अब इस दिन होगी निर्भया के दोषियों को फांसी! गृह मंत्रालय ने उठाया बड़ा कदम

हैदराबाद में महिला डॉक्टर से गैंगरेप और हत्या के सभी चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया। पुलिस आरोपियों को एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी। पुलिस ने बताया कि चारों आरोपियों ने मौके से फरार होने की कोशिश की।

नई दिल्ली: हैदराबाद में महिला डॉक्टर से गैंगरेप और हत्या के सभी चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया। पुलिस आरोपियों को एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी। पुलिस ने बताया कि चारों आरोपियों ने मौके से फरार होने की कोशिश की। पुलिस ने चारों आरोपियों को ढेर कर दिया। अब इन आरोपियों के एनकाउंटर के बाद सवला खड़ा हो गया है कि आखिर निर्भया के दोषियों को फांसी कब होगी?

यह भी पढ़ें…फिर जली दो बेटियां: दहला पूरा देश, आखिर कब थमेगी हैवानियत की ये आंधी

अब इस बीच बड़ी निर्भया केस में बड़ी खबर आई है। इसमें गृह मंत्रालय ने दोषी द्वार दायर दया याचिका को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेजा है। गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति से इस याचिका को खारिज करने की भी गुजारिश की है। बता दें कि याचिका कि यह फाइल दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास गृह मंत्रालय पहुंची थी। दिल्ली सरकार ने पहले ही इस याचिका को खारिज कर चुकी है।

मंत्रालय का अपनी सिफारिश राष्ट्रपति को भेजना प्रक्रिया का हिस्सा है। अब राष्ट्रपति दया याचिका पर फैसला लेंगे। अगर राष्ट्रपति दया याचिका खारिज कर देते हैं तो दोषी को फांसी पर लटकाने का रास्ता साफ होता है। याचिका खारिज होने के बाद संबंधित कोर्ट इन चारों को फांसी पर लटकाए जाने के लिए डेट वॉरंट जारी करेगा।

यह भी पढ़ें…हैदराबाद एनकाउंटर: तेलंगाना पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर किया ये बड़ा खुलासा

अब अटकलें लग रही हैं कि निर्भया के दोषियों को जल्द फांसी हो सकती है। मेरठ का रहने वाले जल्लाद पवन ने बताया कि मैं एकदम तैयार बैठा हूं। निर्भया के मुजरिमों के डेथ-वारंट मिलते ही मैं तिहाड़ जेल चला जाऊंगा। पवन ने बताया कि वह 8 दिसंबर को दिल्ली जा रहा है और 10 दिसंबर तक दिल्ली में रहूंगा। तीन दिन तक दिल्ली में रहेगा। लेकिन उसने कहा कि वह एक शादी में दिल्ली जा रहा है। संभावना जता रही है कि निर्भया के दोषियों को इस बीच फांसी हो सकती है।

यह भी पढ़ें…यूपी में होगा एनकाउंटर! पुलिस रेप आरोपियों को उतारेगी मौत के घाट?

अगर ऊपर दी गई तारीखों में दोषियों को फांसी नहीं होती है तो दूसरी संभावना है कि चारों दोषियों को 16 दिसंबर को ही फांसी पर दी जा सकती है। क्योंकि 16 दिसंबर 2012 को हैवानों ने निर्भया गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने कहा कि चारों कैदियों को आगामी 16 दिसंबर को ही फांसी पर लटकाया जाएगा या नहीं। इस बारे में फिलहाल वह कुछ नहीं कह सकते। लेकिन इतना तय है कि जैसे ही इनकी दया याचिका राष्ट्रपति से खारिज की जाएगी। वैसे ही जेल प्रशासन इन्हें फांसी पर लटकाने के लिए तैयारियां शुरू कर देगा।