भारत से डरा चीन: अब दुश्मनोंं का पल में होगा खात्मा, सेना कर रही ये काम

चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच भारतीय सेना इजरायली ड्रोन्स हेरोन को लेजर गाइडेड बम, गाइडेड मिसाइलों और एंटी टैंक मिसाइलों से लैस करना चाहती है।

Heron Drones will be upgraded

Heron Drones will be upgraded

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। वहीं, चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच भारतीय सेना इजरायली ड्रोन्स हेरोन को लेजर गाइडेड बम, गाइडेड मिसाइलों और एंटी टैंक मिसाइलों से लैस करना चाहती है। जिससे कि दुश्मन के ठिकानों और आर्मर्ड रेजिमेंट्स को आसानी से तबाह किया जा सके। इस प्रोजेक्ट की एक बार फिर से समीक्षा की गई है।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: अयोध्या में मस्जिद का नाम, योगी सरकार के मंत्री ने दिया सुझाव

90 हेरोन ड्रोन्स को किया जाएगा अपग्रेड

बता दें कि इस प्रोजेक्ट को चीता नाम दिया गया है, जो कि काफी समय से लंबित है। इस प्रोजेक्ट पर 3500 करोड़ रुपये के खर्च का अनुमान है। इस प्रोजेक्ट के तहत भारत की तीनों सेनाओं के करीब 90 हेरोन ड्रोन्स को अपग्रेड करने का काम जाएगा। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, ड्रोन्स में लेजर गाइडेड बम, हवा से जमीन पर और हवा से लॉन्च किए जाने वाले एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों को लोड किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: कांपा मुख्तार अंसारी: पुलिस ने चलाई ताबड़तोड़ गोलियां, नहीं रहा इसका शूटर

Heron drones

दुश्मन के ठिकानों पर की जा सकेगी निगरानी

रक्षा मंत्रालय की हाई लेवल कमिटी जल्द ही इस प्रॉजेक्ट पर विचार करेगी। इसमें रक्षा सचिव अजय कुमार भी शामिल होंगे। अजय कुमार मौजूदा समय में तीनों सेनाओं के लिए सभी पूंजी खरीद के लिए इंचार्ज भी हैं। सेनाओं का प्रस्ताव है कि इन ड्रोन्स को मजबूत सर्विलांस और टोही पेलोड से लैस किया जाए, जिससे कि दुश्मन के ठिकानों की निगरानी की जा सके और आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तबाह किया जा सके।

यह भी पढ़ें: भारत पर खतरा: आतंकी पन्नू की नापाक साजिश, 15 अगस्त से पहले करेगा ये काम

सीमा के अग्रिम इलाकों में की जाएगी इन ड्रोन्स की तैनाती

पूर्वी लद्दाख में सेना और वायुसेना ने चीन सीमा के अग्रिम इलाकों में ड्रोन्स की तैनाती की है। जो यह देखने में मदद कर रहे हैं कि चीनी सैनिक पीछे हट रहे हैं या नहीं। साथ ही इससे उनकी तैनाती क्षमता पर भी नजर रखी जा रही है। बता दें कि भारत के मध्यम ऊंचाई पर उड़ने वाले ड्रोनों के बेड़े में हेरोन्स सहित अधिकतर इजरायली हैं। वहीं, ड्रोन्स को अपग्रेड करने के प्रॉजेक्ट में कई भारतीय ड्रोन्स को भी शामिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: UP के क्रांतिकारी: अंग्रेजों की कर दी थी हालत खराब, देश नहीं भूलेगा ये योगदान

Heron drones2

सैन्य और आतंकरोधी ऑपरेशनों के लिए होगा इस्तेमाल

सूत्रों के मुताबिक, इनके अपग्रेड होने के बाद परंपरागत सैन्य ऑपरेशन के साथ-साथ इन ड्रोन्स का इस्तेमाल आतंकरोधी ऑपरेशनों के लिए भी किया जाएगा। टोही क्षमता में विस्तार के बाद सेना जमीन पर सटीकता से दुश्मनों के ठिकाने का पता लगा सकती है। सेटेलाइट कम्युनिकेशन सिस्टम द्वारा इन्हें दूर से ही नियंत्रित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: गहलोत का हमला: बीजेपी पर बरस पड़े मुख्यमंत्री, कहा लोकतंत्र कमजोर हो रहा

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App