फिर टलेगी निर्भया के दोषियों की फांसी! क्यूरेटिव याचिका दाखिल कर अब की ये मांग

निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड में चारों दोषियों की फांसी की सजा लगातार दो बार टल चुकी है, वहीं दोषी लगातार ऐसे प्लान बना रहे हैं, जिससे फांसी से बचा जा सके।

Published by Shivani Awasthi Published: February 28, 2020 | 3:58 pm
Modified: February 28, 2020 | 4:02 pm
निर्भया केस: अब नहीं बचेंगे दोषी, जारी हुआ नया डेथ वारंट

निर्भया केस: अब नहीं बचेंगे दोषी, जारी हुआ नया डेथ वारंट

दिल्ली: निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड में चारों दोषियों की फांसी की सजा लगातार दो बार टल चुकी है, वहीं दोषी लगातार ऐसे प्लान बना रहे हैं, जिससे फांसी से बचा जा सके। अब निर्भया के दोषी पवन गुप्ता ने एक ऐसा कदम उठाया है, जिसके बाद 3 मार्च को होने वाली फांसी एक बार फिर टल जायेगी।

दोषी पवन ने दाखिल की क्यूरेटिव याचिका

दरअसल, निर्भया हत्याकांड के दोषी पवन गुप्ता ने कोर्ट में क्यूरेटिव पेटिशन दायर की है। उसने फांसी की सजा को उम्र कैद में बदलने की माँग की है। ऐसे में अगर पवन की याचिका पर 3 तारीख से पहले फैसला नहीं आता तो फांसी तीसरी बार टल जायेगी और दोषियों को समय मिल जाएगा।

ये भी पढ़ें: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 2020: भारत के लिए बहुत ख़ास, महिलाओं के नाम आज का दिन

गौरतलब है कि निर्भया केस में ही केंद्र और दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है, जिसकी सुनवाई भी फांसी की तारीख के बाद यानी 5 मार्च को होनी है। इस याचिका में दोषियों को अगल अलग फांसी दिए जाने की मांग की गयी है।

अब 5 मार्च को होगी अगली सुनवाई

निर्भया के चारों दोषियों को एक साथ फांसी देने के दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र व दिल्ली सरकार की याचिका पर अब 5 मार्च को सुनवाई होगी। जबकि दिल्ली की अदालत ने पहले ही निर्भया के चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी कर दिया है। जिसके अनुसार चारों दोषियों को 3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी दी जानी है। पिछले हफ्ते जस्टिस भानुमति के अवकाश पर होने के चलते इस याचिका पर सुनवाई नहीं हो पाई थी।

ये भी पढ़ें: लापता हार्दिक पटेल को SC से बड़ी राहत: अब नहीं जाएंगे जेल

केंद्र सरकार ने अलग-अलग फांसी देने की कही है बात

बता दें कि केंद्र सरकार ने अपनी इस याचिका में कहा है कि चारों दोषी फांसी को टालने के मकसद से अपने-अपने कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल कर रहे हैं। चारों दोषी कानून के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। केंद्र सरकार की तरफ से गुहार लगाई गई है कि जिन दोषियों के कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं, उन्हें फांसी दी जाए।

केंद्र सरकार ने कोर्ट से चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की मांग की है। वहीं इससे पहले, हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि चारों दोषियों को एक साथ ही फांसी दी जाएगी। अदालत की तरफ से चारों दोषियों को सभी उपलब्ध विकल्प इस्तेमाल करने के लिए एक हफ्ते का वक्त दिया गया था।

यह भी पढ़ें: बड़ा बेज्जत पाकिस्तान: अब भारत के खिलाफ चल रहा ये नई चाल

दोषियों के खिलाफ जारी हुए तीसरा डेथ वारंट

वहीं दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप और हत्या के चारों दोषियों के खिलाफ तीसरा डेथ वारंट जारी कर दिया है। अब चारों दोषियों मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार को 3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी। बता दें कि इससे पहले भी दो बार चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया जा चुका है। लेकिन दोषियों के दोनों बार फांसी टल गई थी, क्योंकि दोषियों के सारे कानूनी विकल्प खत्म नहीं हुए थे।

इससे पहले दो बार टल चुकी है फांसी

कोर्ट ने इससे पहले निर्भया के दोषियों को फांसी देने के लिए 22 जनवरी की तारीख सुनिश्चित की थी, लेकिन 17 जनवरी को अदालत के बाद इसे टाल दिया गया और फिर नई तारीख आई जो थी 1 फरवरी। उसके बाद 31 जनवरी को निचली अदालत ने अगले आदेश तक चारों की फांसी की सजा पर रोक लगा दी गई थी। क्योंकि उस वक्त तक भी उनके सारे कानूनी विकल्प खत्म नहीं हुए थे।

दोषी अपना रहे अलग-अलग पैतरे

अब दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने तीसरा डेथ वारंट जारी किया है। जिसके अनुसार 3 मार्च को सुबह 6 बजे निर्भया के सभी दोषियों को फांसी दी जानी है। बता दें कि दोषी फांसी को टालने के लिए अलग-अलग पैंतरे अपना रहे हैं। कोई अपनी मानसिक स्थिति ठीक न होने की बात कर रहा है तो कोई स्टेपल पिन निगलने की कोशिश में लगा है, ताकि किसी भी तरह से फांसी टल सके।

ये भी पढ़ें: 300 साल के योगी: समाधी में थे लीन, इस हाल में निकाले गए बाहर