Top

सरकार का बड़ा तोहफा: मिलेगा फायदा ही फायदा, खुश हुए लाखों दुकानदार

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई। जिसमें कई अहम फैसले लिए गए।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 1 Jun 2020 12:48 PM GMT

सरकार का बड़ा तोहफा: मिलेगा फायदा ही फायदा, खुश हुए लाखों दुकानदार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई। जिसमें कई अहम फैसले लिए गए। कैबिनेट मीटिंग में रेहड़ी और पटरी दुकानदारों को राहत देते हुए बड़ी लोन योजना का ऐलान किया गया है। वहीं शहरी आवास मंत्रालय ने विशेष सूक्ष्म ऋण योजना की शुरूआत की है।

योजना के तहत इन दुकानदारों को मिलेगा लोन

इस योजना के तहत छोटे दुकाने चलाने वाले या रेहड़ी पटरी पर दुकान लगाने वाले आसानी से लोग ले सकेंगे। यह योजना लंबे समय तक चलेगी। ऐसा कहा जा रहा है कि इस एलान से 50 लाख से ज्यादा दुकानदारों को फायदा मिलेगा। मोदी कैबिनेट की बैठक में MSMEs को लेकर भी कई ऐतिहासिक फैसले लिए गए।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान का हाल बुरा: आतंकियों के नीच इरादे हुए फेल, सेना ने सिखाया सबक

MSMEs को लेकर हुए कई ऐतिहासिक फैसले

MSMEs के साथ रेहड़ी पटरी पर दुकान लगाने वालों के लिए भी अहम फैसले लिए गए हैं। देश भर में मौजूदा समय में छह करोड़ से ज्यादा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSMEs) हैं। कोरोना वायरस के बाद इस सेक्टर की अहमियत समझते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSMEs के लिए आवंटन का फैसला किया है।

20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर पैकेज के तहत रोडमैप जारी किया है। कोरोना वायरस के चलते मुश्किल दौर का सामना कर रही MSMEs को 20 हजार करोड़ रुपये के पैकेज को मंजूर किया गया है। इसमें कंपनियां लिस्ट हो कर पैसा इकट्ठा कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: कलयुगी मां का कुकर्म: पर्दा डालने के लिए किया खौफनाक काम, घोटा ममता का गला

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि MSMEs के लिए 50 हजार करोड़ रुपये के इक्विटी निवेश (Equity investment) की घोषणा की गई है। ऐसा पहली बार हुआ है। इसमें कंपनियां मार्केट मे लिस्ट हो कर पैसा इकट्ठा कर सकती हैं।

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने बताया कि आत्मनिर्भर भारत के लिए कई तरह फैसले लिए गए। उन्होंने बताया कि एमएसएमई की परिभाषा को और संशोधित किया गया है।

सरकार की तरफ से चलाया जाएगा जागरूकता कार्यक्रम

इस योजना का फायदा ज्यादा से ज्यादा रेहड़ी दुकानदारों तक पहुंच सके, इसलिए सरकार की तरफ से बड़े स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाएगा। इस जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से रेहड़ी पटरी दुकानदारों को लोन कैसे मिलेगा, कहां मिलेगा और इसके लिए क्या शर्तें होंगी, इस बारे में बताया जाएगा।

यह भी पढ़ें: चीन की तलाश शुरू: अब खोजने जा रहा इसको, सबसे बड़े टेलिस्कोप की लेगा मदद

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story