कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव में BJP की बंपर जीत, ये नए विधायक बनेंगे मंत्री

कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत हासिल की है। 15 से 12 सीटों पर बीजेपी ने शानदार जीत हासिल की है। इस जीत के साथ ही विधानसभा में बीजेपी बहुमत के आंकड़े को पार कर लिया है। अब 222 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी के पास 117 विधायक हो गए हैं।

बेंगलुरु: कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत हासिल की है। 15 से 12 सीटों पर बीजेपी ने शानदार जीत हासिल की है। इस जीत के साथ ही विधानसभा में बीजेपी बहुमत के आंकड़े को पार कर लिया है। अब 222 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी के पास 117 विधायक हो गए हैं। इस उपचुनाव के नतीजों से साफ हो गया है कि राज्य में येदियुरप्पा की सरकार बनी रहेगी।

मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि जीतने वाले 12 प्रत्याशियों में से 11 को कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा। मैंने रानीबेन्नूर से जीते बीजेपी प्रत्याशी से वादा नहीं किया था। 11 मंत्री बनाने में कोई समस्या नहीं है। मैं अगले 3-4 दिनों में दिल्ली जाऊंगा और अंतिम रूप दूंगा।

12 सीटों पर बीजेपी की जीत

कर्नाटक में वोटों की गिनती हो रही है। 15 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव में 12 पर बीजेपी ने जीत हासिल कर लिया जबकि कांग्रेस के खाते में दो सीटें गई हैं, तो वहीं एक सीट पर निर्दलीय ने जीत हासिल की है। जेडीएस के खाते में एक भी सीट जाते नहीं गई है।

विश्वासघात नहीं कर पाएंगे कांग्रेस और जेडीएस: पीएम मोदी

कर्नाटक में बीजेपी के शानदार जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज कर्नाटक के लोगों ने सुनिश्चित कर दिया है कि अब कांग्रेस और जेडीएस वहां के लोगों के साथ विश्वासघात नहीं कर पाएंगे। अब कर्नाटक में जोड़-तोड़ नहीं, वहां की जनता ने एक स्थिर और मजबूत सरकार को ताकत दे दी है।

बीजेपी का जश्न

कर्नाटक उपचुनाव में कामयाबी के बाद बीजेपी में जश्न का माहौल है। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अपने बेटे बीवाई विजयेंद्र के साथ जश्न मनाया। दोनों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाई। बीजेपी दफ्तर के बाहर कार्यकर्ता भी जश्न मना रहे हैं।

कांग्रेस ने मानी हार

विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने हार मान ली है। पार्टी नेता डीके शिवकुमार ने कहा कि हमें इन 15 विधानसभा क्षेत्रों के मतदाताओं के जनादेश से सहमत होना होगा। लोगों ने दलबदलुओं को स्वीकार कर लिया है। हमने हार स्वीकार कर ली है, मुझे नहीं लगता कि हमें निराश होना पड़ेगा।

उपचुनावों के मतगणना से पहले राज्य के नेताओं ने मंदिरों और मठों में पूजा कर जीत का आशीर्वाद मांगा। रविवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने भगवान मंजूनाथ का आशीर्वाद लिया।

यह भी पढ़ें…लता मंगेशकर के अस्पताल से घर वापस आने पर दिलीप कुमार ने ऐसे जाहिर की खुशी

कर्नाटक में बीजपी सरकार को सत्ता में बने रहने के लिए पार्टी को 6 से ज्यादा सीटें जीतना जरूरी थीं। विधायकों के पाला बदलने, अयोग्य करार दिए जाने के बाद यहां चुनाव की जरूरत पड़ी थी।

कर्नाटक में अठानी, कगवाड़, गोकक, येलापुर, हिरेकेरूर, रानीबेन्नूर, विजयनगर, चिकबेलापुर, के.आर. पुरा, यशवंतपुरा, महालक्ष्मी लेआउट, शिवाजीनगर, होसाकोटे, के.आर. पेटे, हुनसूर सीट विधानसभा उपचुनाव हुए थे। गौरतलब है कि उपचुनाव 17 सीटों पर होना था, हालांकि दो सीटों पर हाईकोर्ट ने मतदान से रोक लगा दी थी।

यह भी पढ़ें…बदल गया मौसम, उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड, इस दिन बर्फबारी की संभावना

इन सीटों पर हुए उपचुनाव में 61 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ था। 15 विधानसभा सीटों पर कुल 165 उम्मीदवार मैदान में थे जिसमें 126 निर्दलीय और नौ महिलाएं शामिल हैं। बीजेपी और कांग्रेस सभी 15 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा है, जबकि जेडीएस ने 12 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे।

यह भी पढ़ें…हैदराबाद और उन्नाव के बाद अब बिहार में युवती को ज़िंदा जलाया, जानें पूरा मामला

विधानसभा में आंकड़ा

कर्नाटक विधानसभा में कुल 225 सीटें (एक मनोनीत) हैं। जेडीएस-कांग्रेस के 17 विधायक अयोग्य ठहराए गए थे। 2 सीटों मस्की और राजराजेश्वरी से संबंधित याचिकाएं कर्नाटक हाईकोर्ट में पेंडिंग हैं। कर्नाटक हाईकोर्ट ने मई 2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे को लेकर दायर केस की वजह से यहां उपचुनाव पर रोक लगा दी। इसलिए यहां अभी उपचुनाव नहीं हुए हैं। अब उपचुनाव के नतीजों के बाद विधानसभा का वास्तविक संख्याबल 222 हो गया है। इसमें भी स्पीकर मतदान नहीं करता है। अब सदन में 221 सदस्यों हो गए हैं और बीजेपी को बहुमत साबित करने के लिए 111 विधायकों की जरूरत थी और अब पार्टी के पास 217 विधायक हैं।