Top

आखिर सीमा पर भाला और धारदार हथियार लेकर चीनी सैनिक ये क्या कर रहे हैं?

भारत और चीन के बीच सीमा पर सोमवार को हुई ताजा फायरिंग की घटना के बाद से हालात और भी ज्यादा तनावपूर्ण हो गये हैं। चीन का आरोप है कि भारतीय सेना ने जानबूझकर उकसावे के लिए एलएसी पर गोलीबारी की है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 8 Sep 2020 1:32 PM GMT

आखिर सीमा पर भाला और धारदार हथियार लेकर चीनी सैनिक ये क्या कर रहे हैं?
X
भारत ने आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा है कि चीनी सेना ने भारत की एक फॉरवर्ड पोजिशन के करीब आने की‌ कोशिश की और डराने के इरादे से हवाई फायरिंग की।‌
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच सीमा पर सोमवार को हुई ताजा फायरिंग की घटना के बाद से हालात और भी ज्यादा तनावपूर्ण हो गये हैं। चीन का आरोप है कि भारतीय सेना ने जानबूझकर उकसावे के लिए एलएसी पर गोलीबारी की है।

जबकि भारत ने चीन के आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा है कि चीनी सेना ने भारत की एक फॉरवर्ड पोजिशन के करीब आने की‌ कोशिश की और डराने के इरादे से हवाई फायरिंग की।‌ दोनों के बीच हुई हॉट टॉक के बाद से ये मामला और भी ज्यादा उलझ गया है।

भारत और चीन के बीच‌ हालात कितने तनावपूर्ण बन गए हैं इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 45 साल बाद एलएसी पर फायरिंग की घटना सामने आई है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक फायरिंग की इस घटना के बाद से रेजांगला के करीब मुखपरी हिल पर चीनी सैनिक भाले और दूसरे हथियार लेकर भारतीय सेना से कुछ मीटर की दूरी पर जमी हुई है। वह अब भारतीय सेना पर हमला बोलने का मौक़ा तलाश रही है।

Army एलएसी पर तैनात भारतीय सैनिक की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

ये भी देखें: तेज प्रताप को पत्नी ऐश्वर्या का डर! छोड़ सकते हैं चुनावी मैदान, जानें कितनी सच्चाई

चीन की पुलिस पत्रकारों को राष्ट्रीय सुरक्षा के आरोप में कर सकती थी गिरफ्तार

उधर ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार बिल बरटल्स और माइकल स्मिथ ने गोपनीय तरीके से ऑस्ट्रेलियाई राजनयिक मिशन में कई दिनों तक शरण ले रखी थी। इन पत्रकारों का कहना था कि चीन की पुलिस इन दोनों को राष्ट्रीय सुरक्षा के आरोप में गिरफ्तार कर सकती थी। बाद में सिडनी पहुंचने पर आस्ट्रेलिया ब्राडकास्टिंग कारपोरेशन के बीजिंग संवाददाता बिल बरटल्स ने कहा कि उस देश में वापस लौटना राहत भरा है जहां वास्तव में कानून का शासन है।

ये भी देखें: कूड़े के ढेर में मिली रहस्यमयी वस्तु, छूते ही हो गया तेज धमाका, यहां कई लोग घायल

China चीन के ध्वज की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

आधी रात को पुलिस की छापेमारी की

दूसरे पत्रकार हैं माइकल स्मिथ जो ऑस्ट्रेलियन फाइनेंशियल रिव्यू (एएफआर) के शंघाई संवाददाता हैं। पिछले दिनों बरटल्स और स्मिथ के घर पर आधी रात को पुलिस की छापेमारी हुई थी और उन्हें ‘राष्ट्रीय सुरक्षा’ मामले में पूछताछ के लिए चेतावनी दी गई थी। पिछले सप्ताह चीन में ऑस्ट्रेलिया के दूतावास ने बरटल्स को देश छोड़ने की सलाह भी दी थी।

ये भी पढ़ें- LAC पर बड़ी बैठक: चीन से तनाव लगातार बढ़ता जा रहा, चर्चा में ये होंगे शामिल

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story