खेराज हत्याकांड: इस गैंगस्टर को मौत के दो साल बाद मिली उम्र कैद की सजा

खेराज हत्याकांड के मामले में डीडवाना के एडिशनल मजिस्ट्रेट ने सभी आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इस मामले के दूसरे आरोपी और गैंगस्टर मनीष हरिजन की भी हत्या हो चुकी है

जयपुर: राजस्थान के मशहूर डॉन आनंदपाल के एनकाउंटर को दो साल से ज्यादा हो चुके हैं, लेकिन उसके खिलाफ चल रहे मुकदमों पर अब भी कोर्ट का डिसीजन आ रहा है।

एक ऐसे ही मामले पर दो साल बाद फैसला आया है। इस मामले में आनंदपाल समेत छह आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। हालांकि ये सजा सुनने के लिए गैंगस्टर आनंदपाल समेत तीन आरोपी अब जिंदा नहीं बचे हैं।

खेराज हत्याकांड के मामले में डीडवाना के एडिशनल मजिस्ट्रेट ने सभी आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

इस मामले के दूसरे आरोपी और गैंगस्टर मनीष हरिजन की भी हत्या हो चुकी है और तीसरे संपत सुराणा की भी हार्ट अटैक से मौत हो गई है।

चौथा आरोपी मनजीत इस मामले में पहले से अजमेर की सेंट्रल जेल में बंद है। जबकि बाकी दो आरोपी अनिल माली और सुरेंद्र उर्फ सूर्या को पुलिस कोर्ट में लेकर आई।

मशहूर गैंगस्टर आनंदपाल के मरने के बाद पहली बार वह किसी केस में दोषी ठहराया गया है। एक समय आनंदपाल सिंह का खौफ लोगों में इस कदर था कि पुलिसवाले भी उसके नाम से घबराते लगते थे।

ये भी पढ़ें…जुर्माने से ऐसे बचें: ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को ये जान लेना चाहिए

पांच लाख का था इनाम

गैंगस्टर आनंदपाल ने सुनसान इलाके में खेतों के बीच बने एक पुराने किले को अपने ठिकाने बना रखा था। यहां पर जगह –जगह बंकर बने हुए थे। उसके अंदर दीवारों में जगह-जगह छेद किये गये थे।

ताकि अगर सामने से पुलिस या को दुश्मन आ जाये तो उस पर हमला बोला जा सके। पुलिस ने उसके ऊपर 5 लाख का इनाम था।

150 करोड़ से ज्यादा की सम्पत्ति

राजस्थान पुलिस ने आनंदपाल को जिन्दा रहते पकड़ने के लिए हर वो कोशिशें की थी। लेकिन जब उसे कही से भी सफलता मिलती नहीं दिखी तो उसने गैंगस्टर आनंदपाल पर दबाव बनाने के लिए उसकी लगभग 150 करोड़ से ज्यादा की बेनामी जमीनें कुर्क की थीं।

इसके बाद पुलिस की गिरफ्त में आ चुके आनंदपाल के साथियों की निशानदेही पर पुलिस ने इस किले को खोजकर सरकारी संपत्ति घोषित कर दिया था और उस पर सील लगा दी थी।

9 बीघे जमीन पर बना रखा था किला

जैसे-जैसे पुलिस आनंदपाल के करीब पहुंच रही थी, वैसे-वैसे पुलिस को हर रोज आनंदपाल से जुड़ी नई जानकारी मिल रही थीं। पुलिस भी नागौर के लाडनू स्थित फार्म हाउस पर आनंदपाल के उस किले को देखकर हैरान रह गई थी, ऐसा किला लोगों ने इससे पहले केवल फिल्मों में देखा था। आनंदपाल का वो फार्म हाउस 9 बीघा जमीन पर बना हुआ था।

पुलिस को चकमा देने के लिए बनाया था ये प्लान

पुलिस को चकमा देने के लिए आनंदपाल ने अपने ठिकाने को एक पुराने किले का आकार दे रखा था। इस किले में पुलिस या दुश्मनों से लड़ने के गए दीवारों में सुराख की गई थी। ताकि पुलिस या दुश्मन को सामने से आता देख उस पर हमला बोला जा सके।

ये भी पढ़ें…सेना का खुलासा: पाकिस्तान का था ये खतरनाक प्लान, आतंकियों ने कबूला

गर्ल फ्रेंड के साथ सुनसान किले में रहता था आनंदपाल

राजस्थान एसओजी की तरफ से इस मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने बताया था कि आनंदपाल को जमीनों पर अवैध कब्जा करना अच्छा लगता था।

विरोध करने पर लोगों को इसी किले में यातनाएं दी जाती थी। उन्होंने पुलिस की तलाशी के दिनों में आनंदपाल अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ यहां रहता था।

ऐसे हुई थी आनंदपाल की मौत

बात जून 2017 की है। उस समय राजस्थान के सालासर में पुलिस ने मुठभेड़ में गैंगस्टर आनंदपाल को ढेर किया था। मुठभेड़ के दौरान आनंदपाल और उसके दो साथियों ने AK 47 समेत अन्य हथियारों से पुलिस पर करीब 100 राउंड फायर किए थे। इस दौरान आनंदपाल को 6 गोलियां लगी थीं। इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे।

ये भी पढ़ें…पाकिस्तान में फंसी हिंदू लड़की! जबरन कराया गया ऐसा काम