सब हार जाएंगे। उसका असर पूरी दुनिया पर पड़ेगा। मैं परमाणु युद्ध की धमकी नहीं दे रहा हूं। मैं सामान्य समझ की अपील कर रहा हूं। अच्छे की उम्मीद करिए लेकिन सबसे खराब परिस्थिति के लिए भी तैयार रहिए।

विपक्ष नेता बोले, युद्ध छेड़ने की जरूरत नहीं

विपक्ष नेता शाहबाज शरीफ ने इमरान के भाषण के बाद जवाब दिया कि उन्हें युद्ध छेड़ने की जरूरत नहीं है लेकिन उन्हें मजबूती से अपना पक्ष रखना चाहिए।

शाहबाज शरीफ ने इमरान खान की सरकार से कश्मीर पर भारत के फैसले का जवाब देने की मांग की। उन्होंने कहा, इसमें कोई शक नहीं है कि हमें अपने सभी पड़ोसियों के साथ अच्छे रिश्ते बनाने चाहिए। हम भारत के खिलाफ तीन युद्ध लड़े और नतीजे सबके सामने हैं...हम दोस्ताना रिश्ता चाहते हैं लेकिन आत्मसम्मान के साथ।

यह भी देखें... ना हार से विचलित होती थी, ना मेहनत से घबराती थी….कुछ ऐसी थी हमारी पूर्व विदेश मंत्री Sushma Swaraj

इस पर विपक्ष के नेता ने सवाल किया, क्या ये हमारी सामूहिक असफलता नहीं है? हमें पता ही नहीं था कि भारत सरकार क्या सोच रही थी। हम पाकिस्तान के लिए एक साथ खड़े हैं लेकिन यह एकता बिना आत्मनिरीक्षण के बिना नहीं आएगी। हमारे पास दो विकल्प है- या तो हम छिप जाएं या फिर हम कुछ ठोस फैसला करें। छिपना कोई विकल्प नहीं है इसलिए हमें कोई फैसला लेना होगा।

उन्होंने यह भी कहा कि हमारे मित्र देश जैसे चीन भी पाकिस्तान के समर्थन में खड़े नहीं हो रहे हैं। क्या ये हमारी विदेश नीति की असफलता नहीं है? ट्रंप के कश्मीर मुद्दे पर भारत-पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता के प्रस्ताव पर शाहबाज ने पूछा कि ये ट्रंप कार्ड था या फिर ट्रैप कार्ड?

यूं संसद से बाहर चले गए इमरान

उन्होंने कहा, हम मोदी को भारत को इजरायल और कश्मीर को फिलिस्तीन में नहीं बदलने देंगे.. भारत को फ्री हैंड मिल गया है जबकि हम दुनिया भर को यह आश्वस्त करते फिरते हैं कि हम काबुल में शांति चाहते हैं। क्या अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने के लिए केवल हमारी ही जवाबदेही है।

यह भी देखें... RIPSushma: आखिरी लम्हों में PM मोदी को किया था याद, इन लोगों ने जताया शोक

संसद में जवाबों-सवालों के चलते शाहबाज शरीफ का जवाब सुनने के बाद ही पाक पीएम इमरान खान संसद से बाहर चले गए।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story