भारत ने चीन की ओर किया इस खतरनाक तोप का मुंह, अब होकर रहेगा युद्ध!

सीमा पार के दुश्मन से मुकाबला करने के लिए सेना भी सैनिकों के लिए नए आश्रय और पूर्वनिर्मित संरचनाओं का निर्माण करके भयंकर सर्दियों से लड़ने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है।

Published by Aditya Mishra Published: September 27, 2020 | 1:50 pm
Modified: September 27, 2020 | 1:52 pm
TANK

तोप की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच सीमा विवाद का मुद्दा दिनों-दिन उलझता ही जा रहा है। दोनों देशों की तरफ से कई दौर की वार्ताएं भी हुई लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकला।

जिसके बाद से अब सीमा पर तनाव और भी ज्यादा बढ़ गया है। भारत को आशंका है कि चीन ठण्ड में हमले की साजिश रच रहा है। इसे देखते हुए भारतीय सेना को अभी से ही तैयार रहने को कहा गया है।

भारतीय सेना की बख्तरबंद रेजिमेंट 14,500 फीट से अधिक ऊंचाई पर चीनी सेना का मुकाबला करने को पूरी तरह से तैयार है।

सीमा पार के दुश्मन से मुकाबला करने के लिए सेना भी सैनिकों के लिए नए आश्रय और पूर्वनिर्मित संरचनाओं का निर्माण करके भयंकर सर्दियों से लड़ने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है।

लेह से 200 किलोमीटर दूर पूर्वी लद्दाख के चुमार-डेमचोक क्षेत्र में रविवार को भारतीय सेना ने टैंक और पैदल सेना के वाहनों की एलएसी के पास तैनाती की।

यह भी पढ़ें…मुख्यमंत्री को धमकी: हुआ बड़ा खुलासा, इस शख्स ने कही थी मारने की बात, ये है वजह

Tanker
तोप की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

यह भी पढ़ें…चीन की जाल में फंस गया ये देश, ड्रैगन ने यहां सबकुछ पर कर लिया कब्जा

टी-90 और टी-72 टैंकों को किया गया तैनात

इतना ही नहीं एलएसी पर बीएमपी-2 इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स के साथ टी-90 और टी-72 टैंकों को भी डेप्युट किया गया है। इन्हें पूर्वी लद्दाख में माइनस 40 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में संचालित किया जा सकता है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार भारतीय सेना की मशीनीकृत पैदल के पास किसी भी मौसम की स्थिति और किसी भी इलाके में काम करने का एक्सपीरियंस है। उच्च गतिशीलता गोला बारूद और मिसाइल भंडारण जैसी सुविधाओं की वजह से यह लंबी अवधि तक लड़ाई करने की सामर्थ्य रखती है।

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में भीषण सर्दी पड़ती है। यहां रात में तापमान सामान्य से 35 डिग्री कम होता है और उच्च गति वाली ठंडी हवाएं चलती हैं।

 

Indian Army
भारतीय सेना की फोटो(सोशल मीडिया)

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 14 कॉर्प्स के चीफ ऑफ स्टाफ के मेजर जनरल अरविंद कपूर ने हुए कहा, ‘फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स भारतीय सेना का एकमात्र फॉरमेशन है और दुनिया में भी ऐसे कठोर इलाकों में यंत्रीकृत बलों को तैनात किया गया है। टैंक, पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों और भारी बंदूकों का इस इलाके में रखरखाव करना एक चुनौती है।

चालक दल और उपकरण की तत्परता सुनिश्चित करने के लिए, जवान और मशीन दोनों के लिए समुचित इंतजाम किये गये हैं।’

यह भी पढ़ें…NCB के सवालों से डर गई थीं दीपिका, कड़ाई से पूछताछ में किया ये बड़ा खुलासा

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App