रक्षा मंत्रालय ने नेताओं से कहा-लेह की यात्रा करना उचित नहीं, वजह जान दंग रह जाएंगे

लद्दाख से सटे सीमा पर भारत और चीन के बीच पिछले 6 महीने से तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। शांति बहाली और सैनिकों को विवादित क्षेत्रों से हटाने को लेकर कई दौर की वार्ता भी हो चुकी है लेकिन कोई खास सफलता हाथ नहीं लगी है।

Bipin Rawat And Adheer Rsnjan

सीडीएस बिपिन रावत और कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी(फोटो:सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। दोनों तरफ से कई दौर की वार्ताएं भी हुई लेकिन इस मसले का कोई हल नहीं निकला। नतीजतन दोनों देशों की सेनाएं आमने -सामने हथियार लेकर डटी हुई है। सीमा पर युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं।

इस बीच रक्षा मंत्रालय ने पब्लिक अकाउंट कमिटी (पीएसी) से कहा है की अभी लेह की यात्रा करना उचित नहीं है। पीएसी पैनल की प्रस्तावित यात्रा से सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों पर अतिरिक्त दबाव बनेगा।

ये जानकारी सीडीएस जनरल बिपिन रावत सहित सरकार के शीर्ष अधिकारियों ने लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी की अध्यक्षता वाली समिति के समक्ष पेश होने के बाद दी।

Indian Army at Laddakh
भारतीय सेना(फोटो: सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…सात सीटों पर 15 दागीः हत्‍या व बलात्‍कार के आरोपितों को चुनने की मजबूरी

सैनिकों को मिलने वाली सुविधाओं का विश्लेषण करने के लिए जाने वाली थी पीएसी

बता दें कि पब्लिक अकाउंट कमिटी (पीएसी) में 20 सदस्य हैं और उनमें से अधिकांश भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से हैं। उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सैनिकों को प्रदान की जाने वाली कामकाजी परिस्थितियों और सुविधाओं का विश्लेषण करने के लिए अगले महीने लेह में पीएसी की यात्रा प्रस्तावित है।

पब्लिक अकाउंट कमिटी (पीएसी) के सदस्य भारत-चीन सीमा सड़क पर कैग की एक रिपोर्ट की जांच कर रहे हैं, साथ ही कमिटी उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर सैनिकों के लिए कपड़े, उपकरण, राशन और आवास की व्यवस्था तथा खरीद की रिपोर्ट देख रही है।

Indian Army Truck
भारतीय सेना का ट्रक(फोटो:सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…भारत इस देश के साथ: आतंकी हमलों का हुआ शिकार, पीएम मोदी ने किया बड़ा एलान

कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कही ऐसी बात

वहीं इस बारें में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने बताया कि संसदीय पैनल के सदस्य बुनियादी ढांचे की वास्तविकताओं और उच्च-ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तैनात सशस्त्र बलों को प्रदान किए गए कपड़ों की पड़ताल करने के लिए लेह जाना चाहते थे।

लेकिन सूत्रों ने बताया कि रक्षा मंत्रालय ने पीएसी को सूचित किया है कि अभी लद्दाख की यात्रा करने का ये समय ठीक नहीं है क्योंकि सेना सीमा पर तनाव को कम करने में व्यस्त हैं।

पीएसी में शामिल कुछ सदस्यों ने भी कठिन मौसम की स्थिति को देखते हुए लेह में बर्फीले क्षेत्रों का दौरा करने को सही नहीं ठहराया है क्योंकि इससे वहां तैनात मौजूद बलों पर मानसिक दबाव बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें…फ्रांसीसी दूतावास पर हमला: मचा कोहराम, हमलावर का सऊदी अरब से कनेक्शन

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – Newstrack App

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App