कोरोना के खिलाफ देश के संघर्ष में RIL कर्मचारी ‘अग्रणी योद्धा’ बने हैं: मुकेश अंबानी

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैनल मुकेश अंबानी ने आरआईएल के कर्मचारियों को लॉकडाउन के दौरान देश की जीवनरेखा संभालने वाला ‘अग्रणी योद्धा’ बताया,

नई दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैनल मुकेश अंबानी ने आरआईएल के कर्मचारियों को लॉकडाउन के दौरान देश की जीवनरेखा संभालने वाला ‘अग्रणी योद्धा’ बताया, जो इस मुश्किल समय में दूरसंचार से लेकर खुदरा स्टोर और पेट्रोल पंपों को संचालित कर रहे हैं ताकि आम लोगों को कोई मुश्किल पेश ना आए। इसके साथ ही उन्होंने फिर कहा है कि कोविड-19 संकट से निटपने के प्रयास में रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) अपनी ओर से महत्वपूर्ण योगदान कर रही है।

तेल से लेकर टेलीकॉम तक अलग अलग क्षेत्रों में कार्यरत समूह के दो लाख से अधिक कर्मचारियों के लिए एक मेलर में, देश के सबसे अमीर व्यक्ति ने कहा कि वह आधुनिक इतिहास में सबसे बड़ी मुश्किल के समय में हालात का सामना करने के लिए असाधारण स्तर की प्रतिबद्धता दिखाने वाले उनमें से प्रत्येक के प्रति दिल से आभार व्यक्त किया।

देश में कोरोना वायरस महामारी के चलते जारी 21 दिनों के बंद के दौरान 130 करोड़ देशवासियों में ज्यादातर अपने घरों में हैं। रिलायंस टेलीकॉम की शाखा जियो लगातार 40 करोड़ लोगों को वायस कॉलिंग और इंटरनेट सेवाएं मुहैया करा रही है।

यह भी पढ़ें…कोरोना का कहर, देश को हो रहा रोज इतने अरब डॉलर का नुकसान

रिलायंस रिटेल लाखों लोगों को खाद्य और अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कर रही है, रिलायंस लाइफ साइंसेज कोविड-19 के परीक्षण की क्षमता बढ़ा रही है और मुंबई में सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल ने कोरोना वायरस के इलाज के सिर्फ 10 दिनों में 100 बेड तैयार किए हैं।

इसके अलावा कंपनी कि रिफाइनरी से लगातार ईंधन और अन्य पेट्रोलियम वस्तुओं का उत्पादन जारी है और पेट्रोकेमिकल प्लांट ऐसे उत्पादों का मंथन करते रहते हैं, जिनमें दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाले उत्पाद शामिल हैं।

कर्मचारियों को चार अप्रैल को भेजे गए एक आंतरिक ईमेल में उन्होंने आरआईएल कर्मचारियों और उनके आश्रितों के लिए कोविड-19 की जांच और उपचार की सुविधाओं के बारे में बताया। और यह भी कि रिलायंस लाइफ साइंसेज की नई कोविड-19 परीक्षण क्षमताओं को जल्द ही समुदाय के लिए पेश किया जाएगा।  उन्होंने कर्मचारियों के विचारों को व्यक्त करने और आदान-प्रदान करने के लिए ‘माई वॉयस’ प्लेटफॉर्म के शुभारंभ की भी घोषणा की।

यह भी पढ़ें…मोहम्मद कैफ के मोमबत्ती जलाने पर आगबबूला हुए मौलना, कहा- मुसलमानों को मत करो बदनाम

अंबानी ने लिखा कि इन सभी प्रयासों का समर्थन करना, रिलायंस से इंजीनियरिंग, निर्माण, कॉर्पोरेट सेवाओं, मानव संसाधन, वित्त, वाणिज्यिक और सुरक्षा सेवाओं तक कई कार्य हैं। उन्होंने कहा कि समूह के कर्मचारी इन कठिन परिस्थितियों के माध्यम से रिलायंस को उत्पादक बनाए रखने में एक भूमिका निभा रहे हैं।

