Top

आतंकियों से कांपा पंजाब: अब हुए सीएम के खून के प्यासे, अलर्ट हुआ सुरक्षा विभाग

आतंकी संगठन 'जस्टिस फॉर सिख' (Justice for Sikh) ने विवादास्पद पोस्टर जारी करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) समेत पूर्व उप प्रधानमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) के विरूद्ध मौत का फतवा जारी किया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 2 Nov 2020 6:16 AM GMT

आतंकियों से कांपा पंजाब: अब हुए सीएम के खून के प्यासे, अलर्ट हुआ सुरक्षा विभाग
X
पंजाब सीएम और भाजपा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के लिए जारी हुए फतवे के इस मामले को गंभीरता से देख रही हैं। ऐसे में भारत सरकार और जांच व खुफिया एजेंसी दोनों की सुरक्षा से जुड़े सभी मसलो का सतर्कता के साथ मॉनिटरिंग कर रही हैं।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्‍ली। खालिस्तान आतंकी संगठन ने एक बार फिर से विवादस्पद पोस्टर जारी किया है। जिसके बाद से हड़कंप मच गया है। आतंकी संगठन 'जस्टिस फॉर सिख' (Justice for Sikh) ने विवादास्पद पोस्टर जारी करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) समेत पूर्व उप प्रधानमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) के विरूद्ध मौत का फतवा जारी किया है। जिसके बाद से इस मामले पर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत की खुफिया एजेंसी (IB) सतर्क हो गई हैं।

ये भी पढ़ें... हवा में कार के टुकड़े: हादसे ने मचा दी तबाही, खत्म हुआ पूरा वंश

सभी मसलो का सतर्कता के साथ मॉनिटरिंग

Lal Krishna Advani फोटो-सोशल मीडिया

पंजाब सीएम और भाजपा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के लिए जारी हुए फतवे के इस मामले को गंभीरता से देख रही हैं। ऐसे में भारत सरकार और जांच व खुफिया एजेंसी दोनों की सुरक्षा से जुड़े सभी मसलो का सतर्कता के साथ मॉनिटरिंग कर रही हैं।

असल में बात ये है कि 31 अक्टूबर, 1984 को हुई इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) की हत्या के बाद 1 नवंबर और 2 नवंबर से ही राजधानी में सिख दंगा शुरू हुआ था। इस दंगे में सैकड़ों सिख धर्म के लोगों को मार दिया गया था।

Punjab CM Captain Amarinder Singh फोटो-सोशल मीडिया

ऐसे में आज भी उसी दंगे के नाम पर जस्टिस फ़ॉर सिख संस्था का प्रमुख परविंदर सिंह पन्नू (Gurpatwant Singh Pannun) पंजाब-दिल्ली से लेकर विदेशों में भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है।

ये भी पढ़ें...चीन की नई साजिश: अब यहां बना रहा रेल लाइन, खरबों रुपए करेगा खर्च

विशेष ध्यान देने की आवश्कता

साथ ही हर साल सिख दंगा की बरसी पर आतंकी पन्नू (Gurpatwant Singh Pannun) इसी तरह की धमकियां देता रहता है। पर जिस तरह से बीते कुछ दिनों से ये अमेरिका के शहर न्यूयॉर्क में बैठकर भारत विरोधी गतिविधियों और नेताओं पर हमले की तैयारी और हत्या करने वाले को बदले में इनाम की राशि का ऐलान कर रहा है। ऐसे में भारत सरकार को इस मामले पर विशेष ध्यान देने की आवश्कता है।

ये भी पढ़ें...फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ बड़ी साजिश, यूपी पुलिस ने तीन युवकों को यहां से दबोचा

भड़काने का प्रयास

इसी कड़ी में इंडियन वर्ल्ड फोरम के सेक्रेटरी जनरल पुनीत सिंह चंडोक ने कहा है कि ये आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू (Gurpatwant Singh Pannun) आज तक किसी भी सिख समुदाय के उन दंगा पीड़ितों में से एक लोगों की भी कोई कानूनी मदद या किसी अन्य तरह से कोई नहीं की है, न ही मदद करने का कोई इरादा है, लेकिन दंगा पीड़ितों (riot victim) को भड़काने का प्रयास वो हमेशा से करता रहा है। आगे उन्होंने कहा-ये पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के हाथों कठपुतली बनकर उसी के इशारे पर भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने की कोशिश करता रहता है।

ये भी पढ़ें...28 साल बाद रामलला के घर मनेगी दीपावली, बेहद अद्भुत होगा दीपोत्सव

Newstrack

Newstrack

Next Story