अभी-अभी आर्मी बस में धमाका: एक जवान ने तोड़ा दम, कई घायल

कोरोना से हटकर भी बड़ी खबर मध्य प्रदेश के जबलपुर से सामने आई है। जबलपुर की जीसीएफ फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया है। इस भीषण हादसे में मौके पर एक आर्मी के जवान की जान भी चली गई है। इसके साथ ही 3 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं।

अभी-अभी आर्मी बस में धमाका: एक जवान ने तोड़ा दम, कई घायल

नई दिल्ली। कोरोना से हटकर भी बड़ी खबर मध्य प्रदेश के जबलपुर से सामने आई है। जबलपुर की जीसीएफ फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया है। इस भीषण हादसे में मौके पर एक आर्मी के जवान की जान भी चली गई है। इसके साथ ही 3 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं। जिनमें से एक की हालत बेहद गंभीर बनी है। बता दें कि घायलों का मिल्ट्री अस्पताल में इलाज चल रहा है।

ये भी पढ़े… आ गया कोरोना हेलमेट: हिम्मत हो तो निकल के दिखाओ घर से

सिलेंडर में ब्लास्ट होने का दावा

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, सुरक्षा संस्थान 506 आर्मी बेस वर्कशॉप स्थित जीसीएफ फैक्ट्री के गन रिपेयर सेक्शन में नाइट्रोजन गैस सिलेंडर में ब्लास्ट होने का दावा किया जा रहा है।

ऐसा ही एक भयावह हादसा इससे पहले बीती 19 मार्च को केंद्रीय सुरक्षा संस्थान (ओएफके) में भीषण हादसा हो गया था। इस फैक्ट्री के सेक्शन एफ 2 की बिल्डिंग नंबर 147 में आग लगने से भीषण विस्फोट हो गया और फिर विस्फोट में पूरी बिल्डिंग उड़ गई थी। तब बताया जा रहा था कि जिस समय ये विस्फोट हुआ है उस दौरान सेक्शन और बिल्डिंग में कोई कर्मचारी नहीं था।

पहले भी लग चुकी भीषण आग

बता दें कि ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया के एफ 2 सेक्शन की बिल्डिंग नम्बर 147 मेंं 19 मार्च की रात को भीषण आग लगने से पूरी तरह खाक हो गयी थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आग यहां पर स्क्रेप बमों के सेक्शन में रखे मैंगनीज पाउडर में लगी थी, जो पूरी इमारत में फैल गयी थी।

ये भी पढ़ें… बड़ा बदलाव: बैंक ने ग्राहकों को लॉकडाउन में दी राहत साथ झटका भी

अधिकारी और कर्मचारी नेता भी मौके पर

साथ ही विस्फ़ोट की सूचना मिलते ही जीएम सहित अन्य बड़े अधिकारी और कर्मचारी नेता भी मौके पर पहुंच गए थे। एक दर्जन से ज्यादा दमकल वाहन भी बिल्डिंग में लगी आग को काबू करने में जुट गए थे। इधर सूचना के बाद प्रशासनिक अधिकारी भी फैक्ट्री पहुंच गए।

इस मामले में रांझी एसडीएम मनीषा वास्कले में बताया कि विस्फ़ोट फैक्ट्री के एफ 2 सेक्शन कि बिल्डिंग 147 में हुआ। जिस जगह आग लगी थी वहां पर मेटल का उपयोग किया जाता है। यही वजह है कि आग बुझाने में पानी का उपयोग सावधानी से किया गया। आपको बता दें कि लेकिन हादसा बहुत ही भयानक था, जिसके चलते अभी भी आग को काबू नहीं किया जा सका है।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन हो जाएगा फेल, जाने ऐसा क्यों बोले मुख्यमंत्री