चीन को जवाब देने की तैयारीः अग्रिम मोर्चों पर बढ़ाई तैनाती, खाली कराए गांव

सोमवार की रात लद्दाख की गलवन घाटी में चीनी सैनिकों की धोखेबाजी के बाद अब भारतीय सेना और ज्यादा सख्त हो गई है। अब सेना अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती।

नई दिल्ली: सोमवार की रात लद्दाख की गलवन घाटी में चीनी सैनिकों की धोखेबाजी के बाद अब भारतीय सेना और ज्यादा सख्त हो गई है। अब सेना अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। सेना की ओर से चीन से लगी सभी सीमाओं के अग्रिम मोर्चों पर तैनाती बढ़ा दी गई है। इसलिए भारत के खिलाफ कोई भी कदम उठाने से पहले चीनी सैनिकों को हजार बार सोचना होगा। इसके साथ ही कई सीमावर्ती गांवों को भी खाली कराया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: चीन पर एयर स्ट्राइक! सेना देगी मुंहतोड़ जवाब, इस एयरबेस को मिली बड़ी जिम्मेदारी

सैन्य कमांडर स्तर पर हुई बातचीत

वहीं सीमा पर बने मौजूदा हालात को सामान्य करने के लिए सैन्य कमांडर स्तर पर बातचीत हुई। जिसमें सेना की ओर से एक बार फिर से स्पष्ट किया गया कि चीन के पास गलवान घाटी में पहली की स्थिति को बहाल करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। बता दें कि दोनों देशों में हुई हिंसक झड़प के बाद दोनों पक्षों के मेजर जनरल ने विवाद को सुलझाने के लिए लगातार तीसरे दिन भी बैठक की।

बैठक में नहीं बनी किसी प्रकार की सहमति

गुरुवार को दोनों पक्षों के बीच करीब 6 घंटे तक बैठक चली। सूत्रों का कहना है कि ह बैठक गलवान घाटी के करीब ही हुई है। चीनी सेना के रुख के चलते दोनों पक्षों के बीच अभी तक किसी प्रकार के सहमति के संकेत नहीं मिले हैं। वहीं दोनों पक्षों की ओर से बैठक के नतीजों को लेकर भी कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया। बुधवार को भी दोनों पक्षों के अफसरों के बीच हुई बैठक में सहमति नहीं बन सकी थी।

यह भी पढ़ें: नरेन्द्र मोदी जवाब दे दें, नेहरू की नीति छोड़ बखेड़ा क्यों कर रहे मां-बेटा

हिंसक झड़प में भारतीय सेना केे 20 जवान हुए शहीद

बैठक गलवान घाटी के करीब ही हुई है। जहां पर सोमवार की रात चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं आपको बता दें कि चीन ने अभी तक अपनी सेना की तरफ हुए नुकसान को लेकर कोई आंकड़ा जारी नहीं किया है। लेकिन सामरिक सूत्रों का कहना है कि उसके करीब 40 से ज्यादा सैनिकों को नुकसान पहुंचा है।

चीनी सेना गलवान घाटी में पीछे हटने को तैयार नहीं

बता दें कि चीनी सेना गलवान घाटी में पीछे हटने को तैयार नहीं है। उसने गलवन घाटी से करीब एक किलोमीटर दूर LAC के पार अपने इलाके में सैन्य वाहनों और सैनिकों का जमावड़ा कर रखा है। वह अब भी गलवन घाटी में संघर्ष के इलाके से पीछे हटने को तैयार नहीं है। वहीं भारतीय सेना ने भी इस घटना के बाद अपने सैनिकों का जमावड़ा बढ़ा दिया है। साथ ही इस इलाके से करीब दो से तीन किलोमीटर दूर सेना के दर्जनों ट्रक जरूरी संसाधनों के साथ खड़े किए गए हैं।

यह भी पढ़ें: टंडन की हालत गंभीरः उपचार के लिए सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों की मांगी राय

तनाव दूर करने की कोशिशें तेज

मौजूदा हालात को सामान्य करने के लिए दोनों देशों की ओर से कोशिशें की जा रही हैं। गलवान सेक्टर में स्थानीय सैन्य कमांडरों के बीच होने वाली बातचीत के अलावा दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के बीच लगातार संपर्क बना हुआ है। हालांकि इस मसले पर अब तक कोई सहमति नहीं बनी है।

यह भी पढ़ें: चीनी सेना का खुलासा: इंडियन आर्मी को बनाया बंधक, अब चुुप नहीं बैठेगा भारत

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App