अंबानी ने कहा, ‘‘मेरा दृढ़ विश्वास है कि हमारे प्रत्येक सहकर्मी को ‘अग्रणी योद्धा’ के रूप में सम्मानित किया जाना चाहिए।’’मैं देश और कंपनी के प्रति आपकी प्रतिबद्धता और सेवा के लिए दिल से आप सभी की सराहना करता हूं।’’

अंबानी ने कहा कि कंपनी का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है, लेकिन तब तक आराम नहीं किया जा सकता है, जब तक भारत कोरोना वायरस आपदा पर पूरी तरह से विजय प्राप्त नहीं कर लेता है।

यह भी पढ़ें…लोगों की लापरवाही ने सरकार के प्रयासों पर फेरा पानी, बढ़ रहे कोरोना वायरस के केस

उन्होंने कहा कि ‘‘सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट अकेले चुनौतीपूर्ण है, लेकिन हमारे हाथों में आर्थिक और मानवीय संकट को भी संबोधित किया जाना चाहिए। रिलायंस परिवार में आप में से प्रत्येक के पास भारत को सुरक्षित, स्वस्थ और मजबूत बनाने की शक्ति है।’’

अंबानी ने कहा कि आरआईएल के सामूहिक प्रयासों की सराहना खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की और कहा कि हमें इस भरोसे पर खरा उतरना चाहिए कि उन्होंने रिलायंस फैमिली का प्रतिनिधित्व किया है।

उन्होंने कहा कि ‘‘हम एक विशेष जिम्मेदारी लेते हैं क्योंकि हमारे सभी वर्तमान व्यवसाय और रिलायंस फाउंडेशन की सभी मौजूदा गतिविधियां कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई के लिए ‘आवश्यक सेवाओं’ के दायरे में आती है।’’

उन्होंने कहा कि भारत के लिए आरआईएल की प्रतिबद्धता इसका आदर्श वाक्य है: हैशटैग कोरोना हारेगा इंडिया जीतेगा और इसके साथ ही आरआईएल कर्मचारियों और उनके परिवार के कल्याण के लिए अपनी प्रतिबद्धता बनाए रखेगा।

यह भी पढ़ें…रिश्तों की जो डोर हो गई है कमजोर, लॉकडाउन के दौरान उनको ऐसे करें मजबूत

उन्होंने कर्मचारियों को सुरक्षित सामाजिक गड़बड़ी का अभ्यास जारी रखने की सलाह दी, आरआईएल के कंपनी-व्यापी ऑनलाइन सिप्टम चैकर पर प्रतिदिन रिपोर्ट करें कि वे सभी कर्मचारियों और उनके आश्रितों के स्वास्थ्य पर नज़र रखें और आभासी देखभाल के लिए इन-हाउस प्रौद्योगिकी प्लेटफार्मों का उपयोग करें।

सिप्टम चैकर के बारे में उन्होंने कहा कि एक एंड टू एंड कोविड-19 प्लेटफॉर्म भी प्रस्तुत किया गया है जो कि स्वास्थ्य और भलाई के कर्मचारियों और परिवार के सदस्यों को प्रबंधित करने के लिए न केवल लक्षणों की दैनिक स्व-निगरानी की सुविधा प्रदान करता है, बल्कि यदि जरूरी हो तो तत्काल ध्यान देने के लिए आपातकालीन चिकित्सा प्रतिक्रिया की शुरुआत करता है। यह समाधान रिलायंस के सभी कर्मचारियों और परिवार के सदस्यों के लिए उपलब्ध था और जल्द ही इसे मुंबई और भारत में व्यापक समुदाय में लाया जाएगा।

यह भी पढ़ें…कोरोना के आज 120 नए केस सामने आए, राज्य में 868 पॉजिटिव केस: महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग

अंबानी ने घोषणा की कि रिलायंस लाइफ साइंसेज ने कोविड-19 के लिए अपने स्वयं के कन्फमेट्री टेस्ट्स  विकसित किए हैं, जो प्राथमिकता के आधार पर सभी आरआईएल कर्मचारियों के लिए उपलब्ध हैं और जल्द ही समुदाय में पेश किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ‘‘एक साथ, मुझे पूरा विश्वास है कि हम इस कठिन समय को पार कर पाएंगे और सुरक्षित रूप से स्वास्थ्य और एक बड़े रिलायंस परिवार के रूप में उभरेंगे।’