LAC पर तनाव: भारत-चीन के बीच फिर बातचीत, पहली बार होगा ऐसा

लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति जारी है। अब इस बीच एक बार फिर बॉर्डर पर भारत और चीन की सेना के अधिकारियों के बीच बातचीत होगी। अगस्त के आखिर में तनाव बढ़ने के बाद बातचीत बंद हो गई थी।

India-China

LAC पर तनाव: भारत-चीन के बीच फिर बातचीत, पहली बार होगा ऐसा (फोटो: सोशल मीडिया)

 

नई दिल्ली: लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति जारी है। अब इस बीच एक बार फिर बॉर्डर पर भारत और चीन की सेना के अधिकारियों के बीच बातचीत होगी। अगस्त के आखिर में तनाव बढ़ने के बाद बातचीत बंद हो गई थी।

सोमवार को दोनों देशों में कॉर्प्स कमांडर लेवल की बात होगी विवाद को सुलझाने, सैनिकों की संख्या कम करने पर जोर रहेगा।

भारत की तरफ से इस बैठक में लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह (कॉर्प्स कमांडर) शामिल होंगे, तो वहीं चीन की तरफ से मेजर जनरल लिन लिउ (PLA) मौजूद होंगे। यह दोनों देशों के बीच बैठक मोल्डो क्षेत्र में होगी।

यह भी पढ़ें…इमारत भरभराकर गिरी: मलबे से निकल रहीं लाशें, कई लोग अब भी फंसे, रेस्क्यू जारी

सबस बड़ी बात यह है कि इस बार भारत की तरफ से विदेश मंत्रालय के अधिकारी नवीन श्रीवास्तव भी इस बैठक में शामिल हो सकते हैं। नवीन संयुक्त सचिव हैं और विदेश मंत्रालय के ईस्ट एशिया विभाग में कार्यरत हैं। इसके अलावा वो उस पैनल में शामिल हैं, जो चीन के साथ सीमा विवाद पर चर्चा करती है।

India-China

भारतीय डेलिगेशन में लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह के अलावा मेजर जनरल अभिजीत बापत, मेजर जनरल पदम शेखावत, दीपक सेठ (IG ITBP) और चार अन्य ब्रिगेडियर शामिल होंगे। भारत ने स्थिति साफ कर दी है कि वो एक इंच भी पीछे नहीं हटेगा और अपनी जमीन नहीं छोड़ेगा।

यह भी पढ़ें…किसानों की चेतावनी: मोदी सरकार सावधान, कृषि अध्यादेश के खिलाफ बंद का एलान

इस बैठक में देपसांग का मामला भी उठ सकता है, क्योंकि चीन की तरफ से बड़े स्तर पर यहां अपनी मौजूदगी दर्ज कराई गई है। इसके अलावा मुख्य फोकस पैंगोंग के नॉर्थ और साउथ बैंक पर जारी हलचल को लेकर होगा। भारत की तरफ से गलवान की तरह ही इन इलाकों में सैनिकों को हटाने की मांग की जाएगी। विदेश मंत्री और रक्षा मंत्रियों के बीच जो बैठक हुई थी और उसमें जो तय किया गया था, भारत की तरफ से उन्हीं बातों का पालन करने की मांग होगी।

यह भी पढ़ें…आ गया महाप्रलय! यहां मचाई भयानक तबाही, अब आसमान से आएगी मदद

भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी कई बार साफ कर चुके हैं कि सीमा पर हालात बिगड़ने के पीछे चीन की जिद है, चीन एलएसी को नहीं मान रहा है। ऐसे में भारत को ना ही कोई पैट्रोलिंग से रोक सकता है और ना ही कोई LAC को बदल सकता है। इन्हीं मामले को आगे बातचीत होगी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App